न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आयुष्मान भारत हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर में हंगामा व मारपीट, हड़ताल पर गये स्‍वास्‍थ्‍यकर्मी

25

Palamu: पलामू जिला के हैदरनगर के आयुष्मान भारत हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर में परिजनों ने जमकर हंगामा किया. इस दौरान परिजनों ने वेलनेस सेंटर के मल्टीपरपस वर्कर (एमपीडब्लू) जयप्रकाश नारायण की पिटायी कर दी. साथ ही अस्पताल परिसर में तोड़फोड़ किया. घटना के बाद हुसैनाबाद अनुमंडल क्षेत्र के स्वास्थ्यकर्मी (डॉक्टर छोड़कर) हड़ताल पर चले गये.

15-20 लोगों ने किया हंगामा

अनुमंडलीय चिकित्सा पदाधिकारी ने बताया कि कुछ घंटे बाद दमदमी गांव के मुकेश मेहता के साथ 15-20 लोग हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर में घुस आये और हंगामा करने लगे. सेंटर में आपातकाल में दी जाने वाली मेडिसिन और ड्रेसिंग सहित अन्य सामानों की बोतलें पटक दी. रजिस्टर फाड़ दिया और प्रसव कक्ष में घुस आये. इस दौरान एमपीडब्लू जयप्रकाश नारायण के साथ दुर्व्‍यहार किया गया और उनकी पिटायी की गयी.

हुसैनाबाद स्वास्थ्यकर्मी हड़ताल पर गये

घटना के बाद पहले हैदरनगर और उसके बाद एक-एक करके मोहम्मदगंज और हुसैनाबाद क्षेत्र के चिकित्साकर्मी हड़ताल चले गये. कर्मियों की मांग है कि मारपीट करने वाले परिजनों को गिरफ्तार किया जाये और सुरक्षा की गारंटी दी जाये. इस संबंध में भुक्तभोगी स्वास्थ्यकर्मी द्वारा हैदरनगर थाना में प्राथमिकी दर्ज करायी गयी है.

पहले पेशाब उतरवाना गंदा काम बताया, फिर मांगा 25 हजार रुपये: परिजन

अर्जुन मेहता के नाती मुकेश मेहता ने बताया कि इलाज के लिए कहने पर अस्पताल के डॉक्टर पीएन सिंह की मौजूदगी में स्वास्थ्यकर्मियों ने पेशाब उतरवाना गंदा काम बताया. उसके बाद जब मरीज की हालत बिगड़ने का हवाला दिया गया, तो 25 हजार रुपये की मांग की गयी. जबकि उसके पास मात्र 500 रुपये थे. उसने तत्काल पैसे दिये और इलाज शुरू करने का आग्रह किया. शेष रुपये घर से लाकर देने की बात कही. लेकिन, कैथेटल लगाने का कार्य एक्सपर्ट बजाय स्वीपर से कराया जाने लगा. इसका विरोध किया तो डॉक्टर की मौजूदगी में चार-पांच स्टॉफ उनके साथ मारपीट करने लगे.

परिजनों ने थाने में करायी शिकायत दर्ज

स्टॉफ ने कहा कि डॉक्टर और स्वास्थ्यकर्मी बनने में पैसा खर्च होता है, पैसा नहीं देगा तो इलाज कैसे होगा? पास खड़े हरिनंदन कुमार मेहता, नवीन कुमार, रमेश मेहता, धर्मेंन्द्र कुमार, संजय शर्मा ने बीच बचाव किया. मुकेश ने आरोप लगाया कि मारपीट के दौरान उसके गले में लटके सोने का चेन को जेपी नामक स्टॉफ ने खींच लिया और दो हजार रूपये इलाज खर्च देने के बाद ही लौटाने की धमकी दी. बाद में उसके नाना को अस्पताल से रेफर कर दिया गया. मुकेश ने इस संबंध में हुसैनाबाद थाना प्रभारी को आवेदन देकर उचित कार्रवाई की मांग की है.

जितनी सुविधा थी, उससे बेहतर इलाज किया: एमपीडब्लू

एमपीडब्ल्यू जयप्रकाश नारायण ने बताया कि अस्पताल में जितनी सुविधा थी, उससे बेहतर इलाज करने की कोशिश की गयी, लेकिन मरीज की स्थिति बिगड़ गयी. बाद में उसे हुसैनाबाद अनुमंडलीय अस्पताल रेफर कर दिया गया. लेकिन, मरीज के परिजन उल्टा उसके साथ मारपीट और गाली-गलौज पर उतारू हो गये. हड़ताल पर जाने वालों में जयप्रकाश नारायण के अलावा एएनएम राजमुनी कुमारी, अर्चना कुमारी, सविता देवी, सुनीता कुमारी, गीता कुमारी, चंद्रकांती कुमारी, बिंदा कुमारी, मेरी जोज, जयप्रकाश नारायण, प्रदीप कुमार, हेमंत कुमार समेत अन्य कर्मचारी शामिल हैं.

जांच के बाद होगी कार्रवाई: एसडीपीओ

हुसैनाबाद के एसडीपीओ मनोज कुमार महतो ने बताया कि मरीज के इलाज के दौरान हंगामा और मारपीट किये जाने की सूचना मिली है. जांच की जा रही है, इसके बाद कार्रवाई की जायेगी.

इसे भी पढ़ें: झारखंड बिजली बोर्ड की विफलता : चार साल पहले खरीदते थे 5223 करोड़ की, मगर अब खरीदेंगे 6172 करोड़ की बिजली

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: