न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सबरीमाला विवाद पर सीपीएम का आरोप, तालिबानी व्यवहार कर रहा है आरएसएस

सबरीमाला मंदिर को लेकर केरल में उबाल जारी है. बदलते हुए घटनाक्रम के बीच सीपीएम पोलित ब्यूरो के सदस्य एस रामचंद्रन पिल्लई ने आरएसएस पर निशाना साधते हुए कहा है कि संघ तालिबान और खालिस्तानी जैसे आतंकी संगठनों की तरह व्यवहार कर रहा है

14

Thiruvananthpuram : सबरीमाला मंदिर को लेकर केरल में उबाल जारी है. बदलते हुए घटनाक्रम के बीच सीपीएम पोलित ब्यूरो के सदस्य एस रामचंद्रन पिल्लई ने आरएसएस पर निशाना साधते हुए कहा है कि संघ तालिबान और खालिस्तानी जैसे आतंकी संगठनों की तरह व्यवहार कर रहा है.  रामचंद्रन पिल्लई ने यह बयान ऐसे समय में आया है, जब केरल की पिनरायी विजयन सरकार सबरीमाला मंदिर में महिलाओं की एंट्री कराने के SC का आदेश लागू करवाना है और भाजपा, कांग्रेस समेत कई हिंदू संगठन इसका लगातार विरोध कर रहे हैं.  भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीआईएम) के पोलित ब्यूरो सदस्य एस रामचंद्रन पिल्लई ने कहा कि आरएसएस के लोग सबरीमाला मंदिर में समस्या क्यों खड़ी कर रहे हैं? उन्हें हर चीज शांतिपूर्वक करने की इजाजत है, लेकिन वे ऐसा नहीं कर रहे हैं. इस बीच हाईकोर्ट ने राज्य सरकार से आदेश को लागू करने संबंधी तैयारियों के बारे में जानकारी मांगी है. साथ ही यह सवाल भी पूछा है कि आप भक्त और प्रदर्शनकारियों के बीच किस तरह से अंतर कर रहे हैं. इस बीच खबर है कि कांग्रेस की अगुवाई वाले यूडीएफ का एक प्रतिनिधिमंडल राज्यपाल से मिलने वाला है. दूसरी ओर, भाजपा की राज्य ईकाई के महासचिव के सुंदरम की जमानत याचिका पर आज सुनवाई हो सकती है. हालांकि अगर उन्हें जमानत मिलती है तो भी वह रिहा नहीं होंगे क्योंकि उन पर डिप्टी एसपी और एक अन्य अधिकारी को धमकी देने के आरोप में एक अन्य केस भी चल रहा है.

 अयप्पा स्वामी के भक्तों के साथ कैदियों की तरह व्यवहार किया जा रहा है

इससे पूर्व केरल के मुख्यमंत्री पिनरायी विजयन पर निशाना साधते हुए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने मंगलवार को ट्वीट के जरिए आरोप लगाया था कि भगवान अयप्पा स्वामी के भक्तों के साथ कैदियों की तरह व्यवहार किया जा रहा है. भाजपा अध्यक्ष ने अपने ट्वीट में कहा कि कहा जा रहा है कि श्रद्धालुओं को कूड़े के ढेर और सुअरों के रहने की जगह पर रात बिताने के लिए मजबूर किया जा रहा है. अमित शाह ने दूसरे ट्वीट में कहा, पिनरायी विजयन सरकार जिस तरह सबरीमला के संवेदनशील मामले को ले रही है, वह निराशाजनक है. केरल पुलिस युवा लड़कियों, माताओं और बुजुर्गों के साथ अमानवीय व्यवहार कर रही है. खाना, आश्रय, पानी और स्वच्छ शौचालय जैसी बुनियादी सुविधाओं के बिना उन्हें कठिन तीर्थ यात्रा के लिए मजबूर कर रही है.

silk_park

मुख्यमंत्री विजयन ने अमित शाह के ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए इसे व्यर्थ वाला और भटकाने वाला करार दिया. उन्होंने कहा कि श्रद्धालुओं को सुगम व्यवस्था मुहैया कराई जा रही है. श्रद्धालु हमारी व्यवस्था से संतुष्ट हैं. व्यवस्था से संघ परिवार को असुविधा हो रही है. साथ ही मानवाधिकार आयोग ने भी साफ कर दिया है कि इस साल श्रद्धालुओं के लिए यहां कोई समस्या नहीं है.

इसे भी पढ़ेंःसीबीआइ की लड़ाई में केंद्र के इन ताकतवर लोगों के दामन पर भी लग रहा दाग

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: