Lead NewsNationalWorld

Russia-Ukraine विवाद गहराया, जानें कब रूस कर सकता है हमला, भारत ने नागरिकों को वापस लौटने की सलाह दी

New Delhi : रूस और यूक्रेन के बीच तनाव और बढ़ गया है. दोनों देशों के बीच बढ़ते तनाव के चलते अमेरिका सहित कई देश यूक्रेन की राजधानी कीव से अपने-अपने नागरिकों को स्वदेश लौटने की सलाह दे चुके हैं. वहीं, अब भारत ने भी कीव में रह रहे अपने नागरिकों के लिए एडवाइजरी जारी की है.

भारतीय दूतावास की ओर से जारी एडवाइजरी में कहा गया है कि यूक्रेन की मौजूदा स्थिति को देखते हुए भारतीयों से अपील है कि वे वहां से अस्थायी रूप से स्वदेश लौटें. भारतीय दूतावास ने कहा कि कीव में रह रहे भारतीय और खासकर छात्रों से अपील है कि अगर उनका वहां रहना बहुत जरूरी नहीं है तो वे वहां से वापस लौट सकते हैं.

इसे भी पढ़ें : सुशील मोदी का चारा घोटाला मामले को लेकर लालू पर तंज, कहा- बोया पेड़ बबूल का, तो आम कहां से होय

Catalyst IAS
ram janam hospital

Embassy of India in Kyiv asks Indians, particularly students whose stay is not essential, to leave Ukraine temporarily in view of uncertainties of the current situation pic.twitter.com/U15EoGu89g

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

इसके अलावा भारतीय नागरिकों से यूक्रेन की बेवजह यात्रा ना करने की अपील भी की गई है. भारतीय दूतावास ने ये भी कहा कि देश के नागरिक वहां स्थित दूतावास को अपनी स्थिति के बारे में जानकारी देते रहें.

इसे भी पढ़ें : जमशेदपुर: सरयू राय की पुस्‍तक ‘तिजोरी की चोरी’ का लोकार्पण,  उठाए गए हैं तीन मामले

कई देश कर चुके हैं नागरिकों से अपील

भारत से पहले अमेरिका, ब्रिटेन, जापान, आस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और कनाडा जैसे कई देश भी अपने नागरिकों से कीव से लौटने की सलाह कर चुके हैं. इसके अलावा कई देश कीव में अपने दूतावासों को बंद भी कर चुके हैं.

इसे भी पढ़ें : PDS लाइसेंस को रद्द रखने के मामले में पटना हाईकोर्ट ने खाद्य व आपूर्ति विभाग के प्रधान सचिव को किया तलब

यूक्रेन के राष्ट्रपति का बड़ा दावा

उधर, यूक्रेन के राष्ट्रपति व्लादिमीर जेलेंस्की ने 16 फरवरी को रूस द्वारा यूक्रेन पर हमले का दावा किया है. जेलेंस्की ने एक फेसबुक पोस्ट पर लिखा, ’16 फरवरी रूस द्वारा यूक्रेन पर हमले का दिन होगा.’ जेलेंस्की ने अपनी पोस्ट में यह भी कहा कि वह बातचीत के माध्यम से हर तरह के विवाद को सुलझाना चाहते हैं.

इसे भी पढ़ें :   सरकार विरोधी प्रदर्शनों से परेशान कनाडा PM ट्रूडो ने 50 साल में पहली बार लगाया आपातकाल

Related Articles

Back to top button