न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

एक लाख रोजगार के दावे का सचः सरकारी आंकड़ों के हिसाब से 5420 को ही मिली नौकरी

84458 युवाओं को मिला था 8 से 12 हजार तक का ऑफर लेटर

2,320

Kumar Gaurav

Ranchi: राज्य सरकार ने विश्व युवा दिवस पर राज्य भर के एक लाख छह हजार युवाओं को नौकरी देने का दावा किया था. इस दावे के बल पर ही राज्य में बेरोजगारी दूर करने का डंका भी बजाया गया. लेकिन लाख नौकरियों की हकीकत ये है कि अगर सरकारी आंकड़ों की ही मानें तो सिर्फ 5420 युवाओं ने नौकरी ज्वाइन की है. कौशल विकास मिशन अपने द्वारा दी गयी 36 हजार युवाओं को नौकरी का ही ज्वाइनिंग रिकॉर्ड ट्रेस करेगी. अन्य विभागों के द्वारा दी गयी नौकरी की ज्वाइनिंग का रिकॉर्ड और कोई भी सरकारी विभाग ट्रेस नहीं करता है.

इसे भी पढ़ेंः महतो फोल्डर में होने की वजह से बढ़ी रामटहल चौधरी की मुश्किल, रांची से प्रबल दावेदारों में अर्जुन मुंडा भी शामिल

10 जनवरी को दिये गये 1 लाख छह हजार बेरोजगार युवाओं को नौकरी देने का दावा मुख्यमंत्री ने जुलाई 2018 में ही कर दिया था. जिसके बाद विभागवार तरीके से युवाओं को नौकरी देने का टारगेट तय किया गया था. अब दो महीने बीत जाने के बाद महज 5420 युवाओं ने ही नौकरी ज्वाइन की है. सरकार ने दावा किया था कि देश-विदेश के 2380 कंपनियों ने 41 सेक्टर में युवाओं को रोजगार दिया है.

बेरोजगारी भत्ता की मांग पर कहा था- हाल ही में एक लाख को दी नौकरी

विधानसभा सत्र के दौरान, जब सत्ता पक्ष की विधायक विमला प्रधान, राज सिन्हा और कांग्रेस की विधायक गीता कोड़ा ने विभिन्न सवालों के जरिये बेरोजगारों को बेरोजगारी भत्ता देने का मांग की. इस पर सरकार ने अपने जवाब में कहा कि सरकार के पास बेरोजगारी भत्ता देने का कोई प्रावधान नहीं है. सरकार बेरोजगारों के लिए नौकरी की व्यवस्था कर रही है. हाल ही में एक लाख छह हजार युवाओं को नौकरी दी गई है. ये निरंतर प्रक्रिया है आगे भी नौकरी दी जाएगी

वेबसाइट पर सरकार द्वारा दी गई जानकारी

इसे भी पढ़ेंःसांसद रामटहल चौधरी ने गांव गोद लेकर किया उसके साथ सौतेला व्यवहार, हहाप आदर्श गांव बनने से अब भी…

84458 युवाओं को मिला था 8 से 12 हजार तक का ऑफर लेटर

एक लाख छह हजार युवाओं को नौकरी देने का सरकार ने दावा किया था. जिसमें से 84458 युवाओं को 8 से 12 हजार तक की ही नौकरी का ऑफर लेटर बांटा गया था. इसमें से अधिकतर नौकरियां राज्य के बाहर की ही थी. इतने कम पैसे में राज्य से बाहर रहना, युवाओं के लिए बहुत ही परेशानी भरा हो सकता था. शायद यही वजह रही हो कि अभी तक महज 5420 युवाओं ने ही नौकरी ज्वाइन की.

इसे भी पढ़ेंः चुनावी मौसम में मोदी सरकार ने दबाई एक और रिपोर्ट

क्या बोले मिशन निदेशक

कौशल विकास विभाग के मिशन निदेशक रवि रंजन ने कहा कि हम सिर्फ 36 हजार युवाओं की ज्वाइनिंग रिकॉर्ड ट्रेस करेंगे. जिसमें अभी तक 5420 युवाओं ने ज्वाइन किया है. कई और ने भी किया है पर उनका फोन नहीं लगने से पता नहीं चल पा रहा है.

किस विभाग को कितनी नौकरी का मिला था टारगेट

• डायरेक्टोरेट ऑफ हायर टेक्निकल एजुकेशन : 12 हजार
• डायरेक्टोरेट ऑफ टेक्निकल एजुकेशन : 8 हजार
• झारखंड स्किल डेवलपमेंट मिशन : 40 हजार
• डिपार्टमेंट ऑफ रूरल मैनेजमेंट : 12 हजार
• डिपार्टमेंट ऑफ लेबर : 12 हजार
• डिपार्टमेंट ऑफ इंडस्ट्री : 2 हजार
• कल्याण गुरुकुल : 4 हजार

जिलावार टारगेट

जिलाटारगेटजिलाटारगेट
बोकारो6300चतरा3000
देवघर4500धनबाद8200
दुमका4000गढ़वा4000
गिरिडीह7400गोड्डा4000
गुमला3100हजारीबाग5300
जामताड़ा2400खूंटी1600
कोडरमा2200लातेहार2200
लोहरदगा1400पाकुड़2600
पलामू5900प. सिंहभूम4500
पू. सिंहभूम7000रामगढ़2800
रांची9000साहेबगंज3500
सरायकेला3300सिमडेगा1800

बेंगलुरु और दिल्ली में रोड शो

12 जनवरी को अयोजित होनेवाले स्किल समिट में एक लाख युवाओं  को नौकरी देने के मकसद से सरकार बेंगलुरु और दिल्ली में रोड शो  किया गया था. एक दिसंबर को बेंगलुरु में रोड शो  किया गया. रोड शो में मुख्य सचिव, कौशल विकास विभाग के सचिव राजेश  शर्मा और मिशन निदेशक रवि रंजन और सीईओ अमर झा शामिल हुए थे. वहीं पांच दिसंबर को दिल्ली में रोड शो किया गया था.जनवरी के पहले सप्ताह में मेगा प्लेसमेंट ड्राइव भी लगाया गया था.

इसे भी पढ़ेंः आचार संहिता में फंसा 23 पत्थर खदानों का टेंडर

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: