न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रिम्स में भर्ती दुष्कर्म पीड़िता को सता रहा संदिग्धों का भय

110

Ranchi : रिम्स में भर्ती दुष्कर्म पीड़िता संदिग्धों के भय के साय में जी रही है. किसी भी अनजान शख्स को देखते ही असुरक्षित महसुस करने लगती है पीड़िता. उसके परिजनों का कहना है कि हॉस्पिटल में कई ऐसे लोग आते है जो संदिग्ध लगते है. वे आकर बच्ची से बात करने की कोशिश भी करते है. हॉस्पिटल में कोई सुरक्षा व्यवस्था नहीं है. परिजनों ने इसकी शिकायत बाल संरक्षण आयोग की अध्यक्षा आरती कुजूर से की थी. जिसके बाद आरती पीड़िता से मिलने रिम्स पहुंची.

आरती कुजूर ने धनबाद में सामूहिक दुष्कर्म की शिकार पीड़िता से और उसके परिजनों से मुलाकात कर कई विषयों पर जानकारी ली. पीड़िता के परिजनों ने आयोग की अध्यक्षा से शिकायत करते हुए कहा कि पीड़िता कि स्थिति बेहतर नहीं होने के बाबजूद उसे हॉस्पिटल से डिस्चार्ज करने की बात कही जा रही है. आरती ने कहा कि टेलिफोन के माध्यम से जानकारी मिली थी कि बच्ची को डिस्चार्ज कर दिया गया है. जबकि उसके सेहत में कोई सुधार नहीं हुआ है. साथ ही कई अपरिचित लोग आकर उससे और उसके परिजनों से पुछताछ कर रहे थें. इसके बाद रिम्‍स के प्रभारी निदेश डॉ तुलसी महतो से मिलकर सुरक्षा उपलब्ध कराने को कहा है.

इसे भी पढ़ेंःस्वस्थ समाज से ही समृद्ध एवं विकसित राज्य का होगा निर्माण : सीएम

रिम्स में ही रहेगी बच्ची : निदेशक

भयभीत होने के बाद बच्ची के परिजनों ने आरती कुजूर से सुरक्षा उपलब्ध कराने की गुहार लगाई थी. जिसके बाद आरती ने रिम्स से मुलाकात करने पहुंची. रिम्स के प्रभारी निदेशक डॉ तुलसी महतो ने कहा कि बच्ची की चिकित्सा और सुरक्षा में कोई कोताही नहीं बरती जायेगी. जबतक बच्ची के सेहत में सुधार नहीं आ जाता वह रिम्स में ही रहेगी. उन्होंने कहा कि किसी प्रकार की कोई शंका होने पर रिम्स के सुरक्षाकर्मी या पुलिस से संपर्क कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: