न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

ट्रेन से लापता हुए रिटायर्ड ASI, भूलने की है बीमारी

120
  • तमिलनाडु से झारखंड लौटने के दौरान रास्ते से हुए लापता.
  • परिजनों के साथ उपचार के लिए गए थे वेल्लोर, भूलने की बीमारी से थे ग्रसित.

Chatra : सदर थाना क्षेत्र के कमात गांव निवासी शालिग्राम सिंह पिछले दो दिनों से लापता हैं. झारखंड पुलिस के सहायक पुलिस अवर निरीक्षक (एएसआई) के पद से रिटायर्ड शालिग्राम सिंह भूलने की बीमारी (अल्जाइमर रोग) है.

इसे भी पढ़ें- छत्तीसगढ़ : सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में एक महिला नक्सली समेत दो की मौत

वेल्लोर से लौटते वक्त हुए लापता

जानकारी के अनुसार उक्त बीमारी का इलाज कराने उनके बेटे अरविंद सिंह व बहु उन्हें लेकर तमिलनाडु के वेल्लोर गए थे. वहां से इलाज कराने के बाद वे लोग उन्हें लेकर एलेप्पी ट्रेन से रांची लौट रहे थे. इसी दौरान आंध्रप्रदेश के विजयवाड़ा स्टेशन के आसपास अहले सुबह परिजनों की आंख लग गई. जिसके बाद जब बेटे की आंख खुली तो मौके पर अपने पिता को ना देख खोजबीन शुरू की.

ट्रेन में पूछताछ के दौरान दूसरे यात्रियों ने परिजनों को बताया कि शालिग्राम सिंह नींद खुलने के बाद शौचालय गए थे. उसके बाद से वापस अपनी सीट पर नहीं लौटे. हालांकि कुछ यात्रियों ने उन्हें ट्रेन की गेट पर भी खड़ा देखा था.

इसे भी पढ़ें- Urban Transport की भूमि अधिग्रहण के लिए 97 करोड़ राशि स्वीकृत, पीपीपी मोड पर भी हो रहा विचार

परिजनों ने सूचना देने की अपील की

जिसके बाद परिजन शालिग्राम सिंह की तलाश में जुट गए. विजयवाड़ा व आसपास के सभी रेलवे स्टेशनों में आरपीएफ व रेलवे के सहयोग से सीसीटीवी फुटेज खंगाले गए. बावजूद इसके अभी तक उनका कोई सुराग नहीं मिल सका है और ना ही उके बारे में कोई जानकारी. सभी संभावित स्थानों पर खोजबीन की जा रही है.

आसपास के जिलों में भी परिजन उनके खोज में जुटे हैं. परिजनों ने आमलोगों से मदद की अपील की है. मिलने पर स्थानीय पुलिस स्टेशन या परिजनों के मोबाइल नंबर 9304669946, 8210543748, 8292997200, 9525526817, 9470338342, 9431776511 पर सूचना देने की अपील की है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: