न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

ग्लोबल एग्रीकल्चर एंड फूड समिट को लेकर दिल्ली में डिप्लोमैट्स के साथ राउंड टेबल मीटिंग

221

Delhi/Ranchi: झारखंड में 29 और 30 नंवबर को होने वाले ग्लोबल एग्रीकल्चर एंड फूड समिट के लिए दिल्ली में राउंड टेबल मीटिंग हुई. मीटिंग में 12 देशों के राजदूत और आठ देश के डिप्लोमैट्स शामिल हुए. इन देशों में फ्रांस, जापान, रूस, वियतनाम, फिलीपिंस, चेक गणराज्य, नाइजीरिया और केन्या शामिल थे.

इसे भी पढ़ें-वित्तीय संकट की ओर झारखंड ! 40.50 लाख करोड़ के ऑन गोइंग प्रोजेक्ट का बढ़ा कॉस्ट, खजाने में पैसे की कमी

झारखंड की तरफ से इस उच्च स्तरीय बैठक में हिस्सा लेने के लिए स्थानीय आयुक्त झारखंड भवन मस्तराम मीणा, कृषि विभाग की सचिव पूजा सिंघल, उद्योग विभाग के सचिव विनय कुमार चौबे और मुख्यमंत्री पीएस केपी बालियान मौजूद थे. साथ ही झारखंड सरकार की नॉलेज पार्टनर ई एंड वाई के प्रतिनिधि भी मौजूद थे. भारत सरकार के विदेश मंत्रालय की तरफ से संयुक्त सचिव विनोद के जकॉब और एमकेएल राजा मीटिंग में मौजूद थे.

पूजा सिंघल और विनय चौबे ने बताया झारखंड में क्यों करें निवेश 

बैठक में शामिल लोगों को झारखंड की तरफ से विनय चौबे और पूजा सिंघल ने बताया कि झारखंड में निवेश करने के क्या फायदे हैं. पूजा सिंघल ने डिप्लोमैट्स से ग्लोबल एग्रीकल्चर एंड फुड समिट को सफल बनाने की अपील की. उन्होंने कंट्री पार्टनर बनकर आयोजन को सफल बनाने की बात वहां मौजूद प्रतिनिधियों से की. बताया जा रहा है कि बैठक में शामिल राजदूत और डिप्लोमैट्स ने आयोजन में शामिल होने की बात कही. उन्होंने आयोजन में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेने की बात भी कही.

इसे भी पढ़ें-चुनावी मोड में जाने से पहले सरयू राय के टारगेट पर लगातार हैं रघुवर

नवंबर में होना है आयोजन

silk_park

29 और 30 नवंबर को मोमेंटम झारखंड, ग्लोबल एग्रीकल्चर एंड फूड समिट का आयोजन खेलगांव में किया जाएगा. यह समिट झारखंड सरकार के कृषि और उद्योग विभाग के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित किया जाएगा. ग्लोबल एग्रीकल्चर एंड फूड समिट में 10 हजार किसान भाग लेंगे. जिसमें 5-6 हजार किसान झारखंड के होंगे. समिट में जिलों के अग्रणी एग्री इंटरप्रेन्योर के रुप में भाग लेंगे.

इसे भी पढ़ें- फाइनेंशियल क्राइसेस से गुजर रहा झारखंड, खजाने में पैसे की किल्लत ! 300 अफसरों-कर्मचारियों का…

वहीं दूसरे देशों के अग्रणी किसानों को भी भाग लेने के लिए आमंत्रित किया गया है. समिट के दौरान 24 जिलों के लिए अलग-अलग पवेलियन की व्यवस्था की जाएगी. जिसमें जिलों से आए किसान अपने-अपने प्रोसेसिंग और आइडियाज को नया आयाम दे पाएंगे. समिट में सभी स्टेट के लिए अलग से पवेलियन बनाए जाएंगे. सभी जिलों अग्रणी किसानों को मंच देने के लिए सरकार पहल करेगी. गांव और जिला के किसानों का जो उत्पादन करा कर विदेशों में निवेश करना चाहते हैं,  उनके लिए सरकार फैलिसिटेशन का काम करेगी.

इसे भी पढ़ेंःIAS अफसरों के खिलाफ प्रतिकूल टिप्पणी, चार ऑफिसर्स का CR नेगेटिव, दो के विरुद्ध चल रही डिपार्टमेंटल प्रोसेडिंग

समिट को लेकर राज्य के सभी जिलों में रोड शो का आयोजन किया जाएगा. वहीं राज्य के बाहर बेंगलुरु, नागपुर और दिल्ली में भी विभाग इस आयोजन को लेकर रोड शो करेगी. जरुरत पड़ने पर फिशरीज के लिए करनाल और हैदराबाद में रोड शो किया जायेगा. पूजा सिंघल ने बताया कि सीएम चीन में भी निवेश करने को लेकर वहां निवेशकों को बता रहे हैं. वहीं देश के 40 से 50 उद्योगपति‍यों ने समिट को लेकर पॉजिटिव रिस्पांस दिया है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: