JharkhandMain SliderRanchi

झारखंड के सरकारी कर्मियों की रिटारमेंट 62 नहीं 60 साल में ही, कार्मिक की फर्जी चिट्ठी सोशल मीडिया पर वायरल

Ranchi: राज्य भर में एक चिट्ठी वायरल है. चिट्ठी के ऊपर कार्मिक, प्रशासनिक सुधार तथा राजभाषा विभाग लिखा हुआ है. उसमें इस बात का उल्लेख किया गया है कि झारखंड के कर्मचारियों की सेवानिवृत्ति की उम्र 60 से बढ़ा कर 62 वर्ष कर दी गयी है. जो सरासर फर्जी है. यह खबर सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हुई. जानकारी के बाद कार्मिक विभाग ने इस मामले की जांच शुरू कर दी है. वायरल चिट्ठी में फर्जी तरीके से झारखंड सरकार के अपर मुख्य सचिव केके खंडेलवाल के नाम पर साइन किया गया है. वायरल चिट्ठी राज्यपाल के प्रधान सचिव, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव, सभी अपर मुख्य सचिव, प्रधान सचिव, सभी प्रमंडलीय आयुक्त और सभी उपायुक्तों के नाम संबोधित है. मार्च 2019 की तारीख से जारी चिट्ठी में 29 अगस्त के बाद रिटायर होने वाले कर्मियों को 62 की उम्र तक सेवा करने संबंधी बात लिखी हुई है. जानकारी के बाद कार्मिक विभाग ने इस मामले की जांच शुरू कर दी है. बताया जाता है कि शाम तक इस मामले में कार्रवाई हो सकती है.

इसे भी पढ़ें – पुलिस सहकारी समिति ने ओरमांझी में घेरा CNT और GM लैंड, म्यूटेशन कराने की हो रही है कोशिश

advt

मुझे ऐसी किसी चिट्ठी के बारे में जानकारी नहीं हैः सचिव

इस मामले को लेकर कार्मिक विभाग के सचिव केके खंडेलवाल से न्यूज विंग ने बात की. उन्होंने मामले पर कहा कि ऐसी किसी चिट्ठी के बारे में मुझे जानकारी नहीं. न ही ऐसा कुछ विभाग में हुआ है.

इसे भी पढ़ें – एनआईए का कमाल, ब्लड टेस्ट रिपोर्ट को हवाला लेन-देन समझ  हृदय रोग विशेषज्ञ से पूछताछ की

adv
advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close