Business

आरबीआई सिस्टम में नकदी तरलता बढ़ायेगा, 35,000 करोड़ डालेगा बेंकों में

 NewDelhi : आरबीआई सिस्टम में नकदी तरलता बढ़ाने के लिए लगभग 35,000 करोड़ रुपये (500 करोड़ डॉलर) डालेगा. आरबीआई सूत्रों के अनुसार यह नकदी बैंकों के साथ तीन साल के लिए विदेशी विनिमय प्रबंधन के जरिए डाली जायेगी. इस प्रावधान के तहत बैंक स्वैप अवधि के आखिर में आरबीआई को अमेरिकी डॉलर बेच सकेंगे. आरबीआई ने बयान में कहा कि दीर्घावधि के लिए नकदी तरलता बढ़ाने की योजना के तहत यह कदम उठाया जा रहा है.  बोली के तहत डॉलर विनिमय की सुविधा 26 मार्च को खोली जाएगी. प्रक्रिया में भाग लेने प्रतिभागी प्रीमियम के तौर पर बोली लगायेंगे, जो उन्हें आरबीआई को भुगतान करनी होगी.

इसके लिए न्यूनतम बोली का आकर 2.50 करोड़ डॉलर यानी करीब 175 करोड़ रुपये का होगा, जो एक मिलियन डॉलर (सातकरोड़ रुपये) के गुणांक में होगा.  जानकारों के अनुसार आरबीआई की ओर से यह पैसा बैंकिंग सिस्टम में डाले जाने से बैंकों को काफी राहत मिलेगी. वहीं बैंकों को मिली इस राहत का फायदा आम लोगों को भी हो सकेगा. यह राशि सिस्टम में आने से बैंक आसानी से छोटे उद्योगों व आम लोगों को लोन दे सकेंगे.

अजीम प्रेमजी एशिया के दानवीर कर्ण, अबतक 1.45 लाख करोड़ रुपये कर चुके हैं दान

इसे भी पढ़ेंःआतंकी अजहर मामले पर कांग्रेस का तंजः विफल विदेश नीति फिर उजागर, काम नहीं आयी हगप्लोमेसी

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button