न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

शुरुआती कारोबार में डॉलर के मुकाबले रुपया 21 पैसे मजबूत, 69.81 पर पहुंचा

739

Mumbai : लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की शानदार जीत के बाद शुक्रवार को शुरुआती कारोबार में अंतरबैंकिंग मुद्रा बाजार में रुपया 21 पैसे मजबूत होकर 69.81 रुपये प्रति डॉलर पर पहुंच गया.

डीलरों ने कहा कि विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) तथा घरेलू निवेशकों की जबरदस्त लिवाली से भी रुपये को समर्थन मिला. हालांकि कच्चे तेल की बढ़ती कीमतें और डॉलर की मजबूती से रुपये की तेजी पर कुछ लगाम रही.

रुपया मजबूती में 69.75 रुपये प्रति डॉलर पर खुला था

रुपया मजबूती में 69.75 रुपये प्रति डॉलर पर खुला. हालांकि कुछ ही देर में इसने कुछ तेजी खो दी और 69.81 रुपये प्रति डॉलर पर चल रहा था. गुरुवार को रुपया 36 पैसे गिरकर 70.02 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ था.

उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार, बृहस्पतिवार को एफपीआई ने पूंजी बाजार से 1,352.20 करोड़ रुपये की शुद्ध खरीदारी की.

इस बीच बीएसई का सेंसेक्स 170.51 अंक यानी 0.44 प्रतिशत मजबूत होकर 38,981.90 अंक पर चल रहा था. एनएसई का निफ्टी भी 54.15 अंक यानी 0.46 प्रतिशत की तेजी के साथ 11,711.20 अंक पर चल रहा था.

Related Posts

BHEL, SAIL, HAL में Leave Encashment पर रोक की खबर, #BSNL काट रही है वेतन, आर्थिक मंदी का असर !

मंदी के कारण भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (BHEL) और हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) में नकदी का प्रवाह बढ़ाने के लिए कर्मचारियों को भुगतान किये जाने वाले लीव एनकैशमेंट को स्थगित कर दिया है

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है. कारपोरेट तथा सत्ता संस्थान मजबूत होते जा रहे हैं. जनसरोकार के सवाल ओझल हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्तता खत्म सी हो गयी है. न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए आप सुधि पाठकों का सक्रिय सहभाग और सहयोग जरूरी है. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें मदद करेंगे यह भरोसा है. आप न्यूनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए का सहयोग दे सकते हैं. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता…

 नीचे दिये गये लिंक पर क्लिक कर भेजें.
%d bloggers like this: