JharkhandRanchi

अंचल अधिकारी शिविर लगा कर यथाशीघ्र करें टाना भगतों की समस्याओं का निराकरणः सीएम

विज्ञापन

Ranchi: राज्य सरकार ने टाना भगतों की भूमि पर सेस माफ किया है. उनकी भूमि का लगान और निबंधन सुनिश्चित होना चाहिए. इसके लिए अंचल अधिकारी हल्का स्तर पर शिविर लगा कर टाना भगतों की समस्याओं का निराकरण यथा शीघ्र करें. इतना ही नहीं वे इसका पूरा प्रचार-प्रसार भी करें. ये बातें मुख्यमंत्री रघुवर दास ने राजस्व, निबंधन एवं भूमि सुधार विभाग की समीक्षा बैठक में कहीं.

इसे भी पढ़ें – जेएमएम का आरोप, बदले की भावना से काम कर रही है सरकार, बीजेपी के कई नेताओं ने किया है सीएनटी एक्ट का उल्लंघन  

अपर समाहर्ता कर सकेंगे सुधार का कार्य

मुख्यमंत्री ने कहा कि भूमि से संबंधित जहां कहीं गलत जानकारी ऑनलाइन प्रक्रिया में दर्ज हुई है, इसकी शिकायत लगातार मिल रही है. इसके सुधार के लिए राज्य स्तर पर कार्य किया जाता है, जिससे कुछ विलंब होता है. अब जिला स्तर पर सुधार करने का अधिकार अपर समाहर्ता को प्रदान करें. अपर समाहर्ता पूरे मामले की जांच करने के बाद सुधार कार्य करेंगे. यह व्यवस्था जल्द लागू होनी चाहिए.

advt

राज्य में जल्द होगी अमीन की बहाली

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के विभिन्न प्रखंड कार्यालयों में अमीन की कमी है, जिससे भू मापी में परेशानी होती है. इसको देखते हुए अमीन नियमावली में सुधार किया जायेगा. रांची विश्वविद्यालय में अमीन का कैंपस सेलेक्शन होगा. मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि सर्ड में अमीन के प्रशिक्षण पाठ्यक्रम की व्यवस्था करें.

मानकी, मुंडा, ग्राम प्रधान एवं डाकुआ के सम्मान राशि दोगुनी की गयी

मुख्यमंत्री ने कहा कि 2014 के पहले की तुलना में मानकी, मुंडा, ग्राम प्रधान एवं डाकुआ के सम्मान राशि को दोगुना की गयी है. मानकी को 3 हजार, मुंडा/ग्राम प्रधान को 2 हजार एवं परगनैत, परानिक, जोगमांझी, कुड़ाम नायकी, नायकी, गोडैत, मूल रैयत, पड़हा राजा, ग्राम सभा का प्रधान, घटवाल एवं तावेदार को प्रतिमाह 1 हजार की सम्मान राशि स्वीकृत है. विभाग ने बताया कि ऐसे 21 हजार लोगों में से 18 हजार को सम्मान राशि मिल रही है. मुख्यमंत्री ने कहा कि छूटे हुए ऐसे लोगों को भी सम्मान राशि का भुगतान शीघ्र किया जाये. छूटे हुए लोग अपने जिले के उपायुक्त को आवेदन दे सकते हैं. जहां मानकी, मुंडा एवं ग्राम प्रधान का पद रिक्त है वहां के योग्य अभ्यर्थी उपायुक्त को नियुक्ति हेतु आवेदन दे सकते हैं और उपायुक्त जल्द उनकी नियुक्ति सुनिश्चित करें.

इसे भी पढ़ें – पलामू: अचानक बढ़ा कोयल नदी का जलस्तर, बीच नदी में खंभे के सहारे घंटों फंसा रहा युवक- रेस्क्यू कर बाहर निकाला गया  

सीओ लगान भुगतान स्वीकृत करें

मुख्यमंत्री ने कहा कि कई लोगों का खतियान अनुपलब्ध रहने अथवा अत्यधिक जर्जर अवस्था में होने के कारण उसका डिजिटाइजेशन नहीं हो सका है. ऐसे मामलों में अंचल अधिकारी उपलब्ध दस्तावेज का सत्यापन एवं भौतिक सत्यापन कर संतुष्ट होने के बाद पंजी 2 के आधार पर लगान भुगतान की स्वीकृति देंगे. ताकि रैयत द्वारा ऑनलाइन भुगतान किया जा सके.

adv

लगान रसीद निर्गत करें

विभागीय सचिव ने कहा कि अवैध जमाबंदी रद्द करने हेतु खोले गये अभिलेखों का अंतिम आदेश पारित होने तक पूर्व में निर्गत मैनुअल लगान रसीद के आधार पर ऑनलाइन लगान रसीद निर्गत करने में कोई रोक नहीं है. जमाबंदी के अभिलेखों में जो अंतिम आदेश दिया गया है उससे यह प्रभावित रहेगी. वैसे अन्य सभी ऐसे मामले जिसमें किसी प्रकार की कार्रवाई के बिना भी लगान रसीद निर्गत नहीं होने की बात है, उन सभी मामलों में भी ऑनलाइन लगान रसीद निर्गत होगी. रैयत अपने प्रखंड के अंचल अधिकारी के समक्ष ऑनलाइन लगान भुगतान हेतु आवेदन कर सकते हैं.

इसे भी पढ़ें- सीएम के लगाये पौधों ने बढ़ायी स्वर्णरेखा नदी की खूबसूरती

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button