न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

टंडवा में बदल गया लेवी वसूली का तरीका, कंपनी से मिलकर भाड़े में ही कर दी 205 रुपये प्रति टन की बढ़ोत्तरी

कमेटी के जरिये ही लेवी की राशि नक्सलियों, पुलिस व राजनेताओं समेत अन्य लोगों तक पहुंचता था

1,388

Ranchi: चतरा के टंडवा में सक्रिय टीपीसी के उग्रवादियों ने लेवी वसूलने का तरीका बदल दिया है. पहले लेवी की राशि कमेटी वसूलती थी. कमेटी के जरिये ही लेवी की राशि नक्सलियों, पुलिस व राजनेताओं समेत अन्य लोगों तक पहुंचता था. लेकिन बीते फरवरी महीने में पुलिस की सख्ती और अब एनआईए व ईडी की जांच शुरु होने के बाद लेवी वसूली का तरीका बदल दिया गया है. सूचना के मुताबिक टीपीसी के उग्रवादी बिंदु गंझू ने ट्रांसपोर्टर के साथ मिलकर कोयला के भाड़े में ही प्रति टन 205 रुपये की बढ़ोतरी कर दी है. इसके अलावा टीपीसी के उग्रवादी आक्रमण के लिए भी प्रति टन 25 रुपये की वसूली भी भाड़े में ही जोड़ दिया गया है. सूत्रों के मुताबिक इस काम में सत्येंद्र कुशवाहा व छोटू सिंह नाम के व्यक्ति भी शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें – गिरिडीह कॉलेज में पुस्तक खरीद घोटाला, टेंडर के विपरीत सप्लाई कर दी गईं लाखों की किताबें

जानकारी के मुताबिक, टंडवा के मगध कोलियरी से कोडीएच ओल्ड रेलवे साइडिंग तक कोयला पहुंचाने के लिए पहले 450 रुपया प्रति टन के हिसाब से भाड़ा लगता था. अब यह बढ़कर 680 रुपया प्रति टन हो गया है. 230 रुपये प्रति टन भाड़े के ही रुप में वसूल लिया जाता है. जिसे बाद में उग्रवादियों तक पहुंचाया जाता है. इसमें से 25 रुपया टीपीसी के उग्रवादी आक्रमण को दिया जाता है. इसके अलावा 205 रुपया में से बिंदु गंझू समेत अन्य के बीच बंटवारा कर दिया जाता है.

इसे भी पढ़ें – मां की याद में तड़प रहा युवक जेल की दीवार फांद पहुंचा अपने घर

टंडवा में एनआईए और ईडी की जांच का असर दिख रहा है

silk_park

इस तरह टंडवा में भले ही उपर-उपर पुलिस की सख्ती, एनआईए और ईडी की जांच का असर दिख रहा है. लोग यह समझ रहे हैं कि कमेटी द्वारा जो प्रति टन 265 रुपये की लेवी की वसूली की जा रही थी, वह नहीं हो रहा है. लेकिन सच इसके उलट है. सिर्फ लेवी वसूली का तरीका बदला है. लेवी की वसूली अब भी जारी है.

जानकारी के मुताबिक, टंडवा के मगध कोल परियोजना से हर माह करीब एक लाख टन कोयला का उत्खनन व ट्रांसपोर्टिंग होता है. अधिकांश कोयला वेदांता कंपनी की होती है. इस तरह अब भी प्रति माह दो करोड़ रुपये से अधिक की अवैध वसूली की जा रही है.

इसे भी पढ़ें – 10 दिनों में चिकनगुनिया के 109 और डेंगू के 7 मरीजों की पुष्टि

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: