न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

ईवीएम की विश्वसनीयता असंदिग्ध, हमने इसे फुटबॉल बना दिया है : मुख्य चुनाव आयुक्त 

हमने ईवीएम को फुटबॉल बना दिया है. किसी दल विशेष के पक्ष में चुनाव परिणाम नहीं आने पर इसका ठीकरा ईवीएम पर फोड़ने की प्रवृत्ति अच़्छी नहीं है. यह विचार मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने गुरुवार को व्यक़्त किये.

1,366

NewDelhi : हमने ईवीएम को फुटबॉल बना दिया है. किसी दल विशेष के पक्ष में चुनाव परिणाम नहीं आने पर इसका ठीकरा ईवीएम पर फोड़ने की प्रवृत्ति अच़्छी नहीं है. यह विचार मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने गुरुवार को व्यक़्त किये. बता दें कि इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन(ईवीएम) की विश्वसनीयता चुनाव से पहले और चुनाव के बाद भी विभिन्न राजनीतिक पार्टियों के लिए एक अहम मुद्दा बनता दिख रहा है. हाल में ही पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव में से तीन राज्यों में जीत के बाद भी कांग्रेस पार्टी ने इसकी विश्वसनीयता पर सवाल खड़े किये थे. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा था कि हम भले ही चुनाव में जीते हों लेकिन हमें अभी भी लगता है कि ईवीएम के साथ कोई भी छेड़छाड़ कर सकता है. ईवीएम को लेकर उठ रहे सवालों के बीच अब मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा है कि मतदान की यह सर्वाधिक विश्वसनीय पद्धति है क्योंकि मशीन गलत रखरखाव की शिकार तो हो सकती है लेकिन इसमें छेड़छाड़ मुमकिन ही नहीं है.

नवनियुक्त सीईसी अरोड़ा ने ईवीएम पर राजनीतिक दलों के आरोपों के दायरे में अब चुनाव आयोग के भी आने के मुद्दे पर गुरुवार को कहा कि चुनाव में मतदाताओं के बाद राजनीतिक दल ही मुख्य पक्षकार होते हैं. उन्हें अपनी बात कहने का पूरा अधिकार है, लेकिन इस बात से मुझे दुख होता है, हमने ईवीएम को फुटबॉल बना दिया है.

मतपत्रों की ओर वापस लौटने का सवाल ही नहीं है

किसी दल विशेष के पक्ष में चुनाव परिणाम नहीं आने पर इसका ठीकरा ईवीएम पर फोड़ने की प्रवृत्ति के बारे में अरोड़ा ने कहा कि 2014 के लोकसभा चुनाव का परिणाम, इसके बाद हुए दिल्ली विधानसभा चुनाव के परिणाम एक दूसरे से बिल्कुल विपरीत थे. इसके बाद भी हिमाचल प्रदेश, गुजरात, कर्नाटक, त्रिपुरा और अब पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव व तमाम उपचुनाव के परिणाम बिल्कुल भिन्न रहे. अरोड़ा ने राजनीतिक दलों द्वारा चुनाव परिणाम की व्याख्या अपनी सुविधानुसार करने का जिक्र करते हुए कहा कि ईवीएम महज एक मशीन है जो आंकड़े दर्ज कर उनकी गिनती करती है. मशीन में खास प्रोग्रामिंग कर विशेष परिणाम हासिल करने की संभावना को मैं पूरी तरह से नकार सकता हूं. पांच राज्यों के चुनाव में ईवीएम की मतदान केन्द्रों से इतर अन्य स्थानों पर बरामदगी के सवाल पर अरोड़ा ने कहा कि मशीन में छेड़छाड़ करना और इसका गलत रखरखाव दो अलग मुद्दे हैं. जो शिकायतें इन चुनावों के दौरान मिलीं, वे कर्मचारियों द्वारा गलत रखरखाव की श्रेणी में आती हैं.

इस तरह के जो मामले सामने आये हैं, हालांकि यह संख्या नगण्य है लेकिन फिर भी आयोग की कोशिश इस संख्या को शून्य पर लाने की है.  राजनीतिक दलों की मतपत्र की तरफ वापस लौटने की मांग के सवाल पर उन्होंने कहा कि मतपत्र की ओर वापस लौटने का सवाल ही नहीं है. यह चुनाव आयोग का स्पष्ट रुख है. इस विषय पर कई बार विचार विमर्श करने के बाद आयोग ने यह सोच कायम की है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: