JharkhandLead NewsNEWSRanchiTOP SLIDER

लीज पर पार्किंग का टेंडर देने में लगा RMC, बिरसा मुंडा बस स्टैंड के लिए ढाई करोड़ से भी अधिक की लगेगी बोली

Ranchi :  रांची नगर निगम (RMC) अपने अधिकार क्षेत्र के विभिन्न स्थलों के पार्किंग, बाजार और स्टैंड को लीज पर देगा. इसके लिए उसने ई- बिडिंग नोटिस जारी कर ऑनलाइन आवेदन मांगे हैं. शहरी क्षेत्र के 13 स्थलों को उसने इसके लिए चिन्हित किया है. इन स्थलों को लीज पर देने की उसने स्टार्टिंग प्राइस भी तय किया है. इसमें सबसे अधिक मिनिमम बोली खादगढा कांटाटोली स्थित बिरसा मुंडा बस स्टैंड की लगेगी. इसके लिए 2 करोड़ 52 लाख 86 हजार 967 रुपया स्टार्टिंग प्राइस तय किया है. हनुमान मंदिर, मेन रोड के समीप स्थित विशाल मेगा मार्ट की पार्किंग के लिए 64 हजार 944 रुपया तय किया है.

जानें किसके लिए क्या है स्टार्टिंग प्राइस

निगम की ओर से जारी नोटिस के मुताबिक टेंडर में योग्य पाए जाने वाले विभिन्न स्थलों की पार्किंग, स्टैंड के लिए आनलाइन रजिस्ट्रेशन विंडो ओपन है. उपयुक्त पाए गए संवेदक, आवेदक चयनित स्थलों के लिए स्टार्टिंग प्राइस के आधार पर ही प्रक्रिया में शामिल होकर लाभ उठा सकेंगे. रंगरेज गली की पार्किंग के लिए 5 लाख 63 हजार 200 रुपया तय किया गया है. इसी तरह बहु बाजार के लिए 7 लाख 82 हजार 210 रुपया, हनुमान मंदिर टैक्सी स्टैंड की पार्किंग के लिए 6 लाख 23 हजार 619 रुपया, रांची क्लब कॉम्प्लेक्स के लिए 5 लाख 45 हजार 566 रुपया, होराइजन होंडा के आउटसाइड स्थित सीताडेल ब्लैकबेरी बिल्डिंग की पार्किंग के लिए 3 लाख 17 हजार 350 रुपया, हीरो शोरूम से वी मार्ट तक के लिए 2 लाख 88 हजार 200 रुपया, कांके रोड स्थित प्रेमसंस मोटर की पार्किंग के लिए 1 लाख 54 हजार 550 रुपया, एसी मार्केट के बगल स्थित सैंको के समीप पार्किंग के लिए 1 लाख 52 हजार 176 रुपया, गुप्ता भंडार से लेदर वर्ल्ड तक की पार्किंग के लिए 1 लाख 49 हजार 50 रुपया, कचहरी काली मंदिर से कमिश्नर ऑफिस रोड साइड पार्किंग के लिए यह 96 हजार 538 रुपया तय किया गया है.

बिडिंग से जुड़ी जरूरी बातें

Sanjeevani

ई-बिडिंग के लिए 6 सितम्बर का डेट तय किया गया है. विस्तृत जानकारी के लिए 0651-2231333 पर संपर्क करना होगा. सीएमपीडीआई कैंपस, कांके स्थित गोंडवाना प्लेस के चौथे तल्ले पर जाकर भी जानकारी ली जा सकती है.

इसे भी पढ़ें: बिहार में सत्ता समीकरण बदलने के साथ ही बाहुबलियों की बल्ले-बल्ले, अनंत के करीबी मंत्री बने तो आनंद मोहन कायदे को ताक पर रख करीब 47 घंटे रहे जेल के बाहर

Related Articles

Back to top button