न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आरयू छात्रसंघ चुनाव : हथियारबंद लाव-लश्कर लेकर एबीवीपी की प्रत्याशी के समर्थन में कैंपस पहुंचे बीजेपी नेता अरुण साहू

1,514

Ranchi : रांची विश्वविद्यालय में छात्रसंघ चुनाव का मतदान तीन दिसंबर को होना है. जैसे-जैसे चुनाव की तिथि नजदीक आ रही है, आरयू कैंपस का माहौल ठंड के मौसम में तेजी से गर्म होता जा रहा है. स्टूडेंट्स को रिझाने में प्रत्याशी कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं. इसी कड़ी में शुक्रवार को आरयू कैंपस में अलग ही नजारा देखने को मिला. पीजी विभाग छात्रसंघ चुनाव में एबीवीपी की अध्यक्ष पद की प्रत्याशी नेहा के समर्थन में तिलेश्वर साहू के पुत्र और बीजेपी नेता अरुण साहू लाव-लश्कर के साथ आरयू कैंपस पहुंचे और स्टूडेंट्स से नेहा के समर्थन में मतदान करने की अपील की. अरुण साहू के साथ आये हथियारबंद लोग दो वहानों से उतरे. पूरे कैंपस में उपस्थित स्टूडेंट्स की नजर उस वक्त अरुण साहू के हथियारबंद अंगरक्षकों पर टिक गयी थी. कैंपस में चर्चा तेज हो गयी कि छात्रसंघ के चुनाव में अरुण साहू हथियारबंद लोगों के साथ कैंपस में क्या कर रहे हैं. जैसे ही पीजी अध्यक्ष पद की प्रत्याशी नेहा उनके पास पहुंचीं, तब स्टूडेंट्स को समझ में आया कि मामला क्या है.

छात्रसंघ चुनाव के दौरान कैंपस में हथियारबंद लोगों के प्रवेश पर है पाबंदी

लिंगदोह कमिटी के अनुसार छात्रसंघ चुनाव के दौरान किसी भी राजनीतिक पार्टी या समाजसेवी को हथियार के साथ कैंपस में प्रवेश पर पाबंदी है. इसके बावजूद बीजेपी नेता अरुण साहू हथियारबंद लोगों के साथ शुक्रवार को रांची विश्वविद्यालय कैंपस में दाखिल हुए और लगभग 40 मिनट तक कैंपस में प्रत्याशी के समर्थन में स्टूडेंट्स से बीतचीत की.

आरयू प्रशासन चुनाव में सुरक्षा को लेकर गंभीर नहीं

silk_park

छात्रसंघ चुनाव के प्रचार में जिस प्रकार से राजनीतिक दलों के नेताओं और दबंग लोगों का प्रवेश कैंपस में हो रहा है, उसको लेकर आरयू प्रशासन गंभीर नहीं दिख रहा है. स्टूडेंट्स की सुरक्षा के लिए भी आरयू प्रशासन ने कोई पुख्ता इंतजाम नहीं किये हैं. हर दिन दबंग नेताओं की फौज प्रत्याशियों के समर्थन में प्रचार-प्रसार करने आ जाती है और इस ओर आरयू प्रशासन का ध्यान नहीं है.

मामले की जानकरी नहीं, गंभीर विषय है : डीएसडब्ल्यू

अरुण साहू के लाव-लश्कर के साथ कैंपस में प्रवेश के मामले में आरयू के डीएसडब्ल्यू डॉ पीके वार्मा का कहना है कि इस संदर्भ में विश्वविद्यालय के अधिकारियों को कोई सूचना नहीं है, न किसी छात्र नेता एवं छात्र द्वारा कोई शिकायकत दर्ज करायी गयी है. मामला संगीन है. इस तरह की घटना पुन: न हो, इसके लिए आरयू पूरी तरह से सुरक्षा व्यवस्था करेगा.

इसे भी पढ़ें- गोला में धरने पर बैठी पारा शिक्षिका को पड़ा दिल का दौरा, रांची में इलाज के दौरान मौत

इसे भी पढ़ें- पलामू: समाज कल्याण में 11 करोड़ का घोटाला, तत्कालीन डीएसडब्लू, हरिहरगंज-विश्रामपुर सीडीपीओ सहित चार…

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: