न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रायसा डैम निर्माण रोकने के लिए एकजुट हुए ग्रामीण, पांच सौ लोग हो सकते हैं प्रभावित

ग्राम सभा से सहमति लिए बगैर सरकार कर रही निर्माण का प्रयास

21

Ranchi: बुंडू स्थित हुमटा और काजीबुरू मौजा में बनने वाले रायसा डैम निर्माण के विरोध में ग्रामीणों ने राजभवन के समक्ष एक दिवसीय धरना दिया. ऑल इंडिया पीपुल्स फोरम की ओर से आयोजित इस धरना में काफी संख्या में हुमटा और काजीबुरू मौजा के लोग उपस्थित हुए. हुमटा ग्राम सभा के गौतम सिंह मुंडा ने जानकारी दी कि 2010 में तत्कालीन सरकार ने हुमटा डैम निर्माण की योजना बनायी. तब भी ग्रामीणों ने विरोध किया था. इस बार फिर से अखबारों के माध्यम से जानकारी मिली है कि सरकार गांव में भूमि अधिग्रहण करने वाली है डैम के लिए. उन्होंने बताया कि डैम निर्माण करने से लगभग पांच सौ लोग प्रत्यक्ष रूप से प्रभावित होंगे.

ग्राम सभा से सहमति तक नहीं ली गयी है

गौतम ने जानकारी दी कि ग्राम सभा की सहमति के बिना ही सरकार फिर से रायसा डैम निर्माण कराना चाह रही है. जबकि क्षेत्र पांचवीं अनुसूची के अंतर्गत आती है. ऐसे में बैगर ग्राम सभा से सहमति लिए सरकार ऐसा नहीं कर सकती है. उन्होंने बताया कि ग्रामीण भी नहीं चाहते की रायसा डैम का निर्माण हो. क्योंकि इससे हुमटा गांव से 280 एकड़ और काजीबुरू से 94 एकड़ जमीन का अधिग्रहण कर लिया जाएगा.

पांचवीं अनुसूची से छेड़छाड़ न करें सरकार

ऑल इंडिया पीपुल्स फोरम की दयामनी बारला ने जानकारी दी कि सरकार संविधान को ताक में रखकर योजनाएं बनाये जा रही है. सीएनटी-एसपीटी कानून क्षेत्र में लागू होने के बाद तो सवाल ही नहीं उठता कि सरकार ग्राम सभा की सहमति के बिना कोई कार्य करे. लेकिन, इस सरकार के लिए किसी नियम-कानून का कोई महत्व नहीं. इसके अपने निर्णय ही सर्वोपरि है. मौके पर जर्नादन महतो, भुवनेश्वर केवट, नदीम खान, जेवियर कुजूर समेत अन्य लोग उपस्थित थे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: