JharkhandRanchi

कोविड-19 के कारण नहीं हुई राजस्व वसूली, JBVNL करेगा DVC का भुगतान, संयम बरतें: MD

  • डीवीसी के अल्टीमेटम के बाद जेबीवीएनएल एमडी ने लिखा पत्र

Ranchi: डीवीसी ने जेबीवीएनएल को बकाया भुगतान के लिए अल्टीमेटम दिया है. जेबीवीएनएल एमडी की ओर से डीवीसी को पत्र लिखा गया है जिसमें जल्द से जल्द भुगतान करने की बात की गयी है. पत्र में जिक्र है कि आत्मनिर्भर भारत योजना के तहत केंद्र से लोन लिया जायेगा जिससे जेबीवीएनएल डीवीसी का बकाया भुगतान करेगी. वहीं सब्सिडी के लिए राज्य सरकार से एक हजार करोड़ मिलने वाले हैं जिससे डीवीसी को भुगतान किया जा सकता है.

लिखा है कि कोविड 19 लॉकडाउन के बाद से जेबीवीएनएल को राजस्व वसूली सही से नहीं हो पायी जिससे मार्च के बाद से भुगतान नहीं किया गया. जेबीवीएनएल एमडी ने परिस्थिति को ध्यान में रखते हुए डीवीसी को संयम बरतने कहा है. डीवीसी कोई भी अनिवार्य कार्रवाई नहीं करे.

एमडी ने लिखा है कि स्थिति सामान्य हो रही है. ऐसे में जल्द से जल्द जेबीवीएनएल की ओर से भुगतान किया जायेगा. डीवीसी की ओर से अल्टीमेटम 24 जून को दिया गया जिसमें बकाया भुगतान करते हुए, 14 मार्च को हुई वार्ता की शर्तों को पूरा नहीं करने की बात की गयी है.

इसे भी पढ़ें – MNREGA: अब लंबित योजनाओं के लिए जिला उप विकास आयुक्त होंगे जिम्मेवार, विभाग ने जारी किया गाइड लाइन

14 मार्च को की गयी थी वार्ता

मार्च में जेबीवीएनएल के पास डीवीसी का 4995 करोड़ रूपये बकाया था. अब पिछले तीन महीनें में यह बकाया 5670 करोड़ रुपये हो गया है. मार्च के बाद से जेबीवीएनएल ने डीवीसी को बकाया भुगतान नहीं किया है. हर महीने जेबीवीएनएल 200 से 250 करोड़ की बिजली डीवीसी से लेती है.

14 मार्च को डीवीसी और जेबीवीएनएल के अधिकारियों में वार्ता हुई थी जिसमें जेबीवीएनएल ने हर महीने बिजली खरीद का भुगतान करने पर सहमति जतायी थी. इस समझौते के साथ ही विभाग की ओर से 400 करोड़ डीवीसी को भुगतान किया गया था.

बता दें कि मार्च के बाद से जेबीवीएनएल को राजस्व वसूली में परेशानी हुई. लक्ष्य के अनुसार जेबीवीएनएल राजस्व वसूली नहीं कर पायी जिसके कारण बकाया भुगतान में परेशानी हुई.

इसे भी पढ़ें –फोन में, पास की दुकान में मौजूद सबसे बड़ी चीनी कंपनी को जानिये, नोटबंदी के बाद जिसके पोस्टरबॉय बने थे मोदी

Telegram
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close