Sci & TechWorld

शोध : चमगादड़ की प्रतिरक्षा तकनीक को समझने से कोरोना वैक्सीन बनाने में मिलेगी मदद

विज्ञापन

New York :  विभिन्न अध्ययनों की एक समीक्षा के मुताबिक कोरोना वायरस जैसे विषाणुओं को बर्दाश्त करने की चमगादड़ों की क्षमता सूजन नियंत्रित करने की उनकी शक्ति से विकसित होती है. इसके मुताबिक उनके रोग प्रतिरोधक तंत्र को समझ कर इंसानों में कोविड-19 के इलाज के लिए नये दवा लक्ष्यों की पहचान की जा सकती है.

इसे भी पढ़ेंः सीबीएसई 12वीं का रिजल्ट जारी, 1059080 स्टूडेंट्स को मिली कामयाबी, पहले नंबर पर त्रिवेंद्रम जोन

अमेरिका के रोचेस्टर विश्विद्यालय के अनुसंधानकर्ताओं समेत अन्य ने कहा कि भले ही चमगादड़ मनुष्यों को प्रभावित करने वाले कई घातक विषाणुओं जैसे इबोला, रेबीज और सार्स-सीओवी-2 के जनक रहे हैं लेकिन इन उड़ने वाले स्तनधारी जीवों में बिना किसी बुरे प्रभाव के इन रोगाणुओं को बर्दाश्त करने की क्षमता होती है.

advt

उन्होंने एक बयान में कहा, “भले ही इंसान इन विषाणुओं से संक्रमित होने के बाद प्रतिकूल लक्षणों का अनुभव करते हैं लेकिन तुलनात्मक रूप से चमगादड़ इन रोगाणुओं को बर्दाश्त करने में समर्थ होते हैं और साथ ही में वे समान आकार के अन्य स्तनपायी जीवों से ज्यादा वक्त तक जिंदा रहते हैं.”

इसे भी पढ़ेंः Corona: देवघर में मिले 7 नये कोरोना संक्रमित, 3781 हुआ झारखंड का आंकड़ा

मनुष्य का प्रतिरक्षा तंत्र कैसे काम करता है

समीक्षा अनुसंधान में वैज्ञानिकों ने इस बात का आकलन करने की कोशिश की चमगादड़ों की सूजन को नियंत्रित करने की प्राकृतिक क्षमता कैसे बीमारियों से लड़ने की प्रवृत्ति और उनके लंबे जीवनकाल में योगदान देती है. अध्ययन की सह-लेखिका वेरी गोर्बूनोवा ने कहा, “कोविड-19 से सूजन बहुत बढ़ जाती है और संभवत: विषाणु से अधिक सूजन के प्रति शरीर की प्रतिक्रिया ही मरीजों की जान लेती हो.”

उन्होंने कहा, “मनुष्य का प्रतिरक्षा तंत्र इसी तरह से काम करता है- एक बार हम संक्रमित हो जाएं तो हमारा शरीर सक्रिय हो जाता है और हमें बुखार एवं सूजन हो जाती है.”

adv

गोर्बूनोवा ने कहा कि इंसानों में प्रतिरक्षा तंत्र की प्रतिक्रिया का मकसद वायरस को मारना और संक्रमण को खत्म करना है लेकिन यह हानिकारिक प्रतिक्रिया हो सकती है क्योंकि मरीज का शरीर खतरे के प्रति अत्यधिक प्रतिक्रिया देने लगता है.

वैज्ञानिकों का कहना है कि चमगादड़ों में विशेष तंत्र होता है जो उनके शरीर में वायरस की संख्या को बढ़ने नहीं देता और उनके प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को भी हल्का कर देता है. यह अनुसंधान ‘सेल मेटाबोलिज्म’ पत्रिका में प्रकाशित हुआ है.

इसे भी पढ़ेंः भारत में गूगल 10 अरब डॉलर करेगा निवेश

advt
Advertisement

4 Comments

  1. When I originally commented I appear to have clicked the -Notify me
    when new comments are added- checkbox and now each time a comment is added I receive
    4 emails with the same comment. Perhaps there is an easy
    method you are able to remove me from that service? Appreciate it!

  2. Aw, this was an exceptionally nice post. Spending some time and actual
    effort to create a top notch article… but what can I say… I hesitate a whole
    lot and don’t manage to get nearly anything done.

  3. Hmm it seems like your website ate my first comment
    (it was extremely long) so I guess I’ll just sum it up what I had written and
    say, I’m thoroughly enjoying your blog. I too am an aspiring blog blogger but
    I’m still new to everything. Do you have any tips and hints for rookie blog writers?
    I’d certainly appreciate it.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button