JharkhandLead NewsRanchi

रूपेश पांडेय हत्याकांड: भाजयुमो का विरोध, सीपी सिंह ने कहा- तुष्टिकरण की हो रही राजनीति

Ranchi : बरही (हजारीबाग) में मॉब लिंचिंग के शिकार रुपेश पांडेय के हत्यारों को फाँसी की सजा की माँग को लेकर भारतीय जनता युवा मोर्चा राँची महानगर के तत्वावधान में रविवार को आक्रोश रैली निकाली गयी. रैली का नेतृत्व भाजयुमो राँची महानगर के अध्यक्ष रोमित नारायण सिंह ने किया. इस दौरान एक माँ की गोद को सूना करनेवाले जिहादी मानसिकता वाले हत्यारों को जल्द से जल्द फाँसी देने की मांग की गई.

इसे भी पढ़ें :  RANCHI NEWS : अब नहीं लगाना होगा निगम का चक्कर, ऑनलाइन बुकिंग करने पर टैंकर से पहुंचेगा पानी

सी.पी.सिंह बोले, अपराधियों पर अंकुश लगाने में सरकार फेल

ram janam hospital
Catalyst IAS

विधायक सी.पी.सिंह ने कहा झारखंड में जब से हेमंत सोरेन की सरकार बनी है, तबसे लगातार मॉब लिंचिंग की घटनाएं हो रही हैं. यह सरकार तुष्टिकरण की राजनीति करते हुए अपराधियों पर अंकुश लगाने में पूरे तरीके से फेल है जिससे युवाओं में खास करके बड़ा आक्रोश है. इसी कारण आज युवा मोर्चा के नेतृत्व में इतनी बड़ी संख्या में युवा साथी आज सड़कों पर उतरे हैं.

The Royal’s
Sanjeevani

इसे भी पढ़ें :  देवघर : कृषि मंत्री ने 1.93 करोड़ की लागत से दो तालाबों का जीर्णोद्धार कार्य का किया शिलान्यास

सरकार में सिर्फ तुष्टीकरण हो रहा

महानगर अध्यक्ष केके गुप्ता ने कहा कि हजारीबाग में घटित मॉब लिंचिंग की घटना बड़ी शर्मनाक है. इस सरकार में सिर्फ तुष्टीकरण किया जा रहा है. हेमंत सोरेन की सरकार हर मोर्चे पर पूरे तरीके से फेल है. अपराधियों के मन से शासन-प्रशासन का डर खत्म हो चुका है. यहां न महिला सुरक्षित है, न युवा सुरक्षित हैं. युवाओं को रोजगार नहीं है सो आज युवा सड़कों पर हैं और इस सरकार को बताने का काम कर रहे हैं कि लॉ एंड ऑर्डर को सुधारें नहीं तो जल्द ही सरकार को इस राज्य की जनता यहां से उखाड़ फेंकेगी.

इसे भी पढ़ें :  Jamshedpur: गुजरात हाईकोर्ट की टिप्पणी के बाद जीएसटी की जटिलताओं और विषमताओं को ठीक करने की जरूरत : कैट

रोमित ने कहा, मॉब लिचिंग है रूपेश पांडेय की

रोमित नारायण सिंह ने कहा कि 6 फरवरी को सरस्वती पूजा के मूर्ति विसर्जन के समय साम्प्रदायिक भीड़ के द्वारा 17 वर्षीय निर्दोष रूपेश पांडेय की नृशंस हत्या कर दी गई. यह हिंसक हमला था जो मॉब लिचिंग के अपराध में आता है. लेकिन राज्य की निकम्मी हेमंत सरकार इसको मॉब लिचिंग से बचाकर तुष्टिकरण के आधार पर इस पूरी घटना को किसी तरह से समाप्त करना चाहती है. जिस तरह से गुंडागर्दी मचाई गई, उससे दहशत का माहौल था इंटरनेट सेवाओं को बंद कर दिया गया. रोमित ने कहा कि यह झारखंड के इतिहास में पहली बार हुआ.

उन्होंने कहा कि जो इस देश के बहुसंख्यक हैं, उनको अपने धार्मिक कार्यक्रमों को पूरा करने का संवैधानिक अधिकार है. झारखंड में बार बार साम्प्रदायिकता के आधार पर हत्याएँ हो रही हैं लेकिन हेमंत सरकार वोट बैंक की राजनीति के लिए मामलों को हमेशा दबाती रही है.

इसे भी पढ़ें :  BIG NEWS : बैंकिंग सेक्टर के सबसे बड़े घोटाले में ABG Shipyard ने 28 बैंकों को लगाया 22 हजार करोड़ का चूना, 8 धराये 

Related Articles

Back to top button