Uncategorized

RTI के जवाब में बताया नवभारत जागृति केंद्र है वनभूमि पर, मगर सरकार को भेजे रिपोर्ट में कहा – नहीं है वनभूमि पर

Hazaribagh : स्वयं सेवी संस्था एनजीओ नव भारत जागृति केंद्र पर आरोप है कि हजारीबाग के चौपारण के बहेरा स्थित वन भूमि को कब्जा कर रखा है. उपलब्ध दस्तावेज के मुताबिक वन विभाग ने सूचना का अधिकार के तहत दिये जवाब में कहा है कि जिस भूखंड पर नव भारत जागृति केंद्र है, वह वन भूमि के रुप में अधिसूचित है. जबकि वन विभाग ने अपनी ही एक रिपोर्ट में कहा है कि जिस जमीन पर नव भारत जागृति केंद्र है, वह जमीन वन भूमि नहीं है. एक ही जमीन कुल 12.36 एकड़ (थाना नंबर-159, खाता नंबर-29, खेसरा-1322, रकबा-2.00 एकड़, प्लॉट नंबर-1341 और रकबा 10.36 एकड़) अधिसूचित वन भूमि नहीं है. एक ही जमीन को लेकर वन विभाग ने दो जगह पर अलग-अलग जानकारी दी है. एक और तथ्य यह है कि जब बरही के अनुमंडल पदाधिकारी के कार्यालय में इसी जमीन को लेकर एक मामला चल रहा है. यह मामला सर्वोच्च न्यायालय के आदेश पर अतिक्रमण वाद के तहत दर्ज किया गया है.

Hazaribagh : स्वयं सेवी संस्था एनजीओ नव भारत जागृति केंद्र पर आरोप है कि हजारीबाग के चौपारण के बहेरा स्थित वन भूमि को कब्जा कर रखा है. उपलब्ध दस्तावेज के मुताबिक वन विभाग ने सूचना का अधिकार के तहत दिये जवाब में कहा है कि जिस भूखंड पर नव भारत जागृति केंद्र है, वह वन भूमि के रुप में अधिसूचित है. जबकि वन विभाग ने अपनी ही एक रिपोर्ट में कहा है कि जिस जमीन पर नव भारत जागृति केंद्र है, वह जमीन वन भूमि नहीं है. एक ही जमीन कुल 12.36 एकड़ (थाना नंबर-159, खाता नंबर-29, खेसरा-1322, रकबा-2.00 एकड़, प्लॉट नंबर-1341 और रकबा 10.36 एकड़) अधिसूचित वन भूमि नहीं है. एक ही जमीन को लेकर वन विभाग ने दो जगह पर अलग-अलग जानकारी दी है. एक और तथ्य यह है कि जब बरही के अनुमंडल पदाधिकारी के कार्यालय में इसी जमीन को लेकर एक मामला चल रहा है. यह मामला सर्वोच्च न्यायालय के आदेश पर अतिक्रमण वाद के तहत दर्ज किया गया है.

इसे भी पढ़ें – रघुवर उवाच- 14 साल तक ऊर्जा विभाग में हुआ सिर्फ घोटाला, तो पांच माह तक ऊर्जा मंत्री रह चुके साहब क्यों नहीं कराते जांच ?

SIP abacus

कब्जे  से संबंधित कोई संचिका प्रमंडलीय कार्यालय में उपलब्ध नहीं है

MDLM
Sanjeevani

जानकारी के मुताबिक हजारीबाग पश्चिमी वन प्रमंडल के सहायक वन संरक्षक ने सूचना के अधिकार के तहत मैंगो मैन की आवाज के अध्यक्ष मनोज गुप्ता को जवाब दिया है. अपने जवाब में सहायक वन संरक्षक ने लिखा है कि प्लॉट संख्या-1341 अधिसूचित वन भूमि है. जिसकी अधिसूचना संख्या – सी/पी.एफ-10171/52-32-आर दिनांक-02.01.1953 है. उक्त वन भूमि के उपयोग एवं कब्जे  से संबंधित कोई संचिका प्रमंडलीय कार्यालय में उपलब्ध नहीं है. इस तरह हजारीबाग के पश्चिमी वन प्रमंडल के सहायक वन संरक्षके इस पत्र से यह साफ होता है कि प्लॉट संख्या-1341 वन भूमि के रुप में अधिसूचित है.

इसे भी पढ़ें – ‘मैं जंगल का शेर, शहर का …..नहीं ‘ दुर्गा सोरेने की पुण्यतिथि पर बोले हेमंत

मनोज गुप्ता ने नव भारत जागृति केंद्र द्वारा वन भूमि पर कब्जा किये जाने की शिकायत मुख्यमंत्री जन संवाद केंद्र से भी की थी. मुख्यमंत्री जन संवाद केंद्र ने वन विभाग से इससे संबंधित रिपोर्ट मांगी थी. हजारीबाग पश्चिमी वन प्रमंडल के वन प्रमंडल पदाधिकारी ने जन संवाद केंद्र हजारीबाग के नोडल पदाधिकारी को रिपोर्ट भेजी है. इस रिपोर्ट में वन प्रमंडल पदाधिकारी ने लिखा है कि चौपारण प्रक्षेत्र  वन क्षेत्र पदाधिकारी के द्वारा मामले की स्थालीय जांच की गयी. जांच के दौरान पाया गया कि मौजा-बहेरा, थाना –चौपारण, थाना संख्या-159, जिला हजारीबाग का प्लॉट संख्या-1322 अधिसूचित नहीं है. प्लॉट संख्या-1341, जिस पर नव भारत जागृति केंद्र के द्वारा निर्माण कार्य किया गया है, वह अधिसूचित सीमांकित वन भूमि से बाहर है.  

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button