न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सबरीमाला मंदिर विवाद : स्मृति ईरानी के खिलाफ परिवाद पत्र दायर

अज्ञात लोगों के खिलाफ भादवि की धारा 295 ए, 353, 124 ए, 120 बी आदि के तहत परिवाद पत्र दायर किया है.

20

Sitamarhi : जिले की एक अदालत में केरल के सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को लेकर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के बयान पर उनके खिलाफ गुरूवार को एक परिवाद पत्र दायर किया गया.

अधिवक्ता ठाकुर चंदन सिंह ने मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी सरोज कुमारी की अदालत में स्मृति इरानी और महिलाओं के प्रवेश के विरोध में उक्त मंदिर के सामने प्रदर्शन कर रहे अज्ञात लोगों के खिलाफ भादवि की धारा 295 ए, 353, 124 ए, 120 बी आदि के तहत परिवाद पत्र दायर किया है.

इसे भी पढ़ें : सबरीमला : सभी उम्र की महिलाओं को प्रवेश की अनुमति के विरोध में प्रदर्शन, पुलिस ने हटाया, मंदिर खुलने…

उच्चतम न्यायालय के आदेश का अनादर

सिंह ने अपने परिवाद में आरोप लगाया कि स्मृति इरानी का पूरी नारी जाति को अपवित्र कहना महिलाओं की मर्यादा के खिलाफ और यह उच्चतम न्यायालय के आदेश का अनादर है.

उल्लेखनीय है क‍ि उच्चतम न्यायालय ने सबरीमाला मंदिर में सभी आयु वर्ग के महिलाओं को प्रवेश की अनुमति दी थी लेकिन न्यायालय के फैसले का विरोध हो रहा है.

इसे भी पढ़ें : डायमंड किंग सावजी भाई ढोलकिया ने कर्मचारियों को तोहफे में 600 कारें बांटी

पूजा करने के अधिकार का मतलब आपको अपवित्र करने का नहीं : स्मृति

केरल के सबरीमाला मंदिर में सभी आयु वर्ग की महिलाओं के प्रवेश को अनुमति देने वाले उच्चतम न्यायालय के आदेश के खिलाफ प्रदर्शनों के बीच केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने मंगलवार को कहा था कि पूजा करने के अधिकार का मतलब आपको अपवित्र करने का अधिकार मिल जाना नहीं है.

ईरानी ने कहा कि मैं उच्चतम न्यायालय के आदेश के खिलाफ बोलने वाली कोई नहीं हूं क्योंकि मैं एक कैबिनेट मंत्री हूं. लेकिन यह एक साधारण-सी बात है कि क्या आप माहवारी के खून से सना नैपकिन लेकर चलेंगे और किसी दोस्त के घर में जाएंगे. आप ऐसा नहीं करेंगे.

इसे भी पढ़ें : सीबीआई में भ्रष्टाचार : एनजीओ कॉमन कॉज ने SC में याचिका दायर की,  एसआइटी जांच की मांग की  

उन्होंने कहा कि क्या आपको लगता है कि भगवान के घर ऐसे जाना सम्मानजनक है? यही फर्क है. मुझे पूजा करने का अधिकार है लेकिन अपवित्र करने का अधिकार नहीं है. यही फर्क है कि हमें इसे पहचानने तथा सम्मान करने की जरुरत है.

स्मृति ब्रिटिश उच्चायोग और आब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन की ओर से आयोजित यंग थिंकर्श कान्फ्रेंस में बोल रही थीं.

प्रवेश पर लगा प्रतिबंध हटा

उच्चतम न्यायालय की पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने 28 सितंबर को मंदिर में माहवारी आयु की (10 से 50 वर्ष) महिलाओं के प्रवेश पर लगा प्रतिबंध हटा दिया था.

इसे भी पढ़ें : सीबीआई में कौन था माल्या का मददगार? राकेश अस्थाना की जांच से सच सामने आ सकता था

शीर्ष न्यायालय के फैसले के खिलाफ प्रदर्शनों के चलते महिलाओं को सबरीमला मंदिर में जाने से रोक दिया गया. सबरीमाला मंदिर की पुरानी परंपरा के अनुसार 10 से 50 वर्ष की महिलाओं को मंदिर में प्रवेश की अनुमति नहीं थी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.


हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: