न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आरयू : छात्र पूछते हैं क्या समय पूरा हो पाएगा सत्र, इसपर वीसी देते हैं रेलगाड़ी की देरी का हवाला

छात्रों को कहते है रेलगाड़ी की देरी को नहीं बदला जा सकता ऐसे ही रिजल्ट की समस्या भी है

440

Ranchi :  छात्रों का रिजल्ट समय से जारी हो और सत्र भी निश्चित समय से पूरी हो जाए, ये रांची यूनिवर्सिटी के लिए एक बड़ी चुनौती है. स्थिति ऐसी है कि यहां एक सेमेस्टर का रिजल्ट जारी करने में दो साल लग रहे हैं.

डोरंडा कॉलेज और योगदा सत्संग कॉलेज के छात्रों की समस्या यही है. डोरंडा कॉलेज में ग्रेजुएशन 2017-2020 में एडमिशन लिए छात्रों का सत्र भले ही 2017 में शुरू हुआ हो.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

लेकिन इनके पहले सेमेस्टर का रिजल्ट इस साल मई के पहले हफ्ते में जारी किया गया है. इस रिजल्ट में भी लगभग 97 प्रतिशत छात्र फेल हो गए हैं. मैथ्स और फिजिक्स ऑनर्स के छात्रों ने बताया कि मैथ्स ऑनर्स के 120 छात्रों में महज तीन छात्र ही सफल हुए हैं.

बाकी सभी छात्रों को प्रमोट किया गया. फिजिक्स ऑनर्स के छात्रों ने बताया कि 185 छात्रों में मात्र 14 छात्र ही पास हुए. बाकी सबको यूनिवर्सिटी की ओर से प्रमोट कर दिया गया. साथ ही छात्रों ने बताया कि सिर्फ साइंस ही नहीं कॉमर्स और आर्टस के छात्रों के साथ भी ऐसा ही हुआ है.

इसे भी पढ़ें – जानें सीएम की वो कौन सी 113 घोषणाएं हैं, जिन्हें 150 दिनों में पूरा करने पर लगी पूरी ब्यूरोक्रेसी

 

हिंदी और अंग्रेजी के मार्क्स नहीं जोड़े गए

छात्रों ने बताया कि कॉलेज में कई छात्रों ने अंग्रेजी इलेक्टिव, हिंदी ए, बांग्ला और उर्दू विषय लिया है. इन विषयों की परीक्षा 50-50 मार्क्स की होती है. ऐसे में जिन छात्रों ने हिंदी-उर्दू और हिंदी बांग्ला लिया है, उन्हें दोनों विषयों के अलग अलग अंक : 50-50 अंक दिए गए हैं.

Gupta Jewellers 20-02 to 25-02

लेकिन जिन छात्रों ने हिंदी और अंग्रेजी लिया है, उनमें से अधिकांश छात्रों को सिर्फ एक ही विषय का मार्क्स दिया गया है. जबकि हिंदी और अंग्रेजी लेने वाले छात्रों की संख्या सबसे ज्यादा है. क्रॉस लिस्ट  दिखाते हुए छात्रों ने बताया कि कैसे एक विषय का मार्क्स और एक का नहीं.

फॉर्म भरने की बात की जा रही है

छात्रों से जानकारी मिली कि उन्होंने कई बार वीसी से मुलाकात की. वीसी ने खुद छात्रों को यह बात कही है कि यूनिवर्सिटी के सॉफ्टवेयर की वजह से ऐसी परेशानी हो रही है. जबकि छात्रों ने बताया कि   दो साल से वीसी सिर्फ सॉफ्टवेयर की बात कर रहे हैं. ]

वहीं दूसरी ओर छात्रों को यह भी कहा जा रहा है कि सेमेस्टर वन में बैक लगने वाले छात्र 600 रूपये देकर परीक्षा फॉर्म भरें. जिससे आने वाले सेमेस्टर में उनकी परीक्षाएं हो सकें. ऐसे में छात्रों की परेशानी काफी बढ़ गई है. क्योंकि यूनिवर्सिटी की ओर से सही रिजल्ट जारी नहीं किया गया है.

इसे भी पढ़ें – गुमला मॉब लिंचिंगः एससी आयोग ने राज्य के DGP  और जिले के SP को दिया नोटिस, 15 दिनों में मांगा जवाब

छात्रों का रौल नंबर तक भुला दे रही है आरयू

आरयू : छात्र पूछते हैं क्या समय पूरा हो पाएगा सत्र, इसपर  वीसी देते हैं रेलगाड़ी की देरी का हवाला
छात्रों का मार्क्ससीट

योगदा सत्संग महाविद्यालय के छात्रों के बीच भी यही समस्या है. इस कॉलेज में भी सत्र 2017-20 तक के सेमेस्टर वन के छात्रों का रिजल्ट मई में निकाला गया. पॉलिटिकल सांइस ऑनर्स के छात्रों से जानकारी मिली कि पहले सेमेस्टर की परीक्षा के इंटरनल मार्क्स में चार सौ छात्रों को फेल कर दिया गया.

जबकि कुछ छात्रों को दो, तो किन्हीं को पांच अंक दिए गए हैं. जबकि कॉलेज प्रबंधन का कहना है कि 25 में से छात्रों को 20,22 और 23 अंक दिए गए हैं. ऐसे में यूनिवर्सिटी की ओर से जारी क्रॉस लिस्ट में ईकाई अंक जैसे 0, 2, 3 दे दिया गया है.

वहीं सेमेस्टर टू का रिजल्ट भी मई में जारी किया गया, जिसमें लगभग 400 छात्रों का रौल नंबर मिसिंग बताया जा रहा है. ऐसे में न ही छात्रों को रिजल्ट मिल पाया है और न ही आगे के सत्र में एडमिशन हो पाया है.

रेल गाड़ी का उदाहरण देते है वीसी

इस संबध में दोनों कॉलेजों के छात्रों ने बुधवार को वीसी डॉ रमेश कुमार पांडेय से मुलाकात की. छात्रों ने अपनी समस्या बताते हुए साल 2020 में सत्र पूरे किए जाने का सवाल किया. जिसपर वीसी ने  कहा कि जिस तरह रेल गाड़ी देर हो जाने से न ही ड्राइवर को बदला जा सकता है और न ही इंजन को.

ठीक  उसी तरह जो समय बीत गया है, उसे नहीं लाया जा सकता. छात्रों ने जानकारी दी कि दो साल से वीसी से इस संबध में मुलाकात कर रहे हैं. लेकिन उनसे ऐसा जवाब मिलना संतोषजनक नहीं है. इस दौरान योगदा सत्संग महाविद्यालय के छात्रों ने भी वीसी से मुलाकात कर अपनी समस्या बताई.

चार दिन में रिजल्ट सुधार करने की बात की

छात्रों को वीसी ने आश्वसन दिया है कि चार दिनों के भीतर रिजल्ट में सुधार किया जाएगा. वहीं पेपर बैक के लिए परीक्षा फॉर्म भरने की तिथि भी बढ़ायी जाएगी.

इसे भी पढ़ें – धनबादः अमित शाह का राहुल पर हमला, आतंकियों से इलू-इलू करती है राहुल बाबा एंड कंपनी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like