JharkhandRanchi

रिम्स जीएनएम स्कूल ऑफ नर्सिंग कॉलेज में छात्राओं ने आवाज उठायी तो उन्हें मिल रही धमकीः एनएसयूआइ

विज्ञापन
Advertisement

Ranchi: जीएनएम की 2017-20 की छात्राएं छुट्टी मांगने और हॉस्टल मेस की शिकायत लेकर रिम्स की डायरेक्टर के पास गयी थीं. ज्ञापन सौंपा था. उसके बाद से वहां की प्रिंसिपल थायमम्मा पीटी एवं उनके सहयोगी फैकल्टी ने सभी छात्राओं को डराना-धमकाना शुरू किया. उन्हें मेंटली टॉर्चर किया जा रहा. यह आरोप कांग्रेस की छात्र ईकाई एनएसयूआइ के प्रदेश उपाध्यक्ष इंदरजीत सिंह ने लगाया है.

उन्होंने कहा कि पूरे कोरोना पीरियड में सभी हॉस्टल-कॉलेज बंद करने का आदेश था. तो फिर जीएनएम के थर्ड ईयर की छात्राओं को क्यों रोका गया. उन्हें जबरदस्ती हॉस्पिटल में काम करने को बोला जा रहा. जबकि पोस्ट बेसिक और बीएससी नर्सिंग सबको छुट्टी दे दी गयी है. ड्यूटी करने के लिए भी जब तैयार सभी छात्राओं ने बोला कि कोरोना का डर सबको है. उन्हें भी पूरी सुरक्षा के साथ पीपीई किट के साथ ड्यूटी पर भेजा जाये. छात्राओं ने बिना सुरक्षा किट के ड्यूटी पर जाने से मना कर दिया तो सभी को हॉस्टल में ही कैद कर दिया गया. एनएसयूआइ के प्रदेश अध्यक्ष ने स्वास्थ्य मंत्री से मिल कर प्रिंसिपल को हटाने की मांग की है.

इसे भी पढ़ें – Corona: 2 जुलाई को कुल 34 नये संक्रमित मिले, झारखंड में हुए 2559

advt

मेस के नाम पर भी हो रही धांधली

यहां की छात्राओं ने आरोप लगाया है कि मेस फीस के नाम पर आज तक कोई रसीद नहीं दी गयी. न खाने की क्वालिटी है न काम करनेवाले स्टाफ. छात्राओं से जबरदस्ती सब्जी कटवाया जाता है, रोटी बनवायी जाती है. खुद से वहां की प्रिंसिपल कभी भी फीस अपनी मर्जी से बढ़ा देती हैं. हॉस्टल ड्यूटी में जिसकी भी ड्यूटी लगती है उसके साथ अत्याचार किया जाता है.

इसे भी पढ़ें – राज्य के तीन आईपीएस अधिकारियों का तबादला, आरके माल्लिक बने जेपीएचसीएल के एमडी

होस्टल की स्थिति जर्जर

हॉस्टल की छत कभी भी गिर सकती है. हॉस्टल में बाथरूम की स्थिति ऐसी की कोई अंदर न जाये. वाटर प्यूरीफायर तक नहीं है. नल के पानी में कीड़े निकलते हैं. छात्राओं की स्थिति ऐसी हो गयी है कि कभी भी कोई बड़ी घटना घट सकती है.

इसे भी पढ़ें – “What Hemant Soren thinks today, India thinks tomorrow” : सुप्रियो भट्टाचार्य

advt
Advertisement

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close
%d bloggers like this: