JharkhandRanchi

गुंडों का अखाड़ा बन गया है रिम्स, जहां मरीजों और परिजनों की होती है पिटाई : झाविमो

Ranchi : राज्य के सबसे बड़े अस्पताल रिम्स के डॉक्टरों द्वारा मरीजों एवं उनके परिजनों के साथ नित्य मारपीट और दुर्व्यवहार किये जाने की घटनाओं के खिलाफ रविवार को अरगोड़ा चौक पर स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी का पुतला जलाया गया. यह पुतला दहन झाविमो, रांची महानगर के तत्वावधान में किया गया. साथ ही, इस दौरान विरोध प्रदर्शन भी किया गया. इससे पूर्व झाविमो के सैकड़ों कार्यकर्ता डिबडीह स्थित पार्टी मुख्यालय से महानगर अध्यक्ष सुनील गुप्ता के नेतृत्व में जुलूस के रूप में प्रदर्शन करते हुए अरगोड़ा चौक पहुंचे एवं घंटों प्रदर्शन कर स्वास्थ्य मंत्री का पुतला दहन किया.

पुतला दहन के उपरांत कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए महानगर अध्यक्ष सुनील गुप्ता ने कहा कि राज्य का सबसे बड़े अस्पताल रिम्स गुंडों का अखाड़ा बन गया है. नित्य दिन मरीजों एवं उनके परिजनों के साथ मारपीट एवं दुर्व्यवहार किया जाता है. उन्होंने कहा कि राज्य की जनता बड़ी उमीद से इलाज के लिए रिम्स जाती है, लेकिन रिम्स प्रशासन एवं वहां के डॉक्टरों द्वारा मारपीट की जाती है.

इसे भी पढ़ें- रिम्‍स में डॉक्‍टरों ने मरीजों को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा

ram janam hospital
Catalyst IAS

मरीजों से गुंडों की तरह व्यवहार करते हैं जूनियर डॉक्टर : जितेंद्र वर्मा

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

महानगर महासचिव जितेंद्र वर्मा ने कहा कि बार-बार सरकार रिम्स को सुधारने की बात करती है, लेकिन व्यवस्था में सुधार नहीं है. जूनियर डॉक्टर गुंडों की तरह मरीजों से व्यवहार करते हैं. रिम्स प्रशासन एवं डॉक्टरों के कारण पूरे देश में रिम्स का नाम बदनाम हो रहा है. उन्होंने कहा कि सरकार अविलंब रिम्स प्रशासन एवं गुंडागर्दी कर रहे डॉक्टरों पर करवाई करे, अन्यथा पार्टी चरणबद्ध आंदोलन करेगी.

इसे भी पढ़ें- सेवा में लापरवाही करने पर नपेंगे सरकारी डॉक्टर : निधि खरे

ये थे मौजूद

पुतला दहन सह विरोध प्रदर्शन में मुख्य रूप से महानगर महासचिव जितेंद्र वर्मा, शिवा कच्छप, नजीबुल्लाह खान, मंतोष सिंह, अभिजीत दत्ता, सतेंद्र वर्मा, अमित सिंह, महाबीर नायक, इंदूभूषण गुप्ता, शिवशंकर साहू, पंकज पांडेय, सजल भट्टाचार्य, नीरज सिंह, मो तन्नू आलम, अशोक श्रीवास्तव, भीम शर्मा, शिवचरण मुंडा, पीयूष आनंद, संजय भगत, संजीत चंद्रवंशी, राकेश सिंह, प्रेम वर्मा, अभिलेख सिंह, विजय मुंडा, सोमित्रो भट्टाचार्य, गुड्डू साहू, लालू माथुर, अर्जुन मलिक, मो अफजल, घूरन राम, मो आदिल, विजय रंजन, विजय तिर्की, अनुज कच्छप सहित सैकड़ों की तादात में कार्यकर्ता व पदाधिकारी शामिल हुए.

Related Articles

Back to top button