Court NewsJharkhandRanchi

रूपा तिर्की केस: सीबीआई जांच की मांग को लेकर दायर याचिका पर हाईकोर्ट में सुनवाई पूरी

अवमानना के बिंदु पर कल होगी सुनवाई

advt

Ranchi. साहिबगंज की महिला थाना प्रभारी रूपा तिर्की  की मौत की सीबीआई जांच की मांग लेकर दायर याचिका पर मंगलवार को हाईकोर्ट में सुनवाई पूरी हो गयी. हाईकोर्ट ने दोनों पक्षों की दलीलों को सुना. इस मामले में फैसला सुरक्षित रख लिया गया है. रूपा तिर्की के पिता देवानंद उरांव ने महाधिवक्ता और अपर महाधिवक्ता के खिलाफ अवमानना का मामला चलाने की प्रार्थना की थी. अवमानना के बिंदु पर कोर्ट में कल सुनवाई होगी.

क्या है मामला

बता दें 13 अगस्त को हुए मामले की सुनवाई के दौरान महाधिवक्ता ने कुछ आपत्तियां जताते हुए जस्टिस एसके द्विवेदी से आग्रह किया था कि इस मामले की सुनवाई अब उन्हें नहीं करनी चाहिए. इसके बाद जस्टिस एसके द्विवेदी ने महाधिवक्ता के बयान को रिकॉर्ड करते हुए पूरे मामले को चीफ जस्टिस के पास भेज दिया था. चीफ जस्टिस से आग्रह किया गया था कि वह प्रशासनिक दृष्टिकोण से मामले की सुनवाई के लिए बेंच तय करें. चीफ जस्टिस ने इस मामले की सुनवाई जस्टिस एसके द्विवेदी की अदालत में ही जारी रखने को कहा था.

advt

पिता ने सीबीआई जांच के लिए कोर्ट में दर्ज की थी याचिका

मालूम हो कि 3 मई को रूपा तिर्की की लाश साहिबगंज के पुलिस लाइन स्थित एक सरकारी क्वार्टर में फंदे पर लटकी हुई मिली थीं. साहिबगंज पुलिस ने इस मामले की जांच के लिए 5 सदस्यीय एसआईटी का गठन किया. इस मामले में जांच के बाद रूपा तिर्की की मौत को आत्महत्या बताया था. रूपा तिर्की के पिता देवानंद उरांव ने पुलिस की जांच पर असंतोष जाहिर करते हुए सीबीआई जांच के लिए हाईकोर्ट में याचिका दायर की. उन्होंने अदालत को बताया कि उनकी पुत्री की मौत नहीं बल्कि हत्या की गयी थी. पुलिस इसे प्रेम प्रसंग का मामला बता आत्महत्या का रंग दे रही है. उनकी बेटी की मौत के बाद जिस परिस्थिति में शव मिला था उससे प्रतीत होता है कि वह आत्महत्या नहीं है. पुलिस ने भी रूपा की मौत के बाद उन्हें समय पर सूचना नहीं दी और जब पुलिस अधिकारियों से सवाल किया गया तो उन्होंने ठोस जवाब नहीं दिया. अदालत को बताया गया कि साहिबगंज में पंकज मिश्र नामक एक राजनीतिक पहुंच वाला व्यक्ति संदेह के घेरे में है. रूपा की मौत के बाद सरकार ने जो एसआईटी बनायी है उसके नेतृत्वकर्ता डीएसपी बनाए गए हैं. उस डीएसपी से पंकज मिश्र की कई बार बात हुई है. प्रार्थी देवानंद के अधिवक्ता ने अदालत में पंकज मिश्र का कॉल डिटेल पेश करते हुए कहा कि एसपी, डीसी और डीएसपी से उसकी लगातार बात हुई है. अदालत को बताया गया कि रूपा तिर्की पंकज मिश्र के पिता से जुड़े और दूसरे महत्वपूर्ण मामलों की सुनवाई कर रही थी. इस कारण उनकी हत्या की साजिश रची गई और इसमें पंकज मिश्र और कुछ पुलिस वाले शामिल हैं.
महाधिवक्ता राजीव रंजन ने इन आरोपों को गलत बताया और कहा कि रूपा तिर्की ने आत्महत्या की है. पुलिस अनुसंधान में यह बात सामने आयी है. रूपा के कॉल डिटेल और टेक्सट मैसेज से भी यह प्रमाणित हुआ है कि उसका एक एएसआई से प्रेम प्रसंग चल रहा था. रूपा के मैसेज से भी आत्महत्या की बात सामने आयी है. महाधिववक्ता ने कहा कि रूपा की मौत की जांच के लिए सरकार ने कमीशन ऑफ इंक्वायरी गठित की है. रिटायर चीफ जस्टिस बीके गुप्ता इसकी जांच कर रहे हैं. कोई भी इस मौत के मामले से जुड़ी जानकारी कमीशन को दे सकता है.

advt
advt

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: