न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

तथाकथित RSS कार्यकर्ता पाल की हत्या मामले में खुलासाः मां का दावा- नहीं था किसी भी राजनीतिक दल से कोई संबंध

बीजेपी ने बंधु प्रकाश पाल को बताया था आरएसएस कार्यकर्ता, मंगलवार को पाल, उनकी पत्नी और बच्चे की घर पर हुई थी हत्या

1,330

Kolkata: पश्चिम बंगाल में बीजेपी और टीएमसी के बीच राजनीतिक हिंसा बीते कुछ दिनों में देखने को मिली है. लेकिन राज्य के मुर्शिदाबाद में जिस बंधु प्रकाश पाल, उनकी गर्भवती पत्नी और पांच साल के बेटे की हत्या पर इतना राजनीतिक हंगामा मचा है, उसमें नया मोड़ आ गया है.

इसे भी पढ़ेंः#UnnaoRapeCase: CBI चार्टशीट में MLA सेंगर का नाम लेकिन हटाया हत्या का चार्ज

Aqua Spa Salon 5/02/2020

पेशे से अध्यापक बंधु प्रकाश पाल को बीजेपी जहां आरएसएस का कार्यकर्ता बता रही है, और इस हत्या के पीछे तृणमूल कांग्रेस का हाथ बता रही है, उस पाल के परिजनों का कहना है कि उनका किसी भी राजनीतिक दल से कोई संबंध नहीं था. साथ ही परिवार ने इस दुखद घड़ी में हत्या का राजनीतिकरण करने पर नाराजगी जताई है.

बीजेपी या टीएमसी से नहीं कोई संबंध

पाल और उनके परिवार की हुई हत्या से बंगाल में राजनीति गर्म है. बीजेपी ने इस तिहरे हत्याकांड को लेकर सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया.

इसे भी पढ़ेंःनिर्मल हृदय संस्था में देर रात तक चली CID की जांच, बड़े खुलासे की संभावना

साथ ही दावा किया कि पाल एक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ कार्यकर्ता थे. लेकिन पाल के परिवार ने बीजेपी के इस दावे को पूरी तरह से नकार दिया है.

मारे गये पाल की 68 वर्षीय मां माया पाल का कहना है कि, ‘वह (पाल) कोरे कागज की तरह था. आपसे किसने कहा कि वह बीजेपी का सदस्य था? वह कभी बीजेपी या तृणमूल कांग्रेस से नहीं जुड़ा रहा. ना कभी आरएसएस में ही रहा. ये सब झूठ फैलाया जा रहा है.’

बता दें कि पाल की मां सागरदीघी पुलिस स्टेशन के अंतर्गत आने वाले साहापुर के बराला गांव में रहती हैं. पाल के परिवार ने दोनों राजनीतिक दलों पर इस मामले का राजनीतिकरण करने का आरोप लगाते हुए आलोचना की.

पाल के मौसेरे भाई बंधु कृष्ण घोष का कहना है कि, ‘दिलीप घोष ने कहा कि मेरा भाई बीजेपी परिवार से ताल्लुक रखता है. यह झूठ हैं. वह सिर्फ हमारे परिवार के थे. मैंने बंधु प्रकाश को बचपन से देखा है. हम जब भी राजनीति की बातें करते थे, तो वह वहां से चले जाते थे. यहां तक कि टीएमली बोल रही है कि यह बीजेपी की आंतरिक लड़ाई का नतीजा है. वे सत्ताधारी पार्टी वाले हैं इसलिए उन्हें सुनिश्चित करना चाहिए कि पुलिस मामले की पड़ताल करें और मेरे भाई और उसके परिवार के हत्यारे का पता लगाये. किसी को इस मामले का राजनीतिकरण नहीं करना चाहिए.’

Related Posts

#Delhi_ Violence : जांच के लिए दो एसआइटी का गठन,  आप पार्षद ताहिर हुसैन पर एफआइआर दर्ज, फैक्ट्री सील

दिल्ली हिंसा की जांच के लिए विशेष जांच टीम (एसआईटी) का गठन किया गया है.  दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच के तहत दो एसआईटी का गठन किया गया है.

ट्रिपल मर्डर से सनसनी

गौरतलब है कि 40 वर्षीय स्कूल टीचर बंधु प्रकाश पाल के अलावा उनकी पत्नी ब्यूटी और बेटे अंगन की मंगलवार को जियागंज के लेबू बागान इलाके स्थित उनके घर पर हत्या कर दी गई थी.

इसे भी पढ़ेंः#DoubleEngine सरकार में बेबस छात्र- 7: केमिस्ट और जियोलॉजिस्ट की नियुक्ति 3 साल में भी नहीं हो सकी पूरी, संशय में छात्र

पाल और उनके 5 साल के बेटे का शव एक कमरे में मिला था, जबकि 30 वर्षीय पत्नी ब्यूटी की लाश दूसरे कमरे में मिली थी. पुलिस इसे निजी रंजिश में की गयी हत्या मान रही है.

पुलिस थ्योरी के मुताबिक पहले पति और पत्नी की हत्या की गई. बाद में बेटे अंगन का गला घोंटा गया और किसी भारी चीज से उसपर वार किया गया.

मामले को लेकर पुलिस ने चार लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की, लेकिन बाद में दो लोगों को छोड़ दिया गया. गवाहों के बताए हुलिया के आधार पर स्केच भी तैयार किए जा रहे हैं.

इसे भी पढ़ेंःJPC उग्रवादियों ने हाईवा चालक को मारी गोली, कोलयरी बंद रखने का फरमान

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like