NEWS

Rims News: कोरोना की तीसरी लहर की आशंका, हाईकोर्ट की फटकार और सरकार की सहमति के बाद भी नहीं आई सीटी स्कैन मशीन

Ranchi: कोरोना की सेकेंड वेब ने झारखंड में कहर मचाया. हजारों लोग कोविड पॉजिटिव हुए. एचआरसीटी स्कैन कराने के लिए लोग भागते रहे लेकिन राज्य के सबसे बड़े अस्पताल रिम्स में मरीजों का टेस्ट नहीं हो पाया. अब कोरोना की थर्ड वेब को लेकर अलर्ट जारी है. छोटे बच्चों से लेकर बड़ों तक के चपेट में आने की आशंका जताई गई है. इसके बावजूद राज्य के सबसे बड़े हॉस्पिटल रिम्स में आजतक सीटी स्कैन मशीन नहीं आई है. रिम्स में सीटी स्कैन मशीन नहीं होने के कारण हाईकोर्ट ने भी फटकार लगाई थी. वहीं सरकार ने भी मशीन की खरीदारी के लिए कंपनी को मनोनीत कर दिया है. इससे साफ है कि रिम्स प्रबंधन को हाईकोर्ट और सरकार के आदेश की कोई परवाह ही नहीं है. ऐसे में सवाल यह उठता है कि आखिर रिम्स में सीटी स्कैन के लिए मरीजों को और कितना इंतजार करना होगा.

इसे भी पढ़ेंःJharkhand Corona Update: 12 जिलों में एक भी नया संक्रमित नहीं, रांची में 10 व पूर्वी सिंहभूम में 5 संक्रमित मिले

डेढ़ महीने पहले कैबिनेट ने दी थी मंजूरी

4 जून को सीएम हेमंत सोरेन की अध्यक्षता में झारखंड कैबिनेट की बैठक हुई थी. जिसमें कोविड संक्रमण को देखते हुए स्वास्थ्य सेवा से जुड़े कई एजेंडों पर मुहर लगी थी. कोविड की रोकथाम में लगे सभी डॉक्टरों व कर्मियों को एक माह के मूल वेतन मानदेय के बराबर प्रोत्साहन राशि, रिम्स में सीटी स्कैन मशीन खरीदने के लिए सीमेंस हेल्थकेयर प्राइवेट लिमिटेड के मनोनयन की मंजूरी, रिम्स के डॉक्टर (टीचिंग-नान टीचिंग) के सातवें पुनरीक्षित वेतनमान में वेतन पुनरीक्षण की स्वीकृति दी गई थी, लेकिन मशीन कबतक आएगी इसकी जानकारी नहीं है.

advt

इसे भी पढ़ेंःदेश में कोरोना से रोजाना जान गंवाने वालों की संख्या 500 के करीब पहुंची, जानें-24 घंटे में कितने मरीज मिले-कितने स्वस्थ हुए

27 मई को हाइकोर्ट ने लगाई थी फटकार

रिम्स में सीटी स्कैन मशीन सहित अन्य मेडिकल इक्विपमेंट्स खरीद के बिंदु पर झारखंड हाईकोर्ट में सुनवाई हुई थी. रिम्स प्रशासन और सरकार की ओर से सीटी स्कैन मशीन की खरीद में हो रही लेट-लतीफी पर नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा था कि लोगों की जान जा रही है और सरकार-रिम्स प्रशासन बैठक पर बैठक करते जा रहे हैं. ऐसे में लगता है कि राज्य सरकार और रिम्स प्रशासन मेडिकल इक्विपमेंट्स की खरीद पर गंभीर नहीं है. उन्होंने स्पष्ट आदेश दिया कि हर हाल में सीटी स्कैन मशीन खरीद कर रिम्स में लगवाएं. साथ ही यह भी आदेश दिया कि मशीन आते ही उसे इंस्टॉल करने के लिए सारी व्यवस्था पूर्व में ही कर लें.

 

रिम्स के सर्जन सह पीआरओ डॉ डीके सिन्हा की मानें तो मशीन का आर्डर सीमेंस हेल्थकेयर प्राइवेट लिमिटेड कंपनी को दिया जा चुका है. उन्होंने कहा कि मशीन आने में अभी दो महीने तक का समय लग सकता है. इसके बाद ही मरीजों को सीटी स्कैन की सुविधा रिम्स में मिलने लगेगी.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: