JharkhandLead NewsRanchi

ग्रामीण विकास सचिव एनएन सिन्हा पहुंचे लोहरदगा, कहा- लोगों को दें योजनाओं का लाभ

Lohardaga : आजादी से अंत्योदय तक की समीक्षा के लिए केंद्रीय ग्रामीण विकास सचिव नागेंद्र नाथ सिन्हा लोहरदगा जिला पहुंचे. श्री सिन्हा द्वारा जिला परिषद भवन स्थित सभागार में केंद्र व राज्य सरकार द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं की समीक्षा की गयी. इससे पूर्व सचिव ने फील्ड विजिट भी किया. उन्होंने दिव्यांगता विशिष्ट पहचान पत्र (यूडाईडी), अति कुपोषित बच्चों की पहचान व उनको मिल रही सुविधाएं, प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना, प्रधानमंत्री जन धन योजना, प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना, डेयरी केसीसी, फसल केसीसी, मत्स्य केसीसी की समीक्षा की. उन्होंने कहा कि इन योजनाओं से कोई योग्य लाभुक छूटे नहीं.

उपायुक्त लोहरदगा को निर्देश दिया गया कि केसीसी के लंबित आवेदनों के निष्पादन के लिए एक टास्क फोर्स का गठन कर उसमें संबंधित पदाधिकारी को शामिल करें.

पीएम किसान सम्मान निधि योजना के वास्तविक लाभुकों की संख्या जिले में 52 हजार से अधिक है लेकिन डेटाबेस में 39 हजार ही हैं, इसके अंतर को योग्य लाभुकों को चिन्हित कर भरे जाने का निर्देश दिया गया. हर वो व्यक्ति जो किसान है वो इस योजना का लाभ पाने का हकदार है. एफपीओ का गठन कर उनका रजिस्ट्रेशन करायें.

Catalyst IAS
ram janam hospital

इसे भी पढ़ें:शिबू सोरेन व मुख्यमंत्री से मिलीं द्रौपदी मुर्मू, राष्ट्रपति चुनाव के लिए मांगा समर्थन

The Royal’s
Pushpanjali
Sanjeevani
Pitambara

छूटे हुए योग्य व्यक्ति कोविड का दूसरा डोज लें

सचिव द्वारा स्वास्थ्य विभाग को निर्देश दिया गया कि जिन व्यक्तियों ने कोविड का फर्स्ट डोज ले लिया है उन्हें कोविड का सेकेंड डोज अवश्य दें. कोई भी योग्य व्यक्ति इससे वंचित न रहे. जुलाई माह में सेकेंड डोज के छूटे हुए लक्ष्य को पूरा कर लें.

पशु चिकित्सा

पशुपालन पदाधिकारी को निर्देश दिया गया कि पशु मित्रों का इस्तेमाल कर पशु टीकाकरण का कार्य पूर्ण करें. इसके लिए जेएसएलपीएस के पशु सखी की भी सहायता ली जा सकती है.

इसे भी पढ़ें:प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में बड़ी चूक, 4 कांग्रेसी गिरफ्तार

सभी परिवारों को आजीविका के दायरे में लायें

केंद्रीय सचिव ने डीपीएम, जेएसएलपीएस को निर्देश दिया कि लोहरदगा जिला में अस्थायी प्रवास की समस्या है. ऐसे परिवारों को आजीविका से जोड़ा जा सकता है, ऐसे परिवारों को आजीविका के दायरे में लायें. विलेज ऑर्गेनाइजेशन को सेल्फ हेल्फ ग्रुप और फिर सीएलएफ से जोड़ें. सीएलएफ का रजिस्ट्रेशन करायें. सभी सेल्फ हेल्फ ग्रुप का बैंक खाता अवश्य खुलवायें. सभी बैंकों में बैंक सखी प्रतिनियुक्त करें.

जिले के लोगों को क्रेडिट लिंकेज, स्किल, सर्विस सेक्टर की योजनाओं से लाभान्वित कराने का निर्देश दिया गया. छोटे आकार की भूमि के रैयतों को एग्री न्यूट्री गार्डेन की योजना के साथ-साथ बैकयार्ड लेयर मुर्गी पालन की योजना आदि से जोड़े जाने का निर्देश दिया. सभी महिला सखी मंडलों को फूलो झानो आशीर्वाद योजना अंतर्गत हंड़िया-दारू बेचने वाली महिलाओं को आजीविका से जोड़कर आत्मनिर्भर बनाने का निर्देश दिया.

इसे भी पढ़ें:झारखंड : फिर से अपनी ही सरकार के खिलाफ कांग्रेस विधायकों में रोष, विधायक दल की बैठक में निकाली भड़ास

तब पेशरार में बिना भय के कोई भी आ-जा सकता था

समीक्षा के अंत में ग्रामीण विकास सचिव ने अपने लोहरदगा जिला में उपायुक्त के तौर पर सेवाकाल (वर्ष 1994-95) के अनुभव को साझा किया. उन्होंने कहा कि उस समय जिले में नक्सलवाद की सुगबुगाहट हो ही रही थी. उस समय बिना सुरक्षा मैं उस क्षेत्र में आना जाना करता था, कोई भय नहीं था. किसी प्रकार की सुरक्षा की जरूरत नहीं थी. कोई भी आ-जा सकता था.

बैठक में ये थे उपस्थित

आज की बैठक में ग्रामीण विकास विभाग के सचिव मनीष रंजन, जेएसएलपीएस के मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी सूरज कुमार, अपर सचिव रामकुमार सिन्हा, उपायुक्त डॉ वाघमारे प्रसाद कृष्ण, उप विकास आयुक्त गरिमा सिंह, अनुमण्डल पदाधिकारी अरविंद कुमार लाल, वन प्रमण्डल पदाधिकारी अरविंद कुमार समेत सभी जिला स्तरीय पदाधिकारी, सभी प्रखण्ड विकास पदाधिकारी, सभी अंचल अधिकारी, विभिन्न विभागों के प्रतिनिधि व अन्य उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें:सचिवालय सेवा के अधिकारियों को प्रमोशन के लिए करना होगा इंतजार, बैठक नहीं हो सकी

Related Articles

Back to top button