न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

RMC ने ब्‍लैक लिस्‍टेड कंपनी को दे दिया सड़क निर्माण का जिम्‍मा, स्‍थानीय लोगों ने रुकवा दिया काम

15

Ranchi: वार्ड संख्या 23 के हिंदपीढ़ी स्थित ग्वालाटोली के गद्दी मोहल्ले में बन रहे जर्जर सड़क निर्माण कार्य पर नाराजगी जताते हुए बुधवार को स्थानीय लोगों ने जमकर हंगामा किया. कंपनी की कार्यशैली पर सवाल खड़ा करते हुए स्थानीय लोगों ने सड़क निर्माण में रोक लगा दी. 72 लाख रुपये की लागत वाली यह सड़क निगम की इंजीनियरिंग शाखा द्वारा ब्लैक लिस्टेड हुए उसी पारस कंस्ट्रक्शन कंपनी द्वारा बनायी जा रही है, जिसे मंगलवार को नगर विकास मंत्री सीपी सिंह ने नाराजगी जतायी थी. जर्जर सड़क निर्माण कार्य पर नाराजगी जताते हुए स्थानीय पार्षद साजदा खातून ने भी निगम के कार्यशैली पर सवाल खड़ा किया. उन्होंने कहा कि ब्लैक लिस्टेड कंपनी को फिर से काम मिलना अपने आप में सवाल खड़ा करता है. स्थानीय लोगों के विरोध की जानकारी मिलते ही इंजीनियरिंग विभाग के अभियंता शिवशंकर कुमार मौके पर पहुंचे और काम में रोक लगा दी. अब पूरे मामले को लेकर निगम के कार्यपालक अभियंता बंसत कुमार गुरुवार को निर्माण कार्य का निरीक्षण करेंगे.

भुगतान नहीं करने का सीपी सिंह ने दिया था निर्देश

मालूम हो कि मंगलवार को वार्ड-16 स्थित नया टोली में पारस कंस्ट्रक्शन द्वारा 16 लाख की लागत वाली नाली निर्माण कार्य को लेकर नगर विकास मंत्री ने नाराजगी जतायी थी. लोगों से मिली शिकायत के बाद उन्होंने मौके का दौरा कर निगम के अभियंताओं को कड़ी फटकार लगायी थी. कहा था कि संबंधित पारस कंस्ट्रक्शन के ठेकेदार को एक भी रुपये का भुगतान नहीं किया जाये. ऐसा नहीं होने पर संबंधित अभियंता पर कार्रवाई करने का निर्देश उन्होंने दिया था.

इलाके के सभी सड़क निर्माण की जांच जरूरी

बुधवार को जैसे ही ग्वालाटोली के स्थानीय लोगों ने जर्जर सड़क की स्थिति देखी, उन्होंने पारस कंस्ट्रक्शन के कार्यों में रोक लगा दी. स्थानीय पार्षद साजदा खातून ने कहा कि निगम की इंजीनियरिंग शाखा के अधिकारियों ने सड़क निर्माण का कार्य ऐसी कंपनी को दे दिया, जिसे पहले ही ब्लैक लिस्टेड किया जा चुका है. ऐसे में निगम द्वारा इलाके में बनाये जा रहे किसी तरह के सड़क निर्माण कार्य की पूरी जांच करना जरूरी है.

जांच का विषय है ब्लैक लिस्टेड कंपनी से काम करवाना

वार्ड 23 में चल रहे सड़क निर्माण कार्य को देख रहे सहायक अभियंता शिवशंकर कुमार ने कहा है कि पारस कंस्ट्रक्शन कंपनी को पहले ही ब्लैक लिस्टेड किया जा चुका है. ऐसे में फिर से उसी कंपनी को काम मिलना अपने आप में जांच का विषय है. जर्जर सड़क निर्माण कार्य की जानकारी मिलते ही उन्होंने इसका निरीक्षण कर काम में रोक लगा दी. गुरुवार को कार्यपालक अभियंता बसंत कुमार इस काम का निरीक्षण कर मामले की निष्पक्ष जांच करेंगे.

इसे भी पढ़ें: आरआरडीए ने अपनाया सख्त तेवर, बकाया प्राप्त करने के लिए दुकानदारों को भेजेगा अंतिम नोटिस

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: