Opinion

#LIC में निवेश पर बढ़ रहा जोखिम, पांच सालों में दोगुना हुआ एनपीए

Girish Malvia

LIC जो हर साल लगभग 1.5 से 2 प्रतिशत के बीच ही ग्रॉस एनपीए बनाए रखती थी, वह सितंबर 2019 में सकल एनपीए 6.10 प्रतिशत बता रही हैं. साफ है कि LIC मोदी सरकार के पापों का बोझ उठाते-उठाते अब थकने लगी है, पिछले पांच साल में LIC का एनपीए दोगुना हो गया है.

इसे भी पढ़ेंःपुलवामा में गणतंत्र दिवस से पहले जैश आतंकियों के साथ सुरक्षाबलों की मुठभेड़, तीन को सेना ने घेरा

Catalyst IAS
SIP abacus

डेक्कन क्रॉनिकल, एस्सार पोर्ट, गैमन, आइएल एंड एफएस, भूषण पावर, वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज, आलोक इंडस्ट्रीज, एमट्रैक ऑटो, एबीजी शिपयार्ड, यूनिटेक, जीवीके पावर और जीटीएल आदि में LIC का 25 हजार करोड़ रुपये फंसा हुआ है. ये सारी कंपनियां दिवालिया अदालत में कार्यवाही का सामना कर रही हैं.

Sanjeevani
MDLM

LIC ने दीवान हाउसिंग फाइनैंस कॉर्पोरेशन लिमिटेड, इंफ्रास्ट्रक्चर लीजिंग एंड फाइनैंशल सर्विसेज (DHFL) और अनिल अंबानी की अगुवाई वाले रिलायंस ग्रुप सहित कई संकटग्रस्त कंपनियों को भारी-भरकम कर्ज दे रखा है.

इसे भी पढ़ेंःतीन दिनों की रिमांड में गैंगस्टर सुजीत सिन्हा ने खोले कई राज

पिछले साल कांग्रेस नेता अजय माकन ने तब आरबीआइ की एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए दावा किया था कि पिछले पांच साल में एलआइसी ने ‘जोखिमवाली’ सरकारी कंपनियों में अपना निवेश दोगुना बढ़ाकर 22.64 लाख करोड़ रुपये कर लिया है.

जिस तरह से बड़ी कंपनियां डूब रही है LIC में फंसे आम आदमी के लाखों-करोड़ों रुपए के निवेश पर खतरा मंडरा रहा है.

डिसक्लेमरः इस लेख में व्यक्त किये गये विचार लेखक के निजी विचार हैं. लेख में दी गयी किसी भी तरह की सूचना की सटीकतासंपूर्णताव्यावहारिकता और सच्चाई के प्रति newswing.com उत्तरदायी नहीं है. लेख में उल्लेखित कोई भी सूचनातथ्य और व्यक्त किये गये विचार newswing.com के नहीं हैं. और newswing.com उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

इसे भी पढ़ेंःभीमा कोरेगांव हिंसाः मामले की जांच NIA को दिये जाने से केंद्र और महाराष्ट्र सरकार में ठनी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button