न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मालेगांव विस्फोट कांड से चर्चित साध्वी प्रज्ञा ठाकुर भाजपा में शामिल, दिग्विजय सिंह के खिलाफ चुनाव लड़ने के कयास

साध्वी प्रज्ञा मध्य प्रदेश के एक मध्यमवर्गीय परिवार से आती हैं. वे संघ व विहिप से जुड़ी और फिर बाद में संन्यास धारण कर लिया. 2008 में हुए मालेगांव बम विस्फोट में उन्हें गिरफ्तार किया गया था. हाल ही में वे दोषमुक्त हुई हैं.

143

Bhopal : साध्वी प्रज्ञा ठाकुर सिंह  बुधवार को औपचारिक रूप से भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गयीं. सूत्रों की मानें तो मध्य प्रदेश की भोपाल लोकसभा सीट से कांग्रेस के दिग्विजय सिंह के खिलाफ साध्वी प्रज्ञा भाजपा की उम्मीदवार हो सकती है.   साध्वी  के भाजपा कार्यालय पहुंचते ही भोपाल सीट से उनकी उम्मीदवारी को लेकर भी अटकलें तेज हो गयी हैं. बताया जा रहा है कि साध्वी प्रज्ञा के नाम पर भाजपा के भोपाल कार्यालय में बंद कमरे में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से चर्चा हो हुई है.  इस बैठक में रामलाल, शिवराज सिंह सुहास भगत, अनिल जैन, प्रभात झा सहित अन्य नेता मौजूद थे. हालांकि, भाजपा द्वारा भोपाल सीट पर उम्मीदवार के ऐलान का इंतजार किया जा रहा है. जानकारों के अनुसार भाजपा साध्वी प्रज्ञा पर दांव खेल सकती है.

mi banner add

इसे भी पढ़ें- सुप्रीम कोर्ट ने छह लाख करोड़ के भ्रष्टाचार मामले में झारखंड को भेजा नोटिस

मालेगांव बम विस्फोट में साध्वी को गिरफ्तार किया गया था

मालेगांव विस्फोट कांड की वजह से सुर्खियों में आयी साध्वी प्रज्ञा सिंह का नाम ज्यादा चर्चा में था. साध्वी प्रज्ञा ठाकुर मध्य प्रदेश के एक मध्यमवर्गीय परिवार से आती हैं. परिवारिक पृष्ठभूमि के चलते वे संघ व विहिप से जुड़ी और फिर बाद में संन्यास धारण कर लिया. 2008 में हुए मालेगांव बम विस्फोट में उन्हें गिरफ्तार किया गया था. हाल ही में वे दोषमुक्त हुई हैं. भोपाल लोकसभा सीट पर करीब तीन दशक से भाजपा काबिज है. देश के राष्ट्रपति  रहे कांग्रेस नेता शंकर दयाल शर्मा ने 1984 में इस सीट पर जीत दर्ज की थी. 1989 से लेकर भाजपा के सुशील चंद्र वर्मा ने तीन बार यहां जीते. 1999 में उमा भारती यहां से जीतीं.

Related Posts

इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस ने पाकिस्तान के जेल में बंद कुलभूषण जाधव की फांसी पर रोक लगायी

अदालत के प्रमुख न्यायाधीश अब्दुलकावी अहमद यूसुफ मे फैसला पढ़कर सुनाया. 16 में से 15 जज, भारत के हक में थे.

वर्तमान में अशोक सांझर भोपाल से सांसद हैं. दिग्विजय सिंह ने यहां से चुनाव लड़ने के लिए हामी तब भरी जब मुख्‍यमंत्री कमलनाथ ने उनहें सबसे कठिन सीट से चुनाव लड़ने की चुनौती दी. मुख्यमंत्री कमलनाथ ने दिग्विजय की उम्मीदवारी का ऐलान कर दिया था. कमलनाथ के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए दिग्विजय ने कहा था कि वो राजगढ़ से लड़ना चाहेंगे लेकिन साथ ही ये भी जोड़ दिया कि पार्टी जैसा निर्देश देगी वो उसका पालन करेंगे. दिग्विजय दो बार राजगढ़ से सांसद रह चुके हैं.

इसे भी पढ़ें- मोदी लहर खत्म? क्यों पोलस्टर्स बीजेपी के लिए भविष्यवाणियां कर रहे हैं…

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: