JharkhandLead NewsRanchi

RMC: नहीं बढ़ेंगे सिटी बस का किराया व पार्किंग शुल्क

हर माह बोर्ड बैठक बुलाने की मांग पर मेयर और पार्षदों के बीच नोंक-झोंक

Ranchi : रांची नगर निगम के बोर्ड की बैठक में गुरुवार को तय हो गया कि फिलहाल सिटी बसों व वाहन पार्किंग का शुल्क नहीं बढ़ाया जायेगा. बढ़ोतरी को लेकर आए प्रस्ताव पर डिप्टी मेयर ने कहा कि कोरोना संक्रमण के कारण बिगड़ी आर्थिक स्थिति अभी तक सामान्य नहीं हुई है. ऐसे में जबतक स्थिति सामान्य नहीं हो जाती व राजधानी में बसों का संचालन सही तरीके से हो जाता, तब कोई वृद्धि नहीं की जाएगी.

रांची नगर निगम के नये भवन में आयोजित पहली निगम बोर्ड की बैठक काफी हंगामेदार रही. गुरुवार सुबह शुरू हुई बैठक के कुछ ही देर बाद मेयर आशा लकड़ा व कई पार्षदों के बीच जमकर नोंक-झोंक हुई.

विवाद निगम बोर्ड बैठक को हर माह बुलाने को लेकर शुरू हुआ. कुछ पार्षदों जिसमें वार्ड 27 के पार्षद ओम प्रकाश लीड कर रहे थे, की इस मांग पर मेयर काफी आग-बबूला हो गयीं. उन्होंने कहा कि बोर्ड बैठक में रहना है तो रहिए या चले जाइये.

इसपर पार्षदों के एक समूह ने कहा कि एक जनप्रतिनिधियों को यह बात शोभा नहीं देता है. मेयर के बातों को सुन जब पार्षद ओमप्रकाश खड़े हुए तो मेयर ने कहा कि आपको मेरे साथ मारपीट करना है, तो आइए मारपीट कीजिए. इस दौरान मेयर कुछ भावुक हो गयीं और उनकी आंखों से आंसू आ गये. मामला बिगड़ते देख बोर्ड बैठक आधे घंटे के लिए स्थगित कर दी गयी.

इसे भी पढ़ें- हाईकोर्ट ने सहायक अभियंता के विज्ञापन को रद्द किया, 2019 के पहले की नियुक्तियों के लिए मान्य नहीं होगा आर्थिक आधार पर 10 फीसदी आरक्षण

15वें वित्त आयोग राशि से सड़क व नाली निर्माण नहीं हो रहा, भेजा जाएगा प्रस्ताव

लंच ब्रेक के दौरान मीडिया से बातचीत में डिप्टी मेयर संजीव विजयवर्गीय ने कहा कि आज शहर में जितनी समस्याएं हैं, इन पर आज की बोर्ड बैठक में विस्तृत चर्चा हुई.

उन्होंने कहा कि 14वें वित्त आयोग की 275 करोड़ रुपए की राशि से निगम क्षेत्र में सड़क और नाली निर्माण काम हुआ था. लेकिन अब 15वें वित्त आयोग की राशि से निर्माण नहीं हो पा रहा है. ऐसे में यह निर्णय हुआ, इस बाबत एक प्रस्ताव केंद्र व राज्य सरकार को भेजा जाएगा.

लंबित योजनाओं को पूरा करने के लिए 600 करोड़ रुपए की मांग

उन्होंने कहा कि पिछले 1 साल में निगम के सारे वार्डों में कई योजनों के काम लंबित है. विकास के कई काम अभी तक अधुरे है. इसको पूरा करने के लिए पहले ही विभागीय सचिव से 600 करोड़ रुपए राशि से ज्यादा की मांग मेयर ने की थी. हालांकि इसपर कोई फैसला नहीं हुआ. आज की बैठक में इस निधि को मांगने को लेकर एक प्रस्ताव सरकार को भेजे जाने का निर्णय हुआ है.

घूस लेने वाले कर्मियों को चिंह्ति कर दंडित करेंगे नगर आयुक्त

संजीव विजयवर्गीय ने कहा कि शहर के तीन आयामों में सफाई, सड़क व नाली निर्माण, रोजगार व पीएम आवास योजना शामिल है. इसमें काफी विसंगतियां हैं. बैठक में उन्हें दूर करने पर भी विस्तृत चर्चा हुई.

इन विसंगतियों में ऋण लेने में परेशानी, घूस लेने वाले कर्मियों की शिकायत काफी ज्यादा है. उन्होंने कहा कि इसे देखते हुए नगर आयुक्त को अधिकृत किया गया है कि वे अगले 7 दिनों में ऐसे लोगों को चिंह्ति कर दंडित करें.

इसे भी पढ़ें-जेल में ही रहेंगे भैरव सिंह, निचली अदालत ने ठुकराई जमानत याचिका

पानी की समस्या को लेकर चीफ इंजीनियर की कमेटी सौंपेगी रिपोर्ट

नगर आयुक्त मुकेश कुमार ने बताया कि गर्मियों के दिनों पानी की समस्या को देख कई वार्डों पार्षदों ने अपनी चिंता जतायी है. ऐसे में इंजीनियरिंग विभाग को निर्देश दिया गया है कि जो भी दिक्कतें या इस संदर्भ में बची राशि का एक प्रतिवेदन चीफ इंजीनियरिंग की अध्यक्षता में एक कमिटी बनाएगी. कमिटी अगले 15 दिनों के भीतर एक प्रतिवेदन सभी वार्डों पार्षदों के समक्ष रखेगी.

बोर्ड बैठक में लिए गये कुछ अहम निर्णय

  • सुपरवाइजर व जोनल के मानदेय में बढ़ोतरी.
  • मधुकम व खादगढ़ा में बने सब्जी मार्केट में उन्हें जगह दी जाएगी, जो पहले से यहां सब्जी बेच रहे हैं.
  • प्रधानमंत्री आवास योजना में कई ऐसे लाभुक थे, जिनके पास जमीन नहीं है, और वे घऱ नहीं बना पाये है. या जिन्होंने आवास
  • आवंटन प्रक्रिया को पूरी नहीं की है. अब वैसे लाभुकों को योजना से बाहर कर नये लाभुकों को जोड़ने का निर्णय लिया गया है.
  • आगामी गर्मी के मौसम में सभी 53 वार्डों में पानी की समस्या नहीं हो, इसके लिए फैसला हुआ है कि 15वें वित्त आयोग की राशि का उपयोग किया जाएगा.
  • राजधानी के कई इलाकों में खऱाब हो चुके रोड-नाली का निरीक्षण कर उन्हें पुनः बनाने का प्रस्ताव.
  • शहीद संकल्प वाटिका में संकल्प की प्रतिमा लगाने का प्रस्ताव पास हुआ है. जो भी इस प्रतिमा को लगाएगा, उसे निगम द्वारा एनओसी दिया जाएगा.
  • कई रोड के नामकरण करने का प्रस्ताव पास हुआ है.

इसे भी पढ़ें- देश के 50 शहरों के लिए बन रही लॉजिस्टिक्स योजना, झारखंड सरकार भी गंभीर

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: