JharkhandRanchi

किसानों व श्रमिकों के हित को लेकर सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों ने की सीएम से मुलाकात

Ranchi :  किसानों और श्रमिकों को लेकर संसद में जो संशोधन बिल पारित किया गया, उसे लेकर आज जनजातीय परामर्शदातृ परिषद के पूर्व सदस्य रतन तिर्की, सर्वोच्च न्यायालय के पूर्व सलाहकार बलराम जी, फिया फाउंडेशन के स्टेट हेड जोनसन टोपनो, ग्राम स्वराज अभियान के सौरभ कुमार और आक्सफैम की सपना सुरीन ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से मुलाकात की. और ज्ञापन सौंपा. इसके अलावे प्रतिनिधिमंडल ने ट्राईब एडवाइजरी काउंसिल (टैक) और ट्राईबल सब प्लान को लेकर बातचीत की.

इसे भी पढ़ेंः धनबाद : दोस्त ने अपने दोस्त की विवाहिता प्रेमिका से किया दुष्कर्म, युवती ने दर्ज कराया मुकदमा

advt

प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री से कहा कि किसान और मजदूरों के हितों को दरकिनार कर संविधान वर्णित प्रावधानों और अधिकारों को कमजोर करने की साजिश की गई है. साथ ही संघीय ढांचे को भी कमजोर किया गया है.

बलराम जी ने कहा कि नव उदारवादी नीतियों को बढ़ाते हुए पूंजीपतियों को बढ़ावा देने के लिए किसानों और मजदूरों को हाशिये पर रखा गया है.

इसे भी पढ़ेंः 70 हजार सेल कर्मियों के पे रिवीजन का मुद्दा गूंजा संसद में

रतन तिर्की ने कहा कि कृषि और असंगठित क्षेत्र के मजदूरों के हितों को दरकिनार किया गया. इन्होंने मुख्यमंत्री को बताया कि किसान आत्महत्या कर रहे हैं. इस संशोधन से किसान खेती छोड़ मजदूरी करने को विवश होंगे.

मुख्यमंत्री ने सभी को आश्वस्त करते हुए कहा कि हम इन नीतियों के बारे में जरूर बतायेंगे कि मजदूरों और किसानों की जिंदगी इससे प्रभावित होगी. सम्मान के साथ जीने के अधिकार को लेकर झारखंड सरकार हमेशा प्रतिबद्ध रहेगी.

इसे भी पढ़ेंः ड्रग्स केस में दीपिका पादुकोण, श्रद्धा कपूर, सारा अली और रकुल प्रीत से होगी पूछताछ, NCB ने भेजा समन

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: