GiridihJharkhandLead NewsNEWS

गिरिडीह के सलैयाटांड़ से हरकुंड होते हुए गुनियाथर तक बनेगी सड़क, नक्सलियों पर लगेगी लगाम

GIRIDIH: झारखंड के अति नक्सल प्रभावित क्षेत्र गिरिडीह के भेलवाघाटी एवं बिहार के अति नक्सल प्रभावित क्षेत्र चकाई को सीधे जोड़ने के लिए केंद्र एवं राज्य सरकार नक्सल उन्मूलन योजना से भेलवाघाटी से गुनियाथर के बीच करीब 9.2 किमी. सड़क और तीन पुल बनाएगी. गिरिडीह जिला प्रशासन ने इसका प्रस्ताव राज्य सरकार को भेज दिया है. राज्य सरकार अब इस प्रस्ताव को केंद्र सरकार को भेज कर शीघ्र मंजूरी लेगी. करीब 24 करोड़ रुपये खर्च कर यह सड़क व पुल बनाए जाएंगे. केंद्र सरकार के इस योजना को लेकर इसकी 80 प्रतिशत राशि केंद्र सरकार एवं 20 प्रतिशत राशि राज्य सरकार खर्च करेगी.

 

इसे भी पढ़ें : शराबबंदी पर बदले जीतन राम मांझी के सुर, कहा- गरीब जा रहे हैं जेल, अमीर पी रहे हैं शराब

advt

इलाके में सड़क व पुल के बनने से भेलवाघाटी से बिहार के जमुई जिले के चकाई की दूरी करीब 21 किमी घट जाएगी. सड़क-पुल के अभाव में गुनियथार के लिए घूमकर 20 किमी  और चहाल के लिए 25 किमी जाना पड़ता है. साथ ही दोनों राज्यों की पुलिस माओवादियों पर भी अंकुश लगा सकेगी. जिले के भेलवाघाटी, गुनियाथर और चहाल तथा जमुई जिले की बोंगी एवं बरमोरिया पंचायत के करीब 40 हजार लोगों के दोनों इलाकों में आवागमन की समस्या दूर हो जाएगी. लंबे समय से इस सड़क की मांग की जा रही थी. भेलवाघाटी पंचायत के मुखिया श्रीमती प्रभावती बरनवाल ने पिछले दो वर्ष से डीसी को आवेदन दिया था. यही नही जूनियर इंजीनियर ने सर्वे भी किया था. तो मुखिया प्रतिनिधि विकास कुमार ने भी आवेदन देकर योजना स्वीकृति देने की मांग की थी. इधर डीसी स्तर पर भेजे प्रस्ताव का ग्रामीणों ने  स्वागत किया है.

इसे भी पढ़ें  : Jharkhand टेक्निकल यूनिवर्सिटी में पीएचडी के लिए एप्लीकेशन शुरू, 15 जुलाई तक करें एप्लीकेशन

adv

भेलवाघाटी से करीब दो किमी पहले सलैयाटांड़ से हरकुंड और हथगढ़ होते हुए गुनियाथर तक करीब 9.14 किमी लंबी सड़क बनेगी. इस मार्ग पर लोही एवं बलियारी नदी और हथगड के पास स्थानीय नाला भी पड़ता है जिस पर तीन पुल भी बनाए जाएंगे. अभी भेलवाघाटी के लोग चतरो-सरोन होते हुए घुम कर चकाई जाते हैं. इस रास्ते से जाने पर भेलवाघाटी से चकाई की दूरी करीब 46 किमी है. नए रास्ते से भेलवाघाटी के लोगों को चतरो-सरोन नहीं जाना पड़ेगा. भेलवाघाटी से गुनियाथर होकर चकाई जाने पर यह दूरी घटकर मात्र 25 किमी रह जाएगी.

 

 

 

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: