JharkhandLead NewsRanchi

RIMS : सालाना बजट करोड़ों का, मरीजों की चादर धोने के लिए धेला तक नहीं

Ranchi : राज्य का सबसे बड़ हॉस्पिटल रिम्स जहां इलाज कराने के लिए झारखंड के अलावा बिहार व अन्य राज्यों से मरीज आते हैं. हर साल मरीजों की भीड़ तो बढ़ रही है. लेकिन हॉस्पिटल में व्यवस्था सुधरने का नाम नहीं ले रही है. आज स्थिति यह है कि मरीजों की सेहत के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है. वहीं उनकों दिए जाने वाले बेड और कंबल की धुलाई के नाम पर केवल आईवॉश किया जा रहा है.

चूंकि महीनों से सेंट्रल स्टरलाइजेशन एंड सप्लाई डिपार्टमेंट (सीएसएसडी) को न ही केमिकल मिल रहा है और न ही डिटर्जेंट. इतना ही नहीं आपरेशन थिएटर में इस्तेमाल किए जाने वाले कपड़े भी ऐसे ही धोए जा रहे हैं. जिससे समझा जा सकता है कि कैसे रिम्स में संक्रमण फैलने का खतरा मंडरा रहा है. बताते चलें कि रिम्स का सालाना बजट करोड़ों का है इसके बावजूद मरीजों की चादर धोने के लिए सर्फ नहीं है. वहीं इस मामले में जब संबंधित अधिकारी से बात करने की कोशिश की गई तो उन्होंने कुछ भी कहने से इंकार कर दिया.

advt

इसे भी पढ़ें :सोनारी के वैष्णवी ज्वेलर्स में छत का एसबेस्टस काटकर चोरी, पुलिस जांच में जुटी

400 करोड़ से अधिक का बजट

रिम्स का सालाना बजट 400 करोड़ रुपये से अधिक का है. जिसमें मेडिकल इक्विपमेंट्स से लेकर दवाएं व अन्य चीजें शामिल है. इसके बावजूद धुलाई के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले केमिकल और डिटर्जेंट नहीं मिल रहे हैं. जबकि इसकी खरीदारी के लिए ज्यादा फंड की जरूरत नहीं है.

ओटी लीनेन के लिए केमिकल जरूरी

इमरजेंसी और आपरेशन थिएटर में यूज किए जाने बेडळीट और कंबल में हमेशा खून लग जाता है. ऐसी स्थिति में इस लीनेन को साफ करने के लिए अलग मशीन लगाई गई है. जिसमें केमिकल का इस्तेमाल किया जाता है. जिससे कि ये लीनेन साफ हो जाए और इंफेक्शन की संभावना न हो. लेकिन ये लीनेने भी जेनरल वाश कर दोबारा इस्तेमाल के लिए भेज दिए जा रहे हैं.

 

1500 मरीज रहते हैं एडमिट

हॉस्पिटल में इलाज के लिए हर दिन 2000 मरीज आते हैं. इसके अलावा इमरजेंसी में भी 400 से ज्यादा मरीज पहुंचते हैं. इनडोर की बात करें तो वहां भी हमेशा 1500 मरीज एडमिट रहते है. ऐसे में मरीजों को साफ बेडशीट उपलब्ध कराना है. लेकिन इतनी संख्या में बेडशीट केवल मशीन में पानी से धुलाई कर भेज दिए जा रहे हैं. वह भी तब जब कोरोना का खतरा बरकरार है. वहीं पहले से ज्यादा एहतियात बरतने को कहा जा रहा है.

इसे भी पढ़ें :गिरिडीह श्याम भक्त मंडल ने मनाया श्री श्याम प्रभु का वार्षिक महोत्सव, भजनों पर खूब झूमे भक्त

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: