Lead NewsNationalWorld

Russia Ukraine war: यूक्रेन का दावा- तुर्की के ड्रोन से उड़ाए रूस के 100 टैंक और 20 सैन्य वाहन

तुर्की ने जंग में शामिल देशों के सैन्य जहाजों की Mediterranean से ब्लैक सी में एंट्री बैन की

Ukraine : यूक्रेन में जारी रूसी हमलों के बीच यूक्रेन की सेना भी बड़े-बड़े दावे कर रही है. यूक्रेन ने मंगलवार को दावा किया है कि उन्होंने तुर्की के बायरक्तार (Bayraktar) TB2 ड्रोन से रूस के 100 टैंक और 20 सैन्य वाहन मार गिराए हैं. बायरक्तार TB2 ड्रोन तुर्की का मीडियम एल्टीट्यूड और लंबे समय तक उड़ान भरने वाला अनमैन्ड एरियल व्हीकल (UAV) है. इसे रिमोट कंट्रोल से संचालित किया जाता है. यह ड्रोन ऑटोमैटिक भी संचालित हो सकता है. इसे तुर्की की कंपनी बायकार डिफेंस बनाती है. आमतौर पर इसका सबसे ज्यादा इस्तेमाल तुर्की सेना ही करती है.

रूस और यूक्रेन के बीच जारी जंग में अब तुर्की भी खुलकर सामने आ गया है. दोनों देशों के बीच तटस्थ बने रहने की कोशिश कर रहे तुर्की ने अमेरिका के दबाव में रूस के खिलाफ एक बड़ा कदम उठाया है.

ये भी पढ़ें:यूक्रेन से मुंबई पहुंची 7वीं फ्लाइट, ‘ऑपरेशन गंगा’ के तहत 182 भारतीय नागरिक वतन लौटे

ram janam hospital
Catalyst IAS

तुर्की के राष्ट्रपति ने ये कहा

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

तुर्की के राष्ट्रपति रेचेप तैय्यप एर्दोगन (Recep Tayyip Erdogan) ने कहा है कि वे अंतर्राष्ट्रीय नियमों को लागू करने के लिए बाध्य हैं, इसलिए तुर्की जंग में शामिल देश के सैन्य जहाजों की मेडिटेरेनियन (Mediterranean) से ब्लैक सी में एंट्री बैन कर रहा है. हालांकि, एर्दोगन ने कहा कि तुर्की दोनों देशों के साथ अपने संबंधों को खराब नहीं करेगा.

ये भी पढ़ें:प्रधानमंत्री जन औषधि योजना: जरूरतमंदों के लिए साबित हो रहा वरदान

यूक्रेन छोड़कर भागे 5 लाख लोग

संयुक्त राष्ट्र (United Nations) के मुताबिक रूस-यूक्रेन जंग के चलते अब तक 5 लाख से ज्यादा लोग यूक्रेन छोड़कर पड़ोसी देश पोलैंड, हंगरी, रोमानिया, मोल्डोवा और स्लोवाकिया सहित कई यूरोपीय देशों में शरण ले चुके हैं.

यूक्रेन के पड़ोसी देशों की सीमा पर कार और बसों की लंबी कतारें लग गई हैं. हजारों लोग रोजाना अपनी संपत्ति छोड़कर पैदल ही दूसरे देशों में शरण लेने पहुंच रहे हैं.

भारत यूक्रेन भेज रहा राहत सामग्री

जंग से बिगड़ते हालातों को देखते हुए अब भारत, यूक्रेन की मदद के लिए आगे आया है. मंगलवार को भारत से राहत सामग्री (Relief Supplies) की पहली खेप यूक्रेन रवाना की जाएगी.

यूक्रेन में जारी युद्ध के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) की अध्यक्षता में सोमवार को एक उच्च स्तरीय बैठक (High-level meeting) की गई थी.

इस बैठक के बाद विदेश मंत्रालय (Ministry of External Affairs) ने राहत सामग्री (Relief Supplies) भेजने का निर्णय लिया है.

बैठक में पीएम मोदी (PM Modi) ने कहा कि भारत जंग में फंसे अपने पड़ोसी और विकासशील देशों के लोगों की मदद जारी रखेगा. बता दें कि इससे पहले भारत में यूक्रेन के दूत इगोर पोलिखा ने भारत से राहत सामग्री भेजने की अपील की थी.

ये भी पढ़ें:तंबाकू बेचने का लाइसेंस लेने के बाद नहीं बेच सकेंगे फूड आइटम

Related Articles

Back to top button