न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

भारी संख्या में ट्रेनों के माध्यम से रोहिंग्या केरल पहुंच रहे हैं, पुलिस अलर्ट  

भारी संख्या में रोहिंग्या ट्रेनों के माध्यम से केरल का रुख कर रहे हैं.  इस संबंध में मदुरई, तिरुवनंतपुरम और पलक्कड़ के रेलवे विभागीय सुरक्षा आयुक्तों को गोपनीय पत्र प्रेषित किया गया है,

172

Thiruvanthpurm : भारी संख्या में रोहिंग्या ट्रेनों के माध्यम से केरल का रुख कर रहे हैं.  इस संबंध में मदुरई, तिरुवनंतपुरम और पलक्कड़ के रेलवे विभागीय सुरक्षा आयुक्तों को गोपनीय पत्र प्रेषित किया गया है, जिसमें कहा गया है कि भारी संख्या में रोहिंग्या केरल पहुंच रहे हैं. इस खबर के बाद केरल राज्य की पुलिस अलर्ट हो गयी है. पत्र की सत्यता की पुष्टि की जा चुकी है और आरपीएफ कर्मियों के साथ-साथ स्थानीय पुलिस दोनों ने रोहिंग्याओं के मूवमेंट को ट्रैक करने के लिए कमर कस ली है. सूत्रों के अनुसार पत्र में कहा गया है कि रोहिंग्या अपने परिवारों के साथ समूह में सफर कर रहे हैं, इस संबंध में अधिकारियों और कर्मचारियों को अलर्ट रहने को कहा गया है. पत्र में कहा गया है कि अगर वह ट्रेनों में मिलते हैं, तो उन्हें संबंधित पुलिस को कार्रवाई करने के  लिए सौंपा जाना चाहिए. इस पत्र पर आरपीएफ के मुख्य सुरक्षा आयुक्त पी सेतु माधवन ने हस्ताक्षर किये हैं.

इसे भी पढ़ें : सेना के लिए तीन स्पेशल डिवीजनों के गठन का रास्ता साफ, पीएम मोदी ने दी मंजूरी

पत्र में उत्तर पूर्व केरल रूट की 14 ट्रेनों के बारे में जानकारी दी गयी है

hosp1

बता दें कि पत्र में उत्तर पूर्व केरल रूट की 14 ट्रेनों के बारे में बताया गया है,  जिनमें रोहिंग्या सफर कर रहे हैं. इन ट्रेनों में हावड़ा-चेन्नई कोरोमंडल एक्सप्रेस, हावड़ा चेन्नई मेल, शालीमार-तिरुवनंतपुरम एक्सप्रेस और सिलचर-तिरुवनंतपुरम एक्सप्रेस और डिब्रूगढ़-चेन्नई एगमोर ट्रेनें शामिल हैं. जान लें कि इन ट्रेनों में ज्यादातर मजदूर वर्ग के लोग काम की तलाश में असम, पश्चिम बंगाल, ओडिशा और बिहार से दक्षिणी राज्यों की ओर भारी संख्या में जा रहे हैं. पत्र मिलने के बाद से पुलिस अलर्ट तो हो गयी है,  लेकिन अभी तक इस मामले में कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है. पुलिस को इस बात का डर है कि अगर रोहिंग्या केरल में  आबादी में शामिल हो जाते हैं तो फिर उनकी पहचान करना मुश्किल काम होगा.

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: