न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

झारखंड कांग्रेस में चल रहा इस्तीफे का खेल, अब तक 13 नेताओं ने दिया पद से इस्तीफा

मीडिया प्रभारी की घोषणा, महानगर कांग्रेस कमिटी का होगा पुनर्गठन

156

Ranchi : प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ अजय कुमार और महानगर अध्यक्ष संजय पांडेय के साथ वरिष्ठ कांग्रेसी नेता सुबोधकांत सहाय से छिड़ी जुबानी जंग अब खुलेआम है. झारखंड कांग्रेस में इन नेताओं के बीच की खुली लड़ाई का असर सीधे तौर पर पार्टी पर पड़ता देखा जा सकता है.

इसी का असर है कि महानगर कांग्रेस के नेताओं का इस्तीफा देने का दौर निरंतर जारी है. शनिवार तक 10 लोगों ने महानगर कांग्रेस अध्यक्ष पर सुबोधकांत के खिलाफ अनर्हल बयानबाजी करने की बात कहते हुए इस्तीफा दिया था.

वहीं रविवार को महानगर के 3 और सदस्यों ने भी इस्तीफा दे दिया है. इस्तीफा देने वालों की संख्या कुल 13 पहुंच गयी है. महानगर के अलावा प्रखंड स्तर के भी कई नेताओं ने सुबोधकांत के समर्थन में इस्तीफा देने की कड़ी में जुड़ गये हैं. इसमें कोकर, रातू रोड प्रखंड, वार्ड अध्यक्ष शामिल है.

रविवार को ऐसे कुल 6 लोगों ने इस्तीफा दिया है. वहीं महानगर कांग्रेस मीडिया प्रभारी सोनल शांति ने मुख्यालय में प्रेस कांफ्रेस कर कहा है कि फिलहाल इन नेताओं का इस्तीफा अभी तक महानगर अध्यक्ष को नहीं मिला है. लेकिन पार्टी के हितों को देखते हुए इनका इस्तीफा स्वीकार किया जाता है. उन्होंने महानगर कांग्रेस कमिटी के पुनर्गठन करने की बात भी मीडिया को कही है.

इसे भी पढ़ें – NEWS WING IMPACT :  स्ट्रीट लाइट के 100 खुले बॉक्स हुए बंद, बीजेपी मुख्यालय से अरगोड़ा तक अब भी खुले हैं 28 बॉक्स

9 लोगों ने सौंपा इस्तीफा

रविवार को जिन कांग्रेसी नेताओं ने इस्तीफा दिया है, उसमें रातू रोड प्रखंड के अध्यक्ष सोनू वर्मा, कोकर प्रखंड अध्यक्ष वशिष्ठ लाल पासवान, कोकर प्रखंड उपाध्यक्ष अमिन चौरसिया, कोकर प्रखंड सचिव सुरेश सिंह मुंडा सहित वार्ड 7 के अध्यक्ष अजय लोहरा और वार्ड 8 के अध्यक्ष अमन आईन शामिल हैं.

वहीं महानगर के पद से जिन 3 नेताओं ने इस्तीफा दिया है, उसमें कार्यकारिणी सदस्य सुनील सहाय, महानगर सचिव शम्भु गुप्ता और महासचिव जगरनाथ साहु शामिल हैं. गौरतलब है कि बीते शुक्रवार और शनिवार को महानगर के कुल 10 सदस्यों ने भी सुबोधकांत के समर्थन में इस्तीफा दिया है.

इसे भी पढ़ें – बोकारो का ‘दशरथ मांझी’ : चार साल खुद मेहनत कर बना डाला चेकडैम, मां और पत्नी भी कहती थीं पागल

अध्यक्ष बनने के बाद से विवेक खोते जा रहे हैं संजय पांडेय

इस्तीफा देने वाले पिछले नेताओं की तरह इन्होंने भी महानगर अध्यक्ष द्वारा वरिष्ठ नेताओं के खिलाफ दिये बयानबाजी को पार्टी हित में नहीं बताया है. प्रेस विज्ञप्ति जारी कर इन्होंने कहा है कि अध्यक्ष से उनका कोई व्यक्तिगत मतभेद नहीं है.

लेकिन उनके बयानबाजी से वे काफी आहत हैं. जब से वे अध्य़क्ष बने हैं, तबतक वे विवेक खोते जा रहे हैं. उनमें जैसी खामियां हैं, वो पार्टी हित में नहीं है. इसलिए उन्होंने इस्तीफा देने का फैसला किया है.

रांची महानगर कांग्रेस कमिटी का होगा पुनर्गठन

महानगर मीडिया प्रभारी सोनल शांति ने कहा है कि उनका इस्तीफा स्वीकार कर लिया गया है. उन्होंने कहा कि रांची महानगर कमिटी का गठन विगत एक वर्ष पहले हुआ था. उसके बाद महानगर नीतियों में काफी कार्यक्रम हुआ.

जो कि पिछले महानगर अध्यक्ष के कार्यकाल में नहीं हुआ था. लेकिन अब कमेटी में पुनर्गठन आवश्यक हो गया है. वर्तमान अध्यक्ष की सहमति से यह निर्णय हुआ है कि कांग्रेस पार्टी को मजबूत करने और नये लोगों को महानगर में लाने के लिए महानगर कमेटी का पुनर्गठन किया जाएगा.

इसे भी पढ़ें – कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक 10 अगस्त को, नये अध्यक्ष को लेकर चर्चा  की संभावना

कमेटी भंग करना ही बचा है एक उपाय

रांची महानगर कांग्रेस कमिटी की कमेटी भंग करने पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए उपाध्यक्ष पद से इस्तीफा देने वाले रणविजय सिंह और महासचिव पद से इस्तीफा देने वाले जोगिंदर सिंह ने संजय पांडेय पर निशाना साधा है.

इन्होंने कहा कि महानगर अध्यक्ष के डर से कमेटी को भंग कर रहे हैं. जिस तरह से महानगर के लगभग पदाधिकारी सभी इस्तीफा दे रहे हैं. उससे अध्य़क्ष के समक्ष अपनी प्रतिष्ठा बचाने के लिए अब कमेटी भंग करना ही एक उपाय बचा है.

इसे भी पढ़ें – रंगदारी नहीं देने पर कारोबारी पर भुजाली से हमला, 5 साल की मासूम बेटी हमले में घायल

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
झारखंड की बदहाली के जिम्मेदार कौन ? भाजपा, झामुमो या कांग्रेस ? अपने विचार लिखें —
झारखंड पांच साल से भाजपा की सरकार है. रघुवर दास मुख्यमंत्री हैं. वह हर रोज चुनावी सभा में लोगों से कह रहें हैं: झामुमो-कांग्रेस बताये, राज्य का विकास क्यों नहीं हुआ ?
झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन कह रहें हैं: 19 साल में 16 साल भाजपा सत्ता में रही. फिर भी राज्य का विकास क्यों नहीं हुआ ?
लिखने के लिये क्लिक करें.

you're currently offline

%d bloggers like this: