JharkhandLead NewsRanchi

RMC : जाम मुक्त अपर बाजार का फिर दिखाया सपना, हर बार की तरह फिर राज्यसभा सांसद ने की आपत्ति

  •  बकरी बाजार के खाली जमीन को लेकर चला पहल और आपत्ति का दौर

Ranchi : अपर बाजार को जाम मुक्त करने और खाली पड़े बकरी बाजार जमीन को उपयोग में लाने का सपना एक बार फिर से दिखाया जा रहा हैं. दरअसल रांची नगर निगम ने एक बार फिर बकरी बाजार में अस्थायी वाहन पार्किंग और मार्केट बनाने की घोषणा की है.

इसे भी पढ़ें :झारखंड में नौकरी देने वाले 616 इंप्लॉयर, पाने वालों की संख्या 54313

Catalyst IAS
ram janam hospital

हालांकि निगम की यह घोषणा कोई पहली बार नहीं हुई है. इसके पहले भी इसी तरह की घोषणा हो चुकी हैं. हालांकि उस समय भी इस योजना को ठंडे बस्ते में डाल दिया गया था. वहीं निगम ने जब-जब बकरी बाजार के खाली जगहों को उपयोग में लाने की पहल की है, राज्यसभा सांसद महेश पोद्दार ने आपत्ति की है. इसबार फिर ऐसा ही कुछ हुआ है.

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

फिर पहुंची टीम, फिर सांसद की आपत्ति


बीते साल 21 दिसम्बर को नगर आयुक्त मुकेश कुमार, डिप्टी मेयर संजीव विजयवर्गीय सहित एक टीम बकरी बाजार की स्थिति का जायजा लेने पहुंची थी. इस दौरान निगम द्वारा बकरी बाजार में अस्थायी वाहन पार्किंग व मार्केट बनाने की घोषणा हुई. पार्किंग बनने से अपर बाजार में लोगों को जाम से मुक्ति मिलेगी.

फिर क्या था, निगम के इस घोषणा के दो दिन बाद ही राज्यसभा सांसद महेश पोद्दार ने आपत्ति जता दी. सांसद ने सोशल मीडिया पर लिखा कि “शहर की खाली जगहों पर मार्केट बनाने की प्रेरणा से निगम मुक्त नहीं हो पा रहा. सब्जियां तो सड़क पर ही बिकेगी-घोषणा करके भूल गए और नजर है खाली जमीनों पर.” इस संदेश में “#RMCCommissioner” का भी जिक्र किया गया है.

जुलाई 2019 में भी ऐसी ही पहल और ऐसी ही आपत्ति हुई थी

हालांकि बकरी बाजार के खाली जमीन के उपयोग की निगम की पहल न कोई नहीं है न ही सांसद की आपत्ति. 16 जुलाई 2019 को निगम की कमोवेश वही टीम ने बकरी बाजार स्थल का निरीक्षण किया था. बस अंतर यह है कि अधिकारी बदल गये.

इसे भी पढ़ें :छिनतई गिरोह के दो सदस्य 62 मोबाइल के साथ गिरफ्तार

उस दौरान भी निगम की खाली पड़ी 6.02 एकड़ जमीन पर अंडरग्राउंड पार्किंग व मल्टीस्टोरी मार्केट बनाने के विचार की बात की गयी थी. हालांकि डेढ़ साल बाद यह पहल दोबारा याद आयी है. उस दौरान भी सांसद ने इसपर आपत्ति जतायी थी. 17 जुलाई को तत्तकालीन नगर विकास मंत्री सीपी सिंह को एक पत्र लिख महेश पोद्दार ने कहा था कि ‘विभिन्न सरकारी भवनों और अन्य संरचनाओं के कारण पहले ही कंक्रीट के जंगल में बदल चुके रांची शहर के लिए यह नयी खबर डराने वाली ही है.”

Related Articles

Back to top button