न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आदरणीय श्री मोदीजी, आप कृपया पेट्रोल-डीजल को GST के दायरे में ले आइए : राहुल गांधी

पेट्रोल-डीजल की कीमतें घटाये जाने के बाद भी पक्ष-विपक्ष में बयानबाजी जारी है. इस क्रम में कांग्रेस ने केंद्र सरकार पर तंज कसा है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर पीएम मोदी पर निशाना साधा है

140

 NewDelhi : पेट्रोल-डीजल की कीमतें घटाये जाने के बाद भी पक्षविपक्ष में बयानबाजी जारी है. इस क्रम में कांग्रेस ने केंद्र सरकार पर तंज कसा है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर पीएम मोदी पर निशाना साधा है. राहुल ने कहा कि तेल की कीमतें आसमान छू रही है. सरकार दो रुपए दाम घटा कर वाहवाही लूट रही है. कहा कि पेट्रोल-डीजल की कीमतों से लोग हलकान हैं. इसे GST के दायरे में क्यों नहीं लाया जा रहा. राहुल नेट्वीट किया कि आदरणीय श्री मोदीजी, आम जनता पेट्रोल-डीजल के आसमान छूते दामों से बहुत ज्यादा परेशान है. आप कृपया पेट्रोल-डीजल को GST के दायरे में ले आइए. इससे पूर्व कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने पेट्रोल-डीजल की कीमतों को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधा. सुरजेवाला ने कहा कि केंद्र का  फैसला जनता के गुस्से से डरकर और पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर हुआ है. कहा कि यह महंगाई के घाव पर मरहम है.   केंद्र सरकार को लूट सरकार बताते हुए कहा कि जनता इस लूट का  उचित समय पर जवाब देगी.  

इसे भी पढ़ें :   भारत-रूस के बीच सात अरब डॉलर के रक्षा समझौतों पर लगेगी मुहर, S-400 एयर डिफेंस डील महत्वपूर्ण

 52 माह में 13 लाख करोड़ की जबरदस्त कमाई, वह पैसा कहां गया

hosp3

रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि मोदी सरकार से पूछा कि अंतरराष़्ट्रीय बाजार से सस्ता तेल खरीदकर पिछले 52 माह के दौरान लगभग 13 लाख करोड़ की जबरदस्त कमाई की गयी,  वह पैसा कहां गया.  इसका हिसाब मोदी सरकार को जनता को देना पड़ेगा.  बता दें कि पेट्रोल-डीजल की बढ़ीं कीमतों पर मोदी सरकार ने पेट्रोल-डीजल पर लगने वाली एक्साइज ड्यूटी में प्रति लीटर 1.50 रुपए की कटौती की.  तेल कंपनियों से भी एक रुपए प्रति लीटर दाम घटाये. इस क्रम में केंद्र सरकार ने राज्यों से भी पेट्रोल-डीजल को 2.50 रुपए सस्ता करने को कहा है. सात राज्यों में तेल की कीमत कम की गयी है. इससे लोगों को पाचं रुपए प्रति लीटर की राहत मिली है. बताया गया है कि इस फैसले से सरकार को सालाना लगभग 21 हजार करोड़ रुपए का नुकसान होगा.  

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: