न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आरएसएस की बैठक नागपुर में, नये भाजपा अध्‍यक्ष के नाम पर होगा मंथन

आरएसएस की आज 20 मई को नागपुर में बड़ी बैठक होगी. इसमें संघ के तमाम दिग्‍गज और भाजपा के कुछ बड़े नेता भी शामिल होंगे

330

Nagpur : आरएसएस की आज 20 मई को नागपुर में बड़ी बैठक होने जा रही है. इसमें संघ के तमाम दिग्‍गज और भाजपा के कुछ बड़े नेता भी शामिल होंगे. बैठक में 23 तारीख को आने वाले लोकसभा चुनाव परिणामों से संबंधित आकलन किये जाने की चर्चा है, खबर है कि इस बैठक में भाजपा अध्‍यक्ष पद के चुनाव पर भी चर्चा होगी. ऐसी चर्चा भी है कि बैठक में अमित शाह भी शामिल हो सकते हैं, पर इसकी पुष्‍टि नहीं हुई है.

इसे भी पढ़ेंःविदेश, रक्षा समेत कई केंद्रीय मंत्रियों ने नहीं किया सरकारी बंगलों का बकाया भुगतान

अमित शाह ने छह लाख किलोमीटर की यात्रा चुनाव संबंध में की

2014 में भाजपा को मिली अभूतपूर्व जीत के दो महीने बाद ही बीजेपी की कमान अमित शाह को सौंप दी गयी थी. उनके कार्यकाल में बीजेपी ने कई विधानसभा चुनावों में अच्छा प्रदर्शन भी किया और उत्तर-पूर्वी राज्यों में भी बीजेपी अपने पांव जमाते नजर आयी. 2019 लोकसभा चुनाव के मद्देनजर अमित शाह ने अलग-अलग राज्यों में अबतक 47 दौरे किये हैं, इतना ही नहीं पिछले पांच सालों में वह 1500 जनसभाओं का हिस्सा रहे हैं.

बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं के अनुसार पिछले पांच साल में पांच में से तीन यात्राएं चुनाव के संबंध में ही की हैं, जबकि अन्य यात्राएं पार्टी संयोजन के संबंध में रही. बीजेपी नेता के अनुसार अमित शाह ने छह लाख किलोमीटर की यात्रा चुनाव संबंध में की है जबकि चार लाख 13 हजार किलोमीटर की यात्र पार्टी के संयोजन कार्य के संबंध में की. अमित शाह ने 2014 और 2016 में 191 मीटिंग और 2017 में 188 मीटिंग जबकि 2018 में 350 जनसभाएं अकेले की हैं.

इसे भी पढ़ेंः एग्जिट पोल पर भड़का विपक्षः कांग्रेस ने नकारा तो ममता ने कहा- अटकलबाजी

Related Posts

यूरोपीय संसद में #KashmirIssue पर भारत का समर्थन, पाकिस्तान की निंदा, कहा, चांद से आतंकी नहीं आते

भारत दुनिया का सबसे महान लोकतंत्र है.  हमें भारत के जम्मू-कश्मीर राज्य में होने वाली आतंकी घटनाओं पर गौर करने की जरूरत है.

अमित शाह का कार्यकाल 2016 में शुरू हुआ है

पिछले साल भाजपा ने अपनी कार्यकारिणी की बैठक में संसदीय चुनाव के चलते पार्टी के अंदर के चुनाव को स्थगित कर दिया था. पार्टी के सिद्धांत के तहत को कोई भी पार्टी के प्रमुख के तौर पर लगातार दो बार से ज्यादा नहीं रह सकता. हालांकि अमित शाह का कार्यकाल 2016 में शुरू हुआ है. 2014 में उत्तर प्रदेश में बीजेपी को बड़ी जीत दिलाने के बाद उन्होंने सबका ध्यान खींचा.

2014 चुनाव के वॉर रूम में हिस्सा रह मोदी से एक शख्स बताते हैं कि साल 2019 का चुनाव अमित शाह का चुनाव है. लंबे समय से चुनाव के लिए काम कर रहे अमित शाह ने अधिकांश जगहों पर अपने पैर जमा लिये हैं.

इसे भी पढ़ेंः रवीश कुमार का प्राइम टाइम, योगेंद्र यादव ने कहा-23 मई को हैरान होने के लिए हो जाइए तैयार  

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

you're currently offline

%d bloggers like this: