JharkhandLead NewsRanchi

सदर सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल : हाईकोर्ट की आंख में धूल झोंक रहे ठेकेदार

Ranchi: सदर हॉस्पिटल सुपरस्पेशियलिटी के संचालन को लेकर हाईकोर्ट रेस है. जहां पर 500 बेड का हॉस्पिटल सुपरस्पेशियलिटी सुविधाओं से लैस होगा. लेकिन हॉस्पिटल में काम कर रही एजेंसी पिछले कई महीनों से काम में देरी किए जा रही है. इतना ही नहीं अपना नाम बचाने के लिए ठेकेदार ने हाईकोर्ट की आंख में भी धूल झोंकना शुरू कर दिया है. ये हम नहीं बल्कि हाईकोर्ट में एजेंसी की और से फाइल की गई एफिडेविट कह रही है. जहां एजेंसी कई विभागों को हॉस्पिटल प्रबंधन को हैंडओवर करने का दावा किया गया है. जबकि अधिकारी इससे साफ इंकार कर रहे है. जिससे समझा जा सकता है कि एजेंसी को कार्रवाई का कोई डर नहीं है. बताते चलें कि सदर हॉस्पिटल की नई बिल्डिंग का काम 2007 में शुरू हुआ था.

एफिडेविट में बता दिया हैंडओवर

Catalyst IAS
ram janam hospital

हॉस्पिटल में 4.70 करोड़ रुपए की लागत से सोलर सिस्टम लगाया जा रहा है. एजेंसी ने इसे कंप्लीट करने के बाद हैंडओवर देने की बात कही है. वहीं इसे कंप्लीट करने की तारीख भी दो महीने पहले की बताई है. लेकिन प्रबंधन को यह लिखित रुप में नहीं मिला है. वहीं हॉस्पिटल में 4.47 करोड़ रुपए की लागत से लाउंड्री का काम पूरा करते हुए हैंडओवर की बात एफिडेविट में कही गई है. जबकि यह भी हैंडओवर नहीं किया गया है.

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

स्टेटस पर एजेंसी और हॉस्पिटल प्रबंधन

विवरण                                                 एजेंसी                                 हॉस्पिटल प्रबंधन
सोलर सिस्टम                                 कंप्लीड, हैंडओवर                अबतक नहीं मिला
मेकेनाइज्ड लाउंड्री                        कंप्लीट, हैंडओवर                     नहीं मिला
हॉस्पिटल किचन                             95 परसेंट काम पूरा                    काम नहीं हुआ

हॉस्पिटल के डिप्टी सुपरिटेंडेंट डॉ एस मंडल ने इस पर कहा कि हमें हैंडओवर नहीं मिला है. काम पूरा होने की बात कही गई है. लेकिन जबतक पूरी तरह से आपरेशन मोड में हैंडओवर न किया जाए तो इसे नहीं ले सकते है.

इसे भी पढ़ें: Ranchi: बिरसा मुंडा स्मृति पार्क के संचालन के लिये ऑपरेटर तलाशने में जुटा JUIDCO  

Related Articles

Back to top button