न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पढ़िए डीसी पाकुड़ ने न्यूज विंग को नोटिस भेज कर क्या कहा और उसपर डीसी दिलीप कुमार झा का क्या है पक्ष

यह पूरी तरह से आरोप और पक्ष दिलीप कुमार झा और एएमओ सुरेश शर्मा के हैं

1,048

Ranchi : डीसी पाकुड़ दिलीप कुमार झा और जिले के एएमओ सुरेश शर्मा ने झारखंड हाइकोर्ट के ही एक वकील राधा कृष्ण गुप्ता से न्यूज विंग के दफ्तर को लीगल नोटिस भेजा है. दोनों अधिकारियों ने न्यूज विंग में पाकुड़ अवैध खनन और प्रशासनिक कार्यप्रणाली के खिलाफ छप रही खबर का खंडन किया है. साथ ही कहा है कि इन खबरों से दोनों के मान की हानि हुई है. न्यूज विंग अपने पाठकों के लिए उन आरोपों और उन आरोपों पर डीसी पाकुड़ और एएमओ का जवाब छाप रहा है. यह पूरी तरह से आरोप और पक्ष दिलीप कुमार झा और एएमओ सुरेश शर्मा के हैं.

इसे भी पढ़ें –पाकुड़ के डीसी दिलीप कुमार झा और एएमओ सुरेश शर्मा ने न्यूज विंग को भेजा लीगल नोटिस, 20.30…

न्यूज विंग पर डीसी पाकुड़ का आरोप और जवाब

आरोप नंबर 1: न्यूज विंग ने खबर छापी कि पाकुड़ प्रशासन के संरक्षण में जिले में 15-20 जगहों पर अवैध उत्खनन का काम चल रहा है.

डीसी का जवाबः यह आधारहीन खबर है. पूरी तरह से गलत और खुद से बनायी गयी खबर है. इस सिलसिले में पाकुड़ जिले के पाकुड़िया पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज हुआ है. जांच हो रही है.

आरोप नंबर 2 : न्यूज विंग ने खबर छापी कि कुछ माइनिंग कंपनियों से कोलकाता में चार करोड़ का लेनदेन हुआ है और इस मामले को लेकर जिले में पोस्टरबाजी हुई है.    

डीसी का जवाबः यह आधारहीन खबर है. पूरी तरह से गलत और खुद से बनायी गयी खबर है. डीसी पाकुड़ और एएमओ कभी कोलकाता नहीं गए और कोई ऐसा डील किसी कंपनी के साथ नहीं हुआ है.

इसे भी पढ़ें –पाकुड़ः माफिया पर टास्कफोर्स की सख्ती, लेकिन सहायक खनन पदाधिकारी को कार्रवाई से परहेज

आरोप नंबर 3: न्यूज विंग ने खबर छापी कि टास्क फोर्स के जरिए जो भी वाहन अवैध खनन पकड़े गए उनके खिलाफ कभी कोई कार्रवाई नहीं हुई.

डीसी का जवाबः यह आधारहीन खबर है. पूरी तरह से गलत और खुद से बनायी गयी खबर है.

आरोप नंबर 4: न्यूज विंग ने खबर छापी कि माइनिंग अफसर अवैध खनन के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं करते.

डीसी का जवाबः यह आधारहीन खबर है. पूरी तरह से गलत और खुद से बनायी गयी खबर है.

इसे भी पढ़ें –चार दिनों में ही बदल जाता है पाकुड़ डीसी का फैसला, रसूख वाले को दिया बार लाइसेंस दूसरे को…

आरोप नंबर 5: न्यूज विंग ने खबर छापी कि जिला प्रशासन की संरक्षण में जिले में अवैध खनन का काम हो रहा है.

डीसी का जवाबः किसी तरह का कोई संरक्षण जिला प्रशासन की तरफ से अवैध खनन को नहीं मिला है. अवैध खनन को लेकर प्रशासन ने कठोर कार्रवाई की है.

आरोप नंबर 6: न्यूज विंग ने खबर छापी कि डीसी पाकुड़ का ओरमांझी में एक कनीय अभियंता के सहयोग से घर बन रहा है.

डीसी का जवाबः न्यूज विंग को बताना चाहिए कि घर कहां बन रहा है.

आरोप नंबर 7: न्यूज विंग ने खबर छापी कि डीसी पाकुड़ तानाशाही रवैये के हैं और अलि अकबर के करीबी हैं.

डीसी का जवाबः अली अकबर के साथ किसी तरह का कोई रिश्ता नहीं है.

आरोप नंबर 8: न्यूज विंग ने खबर छापी कि पत्थर माफिया से कोलकाता में डील हुई है.

डीसी का जवाबः यह आधारहीन खबर है. पूरी तरह से गलत और खुद से बनायी गयी खबर है. ऐसी कोई डील नहीं हुई है.

इसे भी पढ़ें –पाकुड़ डीसी की PMO में शिकायत- डीसी के तानाशाही रवैये से विकास कार्य ठप, हो न्यायिक जांच

आरोप नंबर 9: न्यूज विंग ने खबर छापी कि पीएमओ में डीसी पाकुड़ की शिकायत करने वाले ने गृह मंत्रालय से अपने लिए सुरक्षा की मांग की है.

डीसी का जवाबः यह आधारहीन खबर है. पूरी तरह से गलत और खुद से बनायी गयी खबर है.

आरोप नंबर 10: न्यूज विंग ने खबर छापी कि डीसी पाकुड़ मेनेजेबल हैं

डीसी का जवाबः यह आधारहीन खबर है. पूरी तरह से गलत और खुद से बनायी गयी खबर है.

इसे भी पढ़ें –पाकुड़ शहर में डीसी के खिलाफ पोस्टरबाजी, जूनियर इंजीनियर और खनन पदाधिकारी के साथ मिलकर…

अन्य आरोप जिनके जवाब उन्होंने नहीं दिए

डीसी पाकुड़ दिलीप कुमार झा ने दूसरे भी आरोप लगाए हैं. सभी आरोप नीचे दिए गए हैं.

अधिवक्ता का कहना है कि न्यूज विंग ने मेरे क्लाइंट के बारे में बिना किसी सबूत के गलत खबर चलाया.

गलत खबर चलने से मेरे क्लाइंट की इमेज खराब हुई है. जिससे वो मानसिक तौर से परेशान हैं.

अधिवक्ता का कहना है कि मेरे क्लाइंट एक योग्य अधिकारी हैं. समाज में उनकी इज्जत है. उनका एक उम्दा करियर का इतिहास रहा है.

अधिवक्ता का कहना है कि न्यूज विंग ने मेरे क्लाइंट के खिलाफ गंभीर आरोप लगाया है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.


हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: