JharkhandLead NewsRanchi

रिम्स में डॉक्टर हैं पर स्टॉफ नहीं, कैसे होगी मरीजों की सेवा

Ranchi : राज्य के सबसे बड़े हॉस्पिटल रिम्स में मरीजों को बेहतर इलाज मुहैया कराने के दावे किए जाते हैं. इसके लिए लगातार डॉक्टरों की बहाली की जा रही है ताकि मरीजों को इलाज कराने में कोई परेशानी न हो. हॉस्पिटल में आने वाले मरीजों का इलाज भी हो रहा है. लेकिन मरीजों की प्रॉपर देखभाल करने वाले स्टॉफ ही हॉस्पिटल में नहीं हैं. इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि हॉस्पिटल में डॉक्टर हैं पर स्टाफ नहीं. आज स्थिति यह है कि मैनपावर नहीं होने के कारण मरीजों को काफी परेशानी झेलनी पड़ती है. इतना ही नहीं उन्हें दवा व अन्य सुविधाएं भी समय से नहीं मिल पा रही है. जिससे कि कई मरीज हॉस्पिटल भी छोड़कर चले जाते है.

इसे भी पढ़ें : रांची के बिरसा मुंडा स्मृति उद्यान सह स्वतंत्रता सेनानी संग्रहालय को पीएम मोदी ने किया राष्ट्र को समर्पित

1500 मरीजों पर हैं 939 स्टॉफ

Catalyst IAS
SIP abacus

हॉस्पिटल में डॉक्टरों की संख्या पर्याप्त है. जिसमें सीनियर डॉक्टर एकेडमिक, नॉन एकेडमिक, जूनियर डॉक्टर्स पीजी, हाउस सर्जन, इंटर्न मिलाकर 841 डॉक्टर हैं. वहीं स्टाफ की बात करें तो इतने बड़े हॉस्पिटल में जहां इनडोर में हमेशा 1500 से अधिक मरीज एडमिट होते हैं वहां मात्र 939 स्टाफ हैं. वहीं आउटसोर्स पर भी स्टाफ की बहाली की गई है. लेकिन वे भी मरीजों की तुलना में नाकाफी साबित हो रहे हैं. मरीजों की देखभाल के लिए नर्सिंग और पारा मेडिकल स्टूडेंट्स की भी ड्यूटी लगाई जा रही है. लेकिन मैनपावर के स्थाई समाधान को लेकर प्रबंधन गंभीरता नहीं दिखा रहा.

MDLM
Sanjeevani

तीन शिफ्ट में 2700 नर्स की जरूरत

हॉस्पिटल में हमेशा 1500 से अधिक मरीज एडमिट रहते है. जिनकी देखभाल के लिए तीनों शिफ्ट में कम से कम 2700 नर्स की जरूरत है. जिससे कि मरीजों को टाइम से दवाएं और इंजेक्शन दी जा सके. वहीं उनकी देखभाल भी की जा सके. बताते चलें कि हॉस्पिटल में 451 नर्सिंग स्टाफ है. इसके अलावा हर वार्ड में वार्ड ब्वाय के नाम पर भी एक-एक स्टाफ ही है. जिसकी भी संख्या बढ़ाने की जरूरत है.

रिम्स में मैनपावर

सीनियर डॉक्टर एकेडमिक 253

सीनियर डॉक्टर नॉन एकेडमिक 23

जूनियर डॉक्टर्स पीजी 412

जूनियर डॉक्टर्स हाउस सर्जन 75

जूनियर डॉक्टर्स इंटर्न 78

मेडिकल स्टाफ थर्ड ग्रेड 162

स्टाफ फोर्थ ग्रेड 220

नर्सिंग स्टाफ 451

मिसलिनियस स्टाफ 106

इसे भी पढ़ें : Jharkhand : पाकुड़ में 41 करोड़ की अनियमितता की वित्त विभाग से शिकायत

Related Articles

Back to top button