JharkhandLead NewsRanchiTOP SLIDER

जिस PIL का हवाला देकर अमित अग्रवाल ने अधिवक्ता राजीव को कराया गिरफ्तार, उस केस में अग्रवाल पार्टी ही नहीं

Akshay Kumar Jha

Ranchi: 31 जुलाई को झारखंड हाईकोर्ट के अधिवक्ता राजीव कुमार को कोलकाता के हेयर स्ट्रीट थाना ने गिरफ्तार किया. घंटों बीत जाने के बाद यह बात सामने आयी कि राजीव कुमार को एक केस मैनेज करने के लिए रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया गया है. रिश्वत एक करोड़ रुपए की थी. पहली किस्त 50 लाख की दी गयी थी. जिसे रंगे हाथ कोलकाता पुलिस ने गिरफ्तार किया. गिरफ्तारी कोलकाता के व्यवसायी अमित अग्रवाल की शिकायत पर हुई थी. गिरफ्तारी के दो दिनों के बाद एफआईआर की कॉपी घरवालों को मिली. अब यह एफआईआर सोशल मीडिया पर वायरल है. न्यूज विंग के पास भी गिरफ्तारी की एफआईआर की कॉपी है.

एफआईआर दर्ज कराने के लिए जो आवेदन कोलकाता पुलिस को अमित अग्रवाल ने दिया है, उसमें कहा गया है कि केस नंबर 4290/2021 को मैनेज करने के लिए अधिवक्ता राजीव कुमार 10 करोड़ रुपए की डिमांड कर रहे थे. आखिरकार सौदा एक करोड़ पर आकर ठहरा. जिसकी डिलिवरी दो किस्तों में देने के लिए बात पर सहमति बनी. पहली किस्त 50 लाख रुपए की लेने के लिए राजीव कुमार कोलकाता पहुंचे. उन्होंने पैसे की डिलिवरी ली. जिसके बाद उन्हें पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया अब वो छह दिनों के लिए पुलिस की हिरासत में हैं.

Sanjeevani

केस नंबर 4290 में अमित अग्रवाल का नाम ही नहीं

जिस केस नंबर 4290/2021 का हवाला देकर शिकायतकर्ता अमित अग्रवाल ने राजीव कुमार को गिरफ्तार करवाया उस केस में अमित अग्रवाल पार्टी ही नहीं है. झारखंड हाईकोर्ट की साइट पर मिली जानकारी के मुताबिक 4290/2021 पीआईएल नंबर में राज्य के मुख्य सचिव, इनकम टैक्स, सीबीआई, ईडी, हेमंत सोरेन, बसंत सोरेन, रवि केजरीवाल और रजिस्ट्रार ऑफ कंपनी को पार्टी बनाया गया है. कुल मिलाकर नौ को पार्टी बनाया गया है. अमित अग्रवाल का नाम इस पीआईएल में कहीं है ही नहीं. फिर भी अमित अग्रवाल ने दर्ज एफाईआर में 4290 केस नंबर की बात कही है. साफ तौर से कहा है कि इसी केस को मैनेज करने के लिए राजीव कुमार 10 करोड़ की डिमांड कर रहे थे.

सरयू राय ने भी किया है ट्विट

इस मामले को लेकर पूर्व मंत्री सरयू राय ने भी मंगलवार की सुबह एक ट्विट किया है. ट्विट में सरयू राय ने कहा है“खनन, मनरेगा और मुखौटा कंपनियों में सरकारी हुक्मरानों पर दो मुक़दमें (4290/21,727/22) झारखंड उच्च न्यायालय में चल रहे हैं जिनमें श्री शिव शंकर शर्मा आवेदक राजीव कुमार एडवोकेट हैं. इन दोनों में अमित अग्रवाल का नाम नहीं है. फिर राजीव कुमार किस मामले से उनका नाम निकालते.” इस आशय का ट्विट भाजपा नेता बाबूलाल मरांडी ने भी किया है.

इसे भी पढ़ें:  झारखंड विस सत्र का तीसरा दिन: भाजपा ने विधानसभा मुख्य द्वार पर किया प्रदर्शन, सीएम हेमंत के इस्तीफे की मांग

Related Articles

Back to top button