BusinessNational

#Recession- जुलाई में सुस्त पड़ी बुनियादी उद्योगों की रफ्तार, वृद्धि दर घट कर 2.1 %

New Delhi: मंदी का असर देश के बुनियादी उद्योगों पर भी पड़ने लगा है. कोयला, कच्चे तेल, प्राकृतिक गैस और रिफाइनरी उत्पादन घटने से जुलाई में आठ बुनियादी उद्योगों की वृद्धि दर जुलाई में घटकर 2.1 प्रतिशत पर आ गई है.

सोमवार को जारी आधिकारिक आंकड़ों में यह जानकारी दी गई है. जुलाई, 2018 में बुनियादी उद्योगों की वृद्धि दर 7.3 प्रतिशत रही थी.

इसे भी पढ़ेंःमुंबई: #ONGC के प्लांट में लगी आग, पांच लोगों की मौत-आठ घायल

8 बुनियादी उद्योग की वृद्धि दर 2.1 %

आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, मुख्य रूप से कोयला, कच्चे तेल, प्राकृतिक गैस और रिफाइनरी उत्पादों का उत्पादन घटने से बुनियादी उद्योगों की वृद्धि की रफ्तार सुस्त पड़ी है. इस दौरान इस्पात, सीमेंट और बिजली के उत्पादन में वृद्धि भी धीमी रही. औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (आइआइपी) में आठ बुनियादी उद्योगों का भारांश 40.27 प्रतिशत है.

आठ बुनियादी उद्योगों में कोयला, कच्चा तेल, प्राकृतिक गैस, रिफाइनरी उत्पाद, उर्वरक, इस्पात, सीमेंट और बिजली आते हैं. आंकड़ों के अनुसार समीक्षाधीन महीने में कोयला, कच्चे तेल, प्राकृतिक गैस और रिफाइनरी उत्पादों के उत्पादन में इससे पिछले साल के समान महीने की तुलना में गिरावट आइ.

इस्पात, सीमेंट और बिजली क्षेत्र की वृद्धि दर में भी गिरावट

इसी तरह इस्पात, सीमेंट और बिजली क्षेत्र की वृद्धि दर में भी गिरावट आई. इस्पात क्षेत्र की वृद्धि दर घटकर 6.6 प्रतिशत रह गई, जो जुलाई, 2018 में 6.9 प्रतिशत थी. इसी तरह सीमेंट क्षेत्र की वृद्धि दर 11.2 प्रतिशत से घटकर 7.9 प्रतिशत रह गई.

इसे भी पढ़ेंःबदले गये राज्य प्रशासनिक सेवा के 27 अधिकारी

adv

बिजली क्षेत्र की वृद्धि दर जुलाई में 4.2 प्रतिशत रही. पिछले साल समान महीने में यह 6.7 प्रतिशत थी. हालांकि, समीक्षाधीन महीने में उर्वरक का उत्पादन 1.5 प्रतिशत बढ़ा. पिछले साल समान महीने में उर्वरक क्षेत्र की वृद्धि दर 1.3 प्रतिशत रही थी.

चालू वित्त वर्ष में अप्रैल-जुलाई की चार माह की अवधि के दौरान बुनियादी उद्योगों की वृद्धि दर घटकर आधी यानी तीन प्रतिशत रह गई है. इससे पिछले वित्त वर्ष के पहले चार महीनों में बुनियादी उद्योगों की वृद्धि दर 5.9 प्रतिशत रही थी.

इस साल अप्रैल से लगातार बुनियादी उद्योगों की वृद्धि दर नीचे आ रही है. अप्रैल में बुनियादी उद्योगों की वृद्धि दर 5.2 प्रतिशत रही थी, जो अप्रैल, 2018 में 5.8 प्रतिशत थी. मई में यह घटकर 4.3 प्रतिशत और जून में 0.7 प्रतिशत पर आ गई.

गौरतलब है कि देश की सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि दर भी चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में घटकर पांच प्रतिशत पर आ गई है, जो इसका छह साल का निचला स्तर है.

इसे भी पढ़ेंःलोहरदगा: अंधविश्वास में एक व्यक्ति की पीट-पीट कर हत्या 

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: