न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

RMC : कई कर्मचारियों के एक ही शाखा में 10 वर्षों से जमे रहने का उठा मुद्दा, मेयर बोलीं- लोगों का काम ही है कहना

91

Ranchi : रांची नगर निगम में विगत 10 वर्षों से एक शाखा में पदस्थापित कर्मचारी की स्थिति को लेकर अब निगम में बात उठने लगी है. निगम कर्मचारी संघ के अध्यक्ष नरेश राम ने इस मुद्दे को उठाते हुए कहा है कि इस संदर्भ में मेयर आशा लकड़ा ने भी पूर्व में आदेश दिया था, लेकिन उनके आदेश का पालन नहीं हुआ. वहीं, इस मुद्दे पर मेयर आशा लकड़ा ने न्यूज विंग को बताया कि पहले ही कई शाखाओं में स्थानांतरण करने की प्रक्रिया लागू की गयी है. आगे भी समय के अनुकूल परिवर्तन होगा. निगम से जुड़े लोगों का काम ही है कहते रहना. इस मामले में क्या करना है, क्या नहीं करना है, यह सभी जानते हैं. जो उचित होगा, उसी अनुरूप निगम कार्रवाई करेगा.

इसे भी पढ़ें- 18 महीने में एयरपोर्ट से लेकर नामकुम तक की 6.90 किमी सड़क नहीं बनी

कई विभागों में टेबल ट्रांसफर का है प्रावधान, पर निगम में नहीं : नरेश राम

नरेश राम ने बताया कि निगम की एक ही शाखा में विगत 10 वर्षों से एक कर्मचारी पदस्थापित हैं. इसके कारण दूसरे कर्मचारियों को काम करने या काम की जानकारी नहीं हो पाती है. सरकार के सारे विभागों में तीन वर्षों में टेबल ट्रांसफर करने का प्रावधान है, लेकिन रांची नगर निगम में ऐसा नहीं होता है. उन्होंने कहा कि निगम की मेयर ने भी पूर्व में आदेश जारी कर स्थानांतरण करने का निर्देश दिया था, लेकिन आज तक उनके भी आदेश का पालन नहीं हुआ. अध्यक्ष नरेश राम ने मांग की है कि 10 वर्षों से एक ही शाखा में बैठे कर्मचारियों का तत्काल स्थानांतरण किया जाये, ताकि अन्य कर्मचारियों को भी काम करने का मौका मिले.

इसे भी पढ़ें- रांची लोकसभा क्षेत्र का एक टोला, जहां सड़क नहीं, पेयजल नहीं, चुआं और झरने से प्यास बुझाते हैं…

मुझे क्या करना है, क्या नहीं करना है, यह सबको मालूम है : मेयर

कर्मचारी संघ के अध्यक्ष द्वारा उठाये सवाल के जवाब पर मेयर आशा लकड़ा ने कहा कि निगम में हर कोई अपने आधार पर बात उठाता रहता है. एक मेयर होने के नाते उन्हें क्या करना है, क्या नहीं करना है, वह सभी को मालूम है. अपने पहले के आदेश का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि पहले भी बाजार शाखा, जलशाखा में अधिकारियों को लेकर आवश्यक परिवर्तन किया गया है. हालांकि, यह प्रक्रिया एक बार में नहीं हो सकती, इसके लिए समय लगता है. जहां तक निगम से जुड़े कुछ लोगों की बात है, तो वे तो कहते रहेंगे. नियम अनुकूल जो भी उचित होगा, समय अनुरूप उसे देख आवश्यक परिवर्तन किया जयेगा.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: