न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आरयू कैंपस और प्रशासनिक भवन में नहीं बुझ सकती प्यास, नेचर कॉल आने पर हो जायेगी फजीहत

55

Ranchi : रांची विश्वविद्यालय (आरयू) में पानी की समुचित व्यवस्था नहीं होने से यहां के विद्यार्थियों को पेयजल की समस्या का सामना करना पड़ता है. पेयजल की समस्या से केवल विद्यार्थी ही परेशान नहीं हैं, बल्कि प्रोफसर एवं अधिकारियों को इस समस्या का प्रतिदिन समाना करना पड़ता है. सबसे बुरा हाल तो आरयू के प्रशासनिक भवन का है. कैंपस में कुल तीन सौ कर्मचारियों पर मात्र एक शौचलय एवं एक आरओ मशीन है. शौचालय में इतनी गंदगी रहती है कि वहां कोई आरयू कर्मचारी नहीं जाना चाहता है, साथ ही शौचालय में पानी की कमी के कारण यहां शौच जाने में कर्मचारी कतराते हैं. बात इस कैंपस में पेयजल व्यवस्था की करें, तो एक आरओ मशीन पेयजल के लिए लगी है, वह भी देखरेख के अभाव में सही से काम नहीं करती है. ऐेसे में विश्वविद्यालय के अधिकारी एवं कर्मचारी घर से ही पीने का पानी लेकर आते हैं. विद्यार्थी में नियमित रूप से घर से पानी लेकर आरयू कैंपस आते हैं.

mi banner add

आरयू कैंपस और प्रशासनिक भवन में नहीं बुझ सकती प्यास, नेचर कॉल आने पर हो जायेगी फजीहत

इसे भी पढ़ें- ग्रामीणों को कौन पूछे, यहां मवेशियों को भी नहीं मिल रहा पर्याप्त पानी

22 पीजी विभागों में पेयजल की कोई व्यवस्था नहीं

रांची विश्वविद्यालय के अंतर्गत आनेवाले 22 पीजी विभागों में पेयजल के लिए नल-पाइप तो लगा दिया गया है, लेकिन इन नलों में समय पर पानी नहीं आता है. इतिहास, राजनीति विज्ञान, मनोविज्ञान जैसे विभागों में शुद्ध पेयजल की व्यवस्था नहीं है. ज्यातर विभागों में घड़ा का पानी अन्य जगहों से लाकर विद्यार्थियों एवं शिक्षकों को दिया जाता है.

परीक्षा विभाग में भी पेयजल की व्यवस्था नहीं

रांची विश्वविद्यालय के प्रशासनिक भवन में परीक्षा विभाग है. यहां अधिकारियों समेत कुल 50 कर्मचारी कार्य करते हैं, लेकिन इन कर्मचारियों के लिए आरयू प्रशासन की ओर से पेयजल एवं शौचालय की समुचित व्यवस्था नहीं की गयी है. इस विभाग के सभी कर्मचारी पीने का पानी बोतल में घर से लेकर आते हैं. वहीं, शौचालय के नाम पर एक ही शौचालय विभाग में है, वह भी काफी खराब स्थिति में रहता है. आरयू के परीक्षा नियंत्रक का कहना है कि पेयजल की सबसे ज्यादा समस्या परीक्षा विभाग में है, पीने के पानी के लिए कई बार कर्मचारियों को विभाग के बाहर से या बोतलबंद पानी मंगाना पड़ता है.

आरयू कैंपस और प्रशासनिक भवन में नहीं बुझ सकती प्यास, नेचर कॉल आने पर हो जायेगी फजीहत

Related Posts

गिरिडीह : बार-बार ड्रेस बदलकर सामने आ रही थी महिलायें, बच्चा चोर समझ लोगों ने घेरा

पुलिस ने पूछताछ की तो उन महिलाओं ने खुद को राजस्थान की निवासी बताया और कहा कि वे वहां सूखा पड़ जाने के कारण इस क्षेत्र में भीख मांगने आयी हैं

इसे भी पढ़ें- 1700 करोड़ का प्रोजेक्ट चार साल में पूरा नहीं, अब वर्ल्ड बैंक से लोन लेकर बनेंगे 25 ग्रिड, 2600…

अधिकारियों के शौचालय में लटका रहता है ताला

कुलपित, प्रतिकुलपति, कुलसचिव जैसे अधिकारियों के शौचालय का इस्तेमाल आरयू के कर्मचारी एवं विद्यार्थी नहीं कर सकते हैं. इन शौचालयों में केवल अधिकारियों का प्रवेश है. अन्य कर्मचारी चाहकर भी इन शौचालयों का इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं. इन शौचालयों में ताला लटका रहता है, जो तभी खुलता है, जब अधिकारियों को इन शौचालयों का इस्तेमाल करना होता है.

आरयू कैंपस और प्रशासनिक भवन में नहीं बुझ सकती प्यास, नेचर कॉल आने पर हो जायेगी फजीहत

आरयू में जल्द होगी पेयजल एवं शौचालय की व्यवस्था : आरयू

आरयू के सीसीडीसी डॉ एलएस शाहदेव ने कहा कि जल्द ही आरयू के प्रशासनिक भवन एवं अन्य विभागों में पेयजल एवं शौचालय की व्यवस्था आरयू करेगा. प्रशासनिक भवन एवं विभागों में पेयजल हेतु आरओ मशीन लगायी गयी है, लेकिन रख-रखाव के अभाव में वह खराब हो गयी है. जल्द ही उसे भी ठीक कर लिया जायेगा.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: