JharkhandLead NewsRanchi

Rims News: पावर कट से परेशान रहे मरीजों के परिजन, नहीं हुआ रजिस्ट्रेशन

Ranchi:  झारखंड के सबसे बड़े हॉस्पिटल रिम्स में पावर कट मरीजों के लिए परेशानी का सबब बन गया है. रजिस्ट्रेशन से लेकर इलाज तक कराने में मरीजों को काफी परेशानी झेलनी पड़ रही है. वहीं अधिकारी से लेकर कर्मचारी भी परेशान हैं. रिम्स में घंटों पावरकट की वजह से कई काम प्रभावित हो रहे हैं. हालांकि, रिम्स में बिजली कट की समस्या से निपटने के लिए 400 किलोवाट का रूफ टॉप सोलर प्लांट लगाया गया है, जो बेकार साबित हो रहा है. मंगलवार की सुबह हुई बिजली कट से लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी. लोग लाइन खड़े रहे लेकिन उनका रजिस्ट्रेशन नहीं हो पा रहा था.

इसे भी पढ़ेंःपूर्व सीएम बाबूलाल मरांडी के राजनीतिक सलाहकार सुनील तिवारी को लेकर कुछ देर में रांची पहुंचेगी पुलिस

advt

रजिस्ट्रेशन के लिए लंबी लाइन

हॉस्पिटल में सुबह से ही मरीजों की लंबी लाइन लगी है. पावरकट के कारण मरीजों का रजिस्ट्रेशन ही नहीं हो पा रहा है. हर आधे घंटे पर बिजली की ट्रिप के कारण मशीनों को चालू होने में भी काफी समय लग रहा है. कुछ ऐसी ही स्थिति सोमवार को भी देखने को मिली थी. जहां इमरजेंसी में भी मरीजों का रजिस्ट्रेशन नहीं हो पा रहा था.

5.40 करोड़ रुपए आई है लागत

हॉस्पिटल की मेन बिल्डिंग की छत पर 400 किलोवाट का सोलर प्लांट सिस्टम लगाया गया है. बिजली की इस वैकल्पिक व्यवस्था से यहां 24 घंटे निर्बाध पावर सप्लाई की योजना थी. जिससे रिम्स के सभी वार्ड, ऑपरेशन थियेटर और इमरजेंसी को जोड़ना था ताकि पावर कट के दौरान भी वहां पर लाइट उपलब्ध रहे, लेकिन 5.40 करोड़ रुपए का सोलर पावर प्लांट से इमरजेंसी के लिए भी लाइट उपलब्ध नहीं हो पा रहा है.

इसे भी पढ़ेंःCM हेमंत को भोजपुरी, मगही से झारखंड के बिहारीकरण का डर,  भाजपा ने कहा-पूरे समाज को अपमानित करने पर लगी सरकार

चल सकती थी कंप्यूटर और मशीनें

रिम्स में हर दिन बिजली की खपत 2200 किलोवाट है. ऐसे में 400 किलोवाट की सप्लाई से जरूरत की बिजली तो पूरी नहीं की जा सकती, लेकिन इससे पूरे हॉस्पिटल की लाइट और कंप्यूटर तो चल सकते थे. इसके अलावा बिजली से कुछ मशीनें भी चलाई जा सकती थी. फिर भी आजतक कनेक्शन नहीं हो सका.

 

इस मामले में रिम्स के सर्जन सह पीआरओ डॉ डीके सिन्हा ने कहा कि पावर कट की समस्या तो नहीं है. सोलर प्लांट भी चालू है. अगर कोई परेशानी होती तो हमें सूचना जरूर मिलती। अगर कहीं परेशानी है तो मामले को देखा जाएगा.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: