न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

डॉ हेमंत नारायण और डॉ प्रकाश कुमार की वेतन वृद्धि पर एक वर्ष तक रोक लगाने की अनुशंसा

मारपीट मामले में जांच कमिटी ने सौंपी रिपार्ट, रिम्स ने भेजा विभाग

222

Ranchi : रिम्स के कार्डियोलॉजी विभाग के डॉ हेमंत नारायण एवं डॉ प्रकाश कुमार के बीच हुई मारपीट के मामले पर दोनों को दोषी पाया गया है. इसके लिए इन दोनों की वेतन वृद्धि पर एक वर्ष के लिए रोक और एक वर्ष तक निंदन की सजा देने की अनुशंसा की गयी है. इस मामले में स्वास्थ्य विभाग द्वारा जांच कमिटी का गठन कर रिपोर्ट भेजने का आदेश रिम्स निदेशक को दिया गया था. उक्त निर्देश के आलोक में जांच टीम ने अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत कर दी है. रिपोर्ट में दोनों चिकित्सकों को दोषी बताया गया है. रिम्स निदेशक ने रिपोर्ट स्वास्थ्य विभाग को सौंप दी है.

इसे भी पढ़ें- स्टूडेंट्स का आरोप- प्रैक्टिकल एग्जाम के नाम पर स्टूडेंट्स से पांच हजार तक वसूल रहे निजी बीएड कॉलेज

जनवरी में हुई थी दोनों चिकित्सकों के बीच मारपीट

इसी साल जनवरी माह में रिम्स के कॉर्डियोलॉजी विभाग के दो चिकित्सक डॉ हेमंत नारायण एवं डॉ प्रकाश कुमार आपस में ही भिड़ गये थे. दोनों के बीच हाथापाई भी हुई थी. मामले की जानकारी स्वास्थ्य विभाग को मिलने पर स्वास्थ्य सचिव निधी खरे ने रिम्स प्रबंधन को रिपोर्ट भेजने का दिशा-निर्देश जारी किया था. रिपोर्ट के अनुसार दोनों चिकित्सकों को दोषी पाया गया है.

इसे भी पढ़ें- मैनहर्ट मामला: विजिलेंस ने मांगी 5 बार अनुमति, हाईकोर्ट का भी था निर्देश, FIR पर चुप रहीं राजबाला

कैथलैब में प्रवेश को लेकर हुई थी दोनों में झड़प

silk_park

कार्डियोलॉजी विभाग के डॉ प्रकाश कुमार ने आरोप लगाते हुए कहा था कि रिम्स में बिना सूचना के कोई भी कैथलैब में प्रवेश नहीं कर सकता, फिर कैथलैब में बाहरी चिकित्सक कैसे प्रवेश कर सकते हैं. उन्होंने बताया था कि दिल्ली से आये कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. विशाल रस्तोगी बिना कोई सूचना के कैथलैब में प्रवेश कर एंजियोप्लास्टी कर रहे थे, यह गलत है.

इसे भी पढ़ें- राजधानी में जमीन पर कब्जा करने का चल रहा खेल, हो रही हैं हत्याएं

फाइनल रिपोर्ट विभाग को सौंप दी गयी है : निदेशक

रिम्स निदेशके डॉ आरके श्रीवास्त्व ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग से निर्देश आने के बाद रिम्स प्रबंधन ने चिकित्सकों की जांच की फाइनल रिपोर्ट विभाग को सौंप दी है. कमिटी की जांच की रिपोर्ट के बाद ऐसा हुआ है. अब स्वास्थ्य विभाग जैसा निर्देश देगा, उसी अनुसार कार्य किये जायेंगे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: